Anas Mallick: तालिबान ने पाकिस्तानी पत्रकार अनस मलिक को अगवा किया, क्रूरता की सारी हदें पार

पाकिस्तानी पत्रकार अनस मलिक, जो तालिबान के अफगानिस्तान के अधिग्रहण की पहली वर्षगांठ को कवर करने के लिए अफगानिस्तान में थे, का तालिबान ने अपहरण कर लिया और मारपीट की।

Anas Mallick: Taliban kidnapped Pakistani journalist Anas Malik, crossed all limits of cruelty
Anas Mallick: Taliban kidnapped Pakistani journalist Anas Malik, crossed all limits of cruelty
इस खबर को शेयर करें

काबुल। पाकिस्तानी पत्रकार अनस मलिक, जो तालिबान के अफगानिस्तान के अधिग्रहण की पहली वर्षगांठ को कवर करने के लिए अफगानिस्तान में थे, का तालिबान ने अपहरण कर लिया और मारपीट की। हालांकि बाद में पड़ोसी देश में पाकिस्तान के राजदूत मंसूर अहमद खान ने शुक्रवार को पुष्टि की कि वह सुरक्षित हैं। एक भारतीय समाचार चैनल के लिए काम करने वाले मलिक तालिबान के अधिग्रहण और हाल ही में अमेरिकी ड्रोन हमले में अल-कायदा प्रमुख अयमान अल-जवाहिरी की हत्या को कवर करने के लिए अफगानिस्तान गए हुए थे।

गुरुवार रात को मलिक हुए लापता
मलिक के अफगानिस्तान पहुंचने के एक दिन बाद गुरुवार की रात से उनके लापता होने की खबरें आने लगीं। उनके साथी पत्रकार गुरुवार रात एक ट्वीट में मलिक के लापता होने की खबर शेयर करने वाले पहले व्यक्तियों में से एक थे। उन्होंने बताया कि मलिक का फोन नहीं लग रहा था। उसके बारे में कोई जानकारी काबुल में पाकिस्तान दूतावास के पास उपलब्ध नहीं थी।

पाक राजदूत ने मलिक के सुरक्षित होने की दी जानकारी
बाद में, अफगानिस्तान में पाकिस्तान के राजदूत मंसूर अहमद खान ने शुक्रवार को पुष्टि की कि मलिक अब काबुल में हैं और सुरक्षित हैं। राजदूत ने ट्वीट किया, ‘पाकिस्तानी पत्रकार अनस मलिक के बारे में रिपोर्ट के संबंध में, मैंने उनसे फोन पर थोड़ी देर बात की है। वह काबुल में हैं और सुरक्षित हैं। दूतावास उनके संपर्क में रहेगा।’

मलिक ने बिलावल भुट्टो का लिया इंटरव्यू

पाकिस्तान के विदेश मंत्री बिलावल भुट्टो ने भी ट्विटर के जरिए जानकारी शेयर की थी। मलिक ने भी ट्विटर पर अपनी सुरक्षा की जानकारी देते हुए कहा, ‘मैं वापस आ गया हूं।’ मलिक ने हाल ही में ताशकंद में शंघाई सहयोग परिषद (एससीओ) की बैठक के इतर पाकिस्तान के विदेश मंत्री भुट्टो का इंटरव्यू लिया था।

मलिक के छोटे भाई हसन मलिक ने एक ट्वीट में लिखा था, ‘मेरे बड़े भाई और पत्रकार अनस मलिक पिछले 12 घंटे से अधिक समय से काबुल में लापता हैं। अधिकारियों से अनुरोध है कि कृपया मामले को आगे बढ़ाएं और उनकी त्वरित और सुरक्षित वसूली सुनिश्चित करें। प्रार्थनाओं का भी अनुरोध किया।’

‘हमें हथकड़ी पहनाई गई, आंखों पर पट्टी बांधी गई’
जो कुछ हुआ, उसके बारे में बताते हुए मलिक ने कहा, ‘हमें हथकड़ी पहनाई गई, आंखों पर पट्टी बांधी गई और बेतहाशा आरोपों का सामना करना पड़ा। उसके बाद हमारी पत्रकारिता की साख पर भी अच्छी तरह से पूछताछ की गई। व्यक्तिगत सवाल भी हमसे किए गए।’ उन्होंने अपने फटे कपड़े और चोटें दिखाकर अपने दर्दनाक अनुभव का भी खुलासा किया।

यह मलिक का इस क्षेत्र का पहला दौरा नहीं था। उन्होंने पिछले साल संयुक्त राज्य अमेरिका की वापसी के बाद तालिबान के अधिग्रहण को व्यापक रूप से कवर किया था। महत्वपूर्ण बात यह है कि स्थानीय निर्माता और उसके ड्राइवर को अभी भी तालिबान के पास रखा गया है। हालांकि उन्होंने कहा कि वे उन्हें जल्द ही रिलीज कर देंगे, लेकिन कोई अपडेट नहीं आया है।

तालिबान ने भारतीय फोटो जर्नलिस्ट दानिश को मार डाला
16 जुलाई, 2021 को अफगान सुरक्षा बलों और तालिबान के बीच संघर्ष को कवर करते हुए, पुलित्जर विजेता भारतीय फोटो जर्नलिस्ट दानिश सिद्दीकी को तालिबान द्वारा अवैध रूप से हिरासत में लिया गया, प्रताड़ित किया गया और मार डाला गया, और उनके शरीर को क्षत-विक्षत कर दिया गया। यह कोई इकलौती घटना नहीं थी क्योंकि पत्रकारों सहित आम नागरिकों पर हमले की कई घटनाएं हुई हैं।

कंधार प्रांत में हुई दानिश की हत्या
38 वर्षीय सिद्दीकी, जो भारत में रायटर्स के मुख्य फोटोग्राफर थे, की अफगानिस्तान में हिंसा को कवर करने के दौरान कंधार प्रांत के स्पिन बोल्डक जिले में हत्या कर दी गई थी। दानिश सिद्दीकी की मां शाहिदा अख्तर ने कहा, ‘हमारे प्यारे बेटे, दानिश की तालिबान ने हत्या कर दी, क्योंकि वह सिर्फ अपने पत्रकारीय कर्तव्यों को पूरा कर रहा था। हिरासत में रहने के दौरान उन्हें काफी प्रताड़ित किया गया। दानिश ने हमेशा लोगों के दर्द और पीड़ा को दिखाया। वह हमेशा बहादुर और साहसी थे।’ नई दिल्ली के मूल निवासी सिद्दीकी के परिवार में उनकी पत्नी राईक और दो बच्चे हैं।

7 हजार मीडियाकर्मियों की गई नौकरी
पिछले साल अगस्त में तालिबान के सत्ता में आने के बाद से अफगानिस्तान में 200 से अधिक मीडिया आउटलेट बंद हो गए हैं और 7,000 मीडियाकर्मियों की नौकरी चली गई है, जबकि देश की अर्थव्यवस्था सिकुड़ती जा रही है।