हिमाचल में शिक्षक भर्ती को लेकर बुरी खबर, नहीं होगी…

हिमाचल प्रदेश स्कूल शिक्षा बोर्ड शैक्षणिक सत्र 2023-24 से सूबे के तीसरी से पांचवीं कक्षा के बच्चों के लिए संस्कृत की पढ़ाई शुरू करेगा। छोटी कक्षाओं में यह विषय पढ़ाने के लिए संस्कृत अध्यापक भर्ती नहीं किए जाएंगे।

इस खबर को शेयर करें

धर्मशाला : शैक्षणिक सत्र 2023-24 से हिमाचल प्रदेश के स्कूलों में तीसरी से पांचवीं कक्षा में शुरू होने वाली संस्कृत की पढ़ाई के लिए संस्कृत शिक्षक भर्ती नहीं किए जाएंगे। इन कक्षाओं को पढ़ाने के लिए जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थानों के माध्यम से अध्यापकों को प्रशिक्षण दिया जाएगा। प्रशिक्षण के बाद अध्यापक स्कूलों में तीसरी से पांचवीं कक्षा तक पढ़ाएंगे। पढ़ाई केवल अभ्यास वर्क बुक के माध्यम से ही करवाई जाएगी। बच्चों को इन कक्षाओं में अक्षर ज्ञान की ही जानकारी मिलेगी। तीसरी और चौथी कक्षा में कोई परीक्षा नहीं ली जाएगी। पांचवीं कक्षा में संस्कृत विषय का टेस्ट लिया जाएगा।

हिमाचल प्रदेश स्कूल शिक्षा बोर्ड शैक्षणिक सत्र 2023-24 से सूबे के तीसरी से पांचवीं कक्षा के बच्चों के लिए संस्कृत की पढ़ाई शुरू करेगा। छोटी कक्षाओं में यह विषय पढ़ाने के लिए संस्कृत अध्यापक भर्ती नहीं किए जाएंगे। स्कूलों में तैनात अध्यापकों को ही यह विषय पढ़ाने का प्रशिक्षण दिया जाएगा। इन शिक्षकों के लिए पहले जिला और बाद में ब्लॉक स्तर प्रशिक्षण शिविर होंगे। नए शैक्षणिक सत्र से शुरू होने वाली यह पढ़ाई अभ्यास वर्क बुक के आधार पर होगी। इसमें विद्यार्थियों को नोटबुक को केवल भरना ही होगा।
तीसरी से पांचवीं कक्षा के लिए शैक्षणिक सत्र 2023-24 में संस्कृत की पढ़ाई शुरू की जाएगी। इसके लिए स्कूलों में संस्कृत अध्यापकों की नियुक्ति नहीं की जाएगी, बल्कि स्कूलों में ही तैनात अध्यापकों को संस्कृत विषय पढ़ाने का प्रशिक्षण जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थानों के माध्यम से उपलब्ध करवाया जाएगा। इन छोटी कक्षाओं में पढ़ाई अभ्यास वर्क बुक के माध्यम से करवाई जाएगी। – डॉ. सुरेश कुमार सोनी, अध्यक्ष, स्कूल शिक्षा बोर्ड धर्मशाला।