जिंदा ‘नास्त्रेदमस’ ने की 2024 के लिए डरावनी भविष्यवाणी, लोगों से कहा- सावधान रहें…

इस खबर को शेयर करें

नई दिल्ली. भविष्य देखने का दावा करने वाले एक शख्स ने लोगों को चेतावनी दी है. उसने बताया है कि 2024 में आखिर ऐसा क्या होगा, जिससे लोगों को खतरा है. इस शख्स का नाम एथोस सैलोमे (Athos Salomé) है. वह ब्राजील में रहता है. अपनी भविष्यवाणियों को लेकर उसे जीवित नास्त्रेदमस भी कहा जाता है. उसके किए कई दावे सच भी हुए हैं. इसमें पिछले साल महारानी एलिजाबेथ द्वितीय की मौत से लेकर एलन मस्क के ट्विटर को एक्स करना शामिल है. एथोस का कहना है कि दुनिया की कुछ प्रमुख घटनाएं ऐसी हैं, जिन्हें वो अपनी क्षमताओं से भी प्रभावित नहीं कर सकते.

डेली स्टार से बात करते हुए सैलोमे ने लोगों को सतर्क रहने को कहा है. उन्होंने कहा कि आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस सीसीटीवी की पावर को और बढ़ा रहा है. चीन और अमेरिका में बन रहीं फेशियल रिकग्निशन टेक्नोलॉजी एक ऐसा युग लेकर आएंगी, जिसमें प्राइवेसी (गोपनीयता) नहीं होगी. सैलोमे ने कहा, ‘आधुनिक निगरानी की स्थिति हमारी दुनिया में बड़े स्तर पर निगरानी और नियंत्रण के बड़े जाल का प्रतीक है. हम तेजी से एक ऐसी वास्तविकता की ओर बढ़ रहे हैं, जहां प्राइवेसी ही सरकारों और कॉर्पोरेशंस के लिए लोगों की व्यक्तिगत जानकारी तक पहुंच प्रदान करने वाली धारणा बन जाएगी.’

सैलोमे के ऐसा कहने से पहले खबर आई थी कि रूस देश भर में 50 लाख कैमरा लगाएगा. राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन अपने नागरिकों की निगरानी बढ़ाएंगे. रूस का डिजिटल डेवलपमेंट मंत्रालय पूरे सिस्टम को केंद्रीकृत करना चाहता है ताकि क्रेमलिन (रूसी राष्ट्रपति का कार्यालय) में बैठे लोगों को फुटेज मिल सके. रूसी समाचार आउटलेट कोमर्सेंट के अनुसार, यह घोषणा मकसुत शादेव द्वारा की गई थी, जो संबंधित मंत्रालय चलाते हैं. एथोस सैलोमे ने लोगों से सतर्क रहने को कहा कि कैसे उनकी निजी जानकारी इकट्ठा कर इस्तेमाल की जा रही है.

अय्याशी पड़ी बॉयफ्रेंड को भारी, गर्लफ्रेंड की सजा देखकर लोग सन्न रह गए
सैलोमे ने कहा, ‘मैं ये समझता हूं कि मेरी भविष्यवाणियां कभी कभार दिमाग में कल्पना की गई चीज की तरह महसूस हो सकती हैं. यह शून्यता और पूर्णता से होकर गुजरती हैं. ये कोई अनुमान नहीं हैं. बल्कि यह कुछ घटनाओं के दोबारा घटित होने की संभावना पर आधारित भविष्यवाणियां हैं. फिलहाल ये भविष्यवाणियां 2024 के लिए हैं. ये आने वाले वर्षों में भी सच हो सकती हैं.’