बिहार में एक और पुल ढहा; भारी बारिश में 8 पिलर धंसे, आवागमन बाधित, दर्जनों गांव प्रभावित

Another bridge collapses in Bihar; 8 pillars caved in due to heavy rain, traffic disrupted, dozens of villages affected
Another bridge collapses in Bihar; 8 pillars caved in due to heavy rain, traffic disrupted, dozens of villages affected
इस खबर को शेयर करें

जमुई: बिहार में एक और पुल भारी बारिश के चलते धंस गया। जिससे पुल पर यातायात पूरी तरह थम गया। जमुई जिले के काजवे प्रखंड में बरनार नदी में भारी बारिश के चलते आई बाढ़ में सोनो – चुरहैत घाट पर बना काजवे पुल के 7 – 8 पिलर क्षतिग्रस्त हो गए। जिससे पुल नीचे की ओर धंस गया है, और आवागमन पूरी तरह बाधित हो गया है। काजवे प्रखंड के पश्चिमी भाग चरकापत्थर थाना क्षेत्र के दर्जनों गांव की लाइफ लाइन माना जाता है।

इस काजवे पुल के क्षतिग्रस्त होने से प्रखंड की आधी आबादी का आवागमन प्रभावित हो गया है। हालांकि बरनार नदी के अन्य घाटों पर भी पुल का नवनिर्माण किया गया है। लेकिन सबसे ज्यादा उपयोगी और व्यस्त पुल यही था। शुक्रवार देर शाम जैसे ही प्रशासन को इसकी सूचना मिली सीओ राजेश कुमार और एसएचओ चितरंजन कुमार मौके पर पहुंच कर सुरक्षा के मद्देनजर पुल के दोनों ओर बेरिकेटिंग कर पुल पर आवागमन पर पूरी तरह प्रतिबंध लगा दिया है।

शानिवर सुबह होते ही काजवे क्षतिग्रस्त होने की सूचना आग की तरह फैल गई। और लोगों की भीड़ जमा हो गई। क्षतिग्रस्त पुल पर ही सैकड़ों की संख्या में लोग जमा हो गए। वो भी तब जब पुल नदी में धंसा हुआ था। ऐसे में कभी भी कोई बड़ा हादसा हो सकता था। आवागमन ठप होने के कारण कई गांव के लोगों का शहर से संपर्क टूट गया है। प्रशासन ने लोगों से सहयोग की अपील की है। वहीं ग्रामीणों का कहना है कि पुल की मरम्मत की जरूरत थी, लेकिन प्रशासन ने ध्यान नहीं दिया। इससे पहले बिहार में खगड़िया-अगुवानी- सुल्तानगंज के बीच 1700 करोड़ से ज्यादा की लागत से बना रहा पुल नदी में समा गया था।