बिहार के 29 पुलिस जांबाजों को मिलेगा राष्ट्रपति पदक, यहां देखें नाम

बिहार के 29 पुलिस जांबाजों को मिलेगा राष्ट्रपति पदक, सिर्फ यहां देखें उनके नामराज्य सरकार द्वारा गृह मंत्रालय को सात पुलिस अफसरों के नामों की अनुशंसा विशिष्ट सेवा के पदक के लिए की गई है उसमें तीन आईपीएस व चार अन्य रैंक के पुलिस अफसर हैं। इनमें एडीजी रवीन्द्रन शंकरण भी शामिल हैं

29 police bravehearts of Bihar will get President's Medal, see their names here
29 police bravehearts of Bihar will get President's Medal, see their names here
इस खबर को शेयर करें

पटना: गणतंत्र दिवस के अवसर पर राष्ट्रपति द्वारा दिए जानेवाले पुलिस पदक के लिए बिहार से 29 नामों की अनुशंसा की गई है। विशिष्ट सेवा पदक के लिए सात जबकि सराहनीय सेवा के लिए 22 पुलिस अधिकारियों व कर्मियों के नाम भेजे गए हैं। राज्य सरकार द्वारा नामों की अनुशंसा गृह मंत्रालय से कर दी गई है।

विशिष्ट सेवा के लिए सात पुलिस अफसरों के नाम भेजे गए
राज्य सरकार द्वारा गृह मंत्रालय को जिन सात पुलिस अफसरों के नामों की अनुशंसा विशिष्ट सेवा के पदक के लिए की गई है उसमें तीन आईपीएस और चार अन्य रैंक के पुलिस अफसर हैं। सूत्रों के मुताबिक इनमें एडीजी रवीन्द्रन शंकरण, एडीजी पारसनाथ और एडीजी बच्चु सिंह मीणा का नाम शामिल है। इनके अलावा विशिष्ट सेवा पदक के लिए विनय कुमार शर्मा, बिनय कृष्ण, दिलीप कुमार सिंह और रंजीत कुमार के नाम भी भेजे गए हैं।

सराहनीय सेवा पदक को 22 नामों की अनुशंसा
विशिष्ट सेवा पदक के लिए भी बिहार पुलिस के 22 अधिकारियों और कर्मियों के नाम की अनुशंसा की गई है। इसमें संजय कुमार चौरसिया, रूपेश थापा, मुख्तार अली, संजय कुमार, धनंजय कुमार, धर्मराज शर्मा, आलोक कुमार, बैद्यनाथ कुमार, अक्षयबर पाण्डेय, सत्येन्द्र कुमार, सिकंदर कुमार,पंचरत्न प्रसाद गौंड, बॉस इंड, अवधेश कुमार सिंह, आलमनाथ भूईया, देवेन्द्र कुमार, संतोष कुमार दीक्षित, संजय कुमार शेखर, सरवर खां, ओम प्रकाश सिंह, रासबिहारी चौधरी और विनय कुमार के नाम शामिल हैं। ये पुलिस में अलग-अलग रैंक और स्थलों पर तैनात हैं।

प्रत्येक वर्ष दो बार मिलता है पदक
प्रत्येक वर्ष दो बार राष्ट्रपति पुलिस पदक प्रदान किए जाते हैं। गणतंत्र दिवस और स्वतंत्रता दिवस के पूर्व इसकी घोषणा होती है। बहादुरी भरे कार्य के लिए पुलिसकर्मियों को गैलेंट्री से अलंकृत किया जाता है। इसके अलावा विशिष्ट और सराहनीय सेवा पदक भी प्रदान किए जाते हैं। राज्य सरकारों और केन्द्रीय अर्द्धसैनिक बलों द्वारा इसके लिए गृह मंत्रालय को नामों की अनुशंसा की जाती है। गृह मंत्रालय के अधीन स्क्रीनिंग कमेटी द्वारा समीक्षा कर नामों का चयन पदक के लिए किया जाता है।