इस टीम के लिए खेलने के लिए अब मुंबई रवाना होंगे अर्जुन तेंदुलकर, सचिन तेंदुलकर ने भी किया कन्फर्म

सचिन तेंदुलकर ने कहा कि अपने करियर के इस समय में अर्जुन के लिए ज्यादा से ज्यादा मैदान पर बिताना काफी अहम है। मुझे विश्वास है कि इस बदलाव से अर्जुन के अधिक प्रतिस्पर्धी मैचों में खेलने की संभावना में सुधार होगा।

The opposition did not like Nitish Kumar's inverted politics? Rahul, Mamta or Kejriwal, no one congratulated
The opposition did not like Nitish Kumar's inverted politics? Rahul, Mamta or Kejriwal, no one congratulated
इस खबर को शेयर करें

नई दिल्ली। अर्जुन तेंदुलकर ने मुंबई की टीम छोड़ दी है और वो घरेलू क्रिकेट में गोवा के लिए खेलते हुए नजर आएंगे। बाएं हाथ के इस तेज गेंदबाजी आलराउंडर ने 2020/21 सीजन के लिए घरेलू क्रिकेट में मुंबई के लिए डेब्यू किया था, लेकिन उसके बाद से उन्हें मुंबई के लिए सिर्फ दो मैचों में ही खेलने का मौका मिला।वह लीग चरण के लिए मुंबई की रणजी ट्रॉफी टीम का हिस्सा थे, लेकिन उन्हें किसी मैच में खेलने का मौका नहीं मिला।

अर्जुन तेंदुलकर के पिता व पूर्व भारतीय बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर ने भी इस खबर की पुष्टि की और क्रिकबज से बात करते हुए कहा कि अपने करियर के इस समय में अर्जुन के लिए ज्यादा से ज्यादा मैदान पर बिताना काफी अहम है। मुझे विश्वास है कि इस बदलाव से अर्जुन के अधिक प्रतिस्पर्धी मैचों में खेलने की संभावना में सुधार होगा साथ ही इसके जरिए वो अपने क्रिकेट करियर के एक नए चरण की शुरुआत कर रहे हैं।

गोवा क्रिकेट एसोसिएशन के अध्यक्ष सूरज लोटिलकर ने क्रिकबज से कहा कि हमें बाएं हाथ के तेज गेंदबाज की जरूरत है और अर्जुन ने रुचि दिखाई है। हम आम तौर पर पेशेवरों की भर्ती करते हैं और अगर वह हमारी टीम की आवश्यकताओं के अनुरूप है तो उसे हमारे चयनकर्ता जरूर मौका देंगे। अर्जुन लिस्ट ए क्रिकेट और रणजी ट्रॉफी में अभी अनकैप्ड हैं। हालांकि उनके पास अंतरराष्ट्रीय टीमों के नेट सत्र में गेंदबाजी का पर्याप्त अनुभव है। वह भारत के बाहर लीग में भी खेल चुके हैं। अर्जुन के शामिल होने से गोवा टीम को और मजबूती मिलेगी और बाएं हाथ का यह तेज गेंदबाज उनके लिए रणजी ट्रॉफी और लिस्ट ए में पदार्पण करने के लिए तैयार है।

अर्जुन तेंदुलकर अभी आइपीएल में भी अनकैप्ड प्लेयर हैं। उन्हें साल 2022 की नीलामी में मुंबई इंडियंस की टीम ने 30 लाख रूपये में खरीदा था, लेकिन वो बेंच पर ही बैठे रहे थे। हालांकि मुंबई टीम प्रबंधन ने उन्हें टीम में शामिल किए जाने के संकेत दिए थे, लेकिन उन्हें फिर भी मौका नहीं मिला था। वैसे अब ये देखना दिलचस्प होगा कि गोवा के लिए खेलने के बाद उनका करियर किस दिशा में जाता है।