चाव से नमकीन-चाय पीने वाले हो जाएं सावधान, हो सकती हैं गंभीर बीमारियां

Namkeen Side Effects: रोज चाव से नमकीन और चाय पीने वाले लोग जरा सावधान हो जाइए, क्योंकि इससे आपकी सेहत बिगड़ सकती है. दरअसल, नमकीन बनाने के प्रोसेस में मैदा और इस्तेमाल हुआ तेल आपकी सेहत के लिए हानिकारक हो सकता है. तो आइए जानते हैं कि इससे क्या-क्या नुकसान हो सकते हैं.

Be careful, those who drink salty-tea with passion, there may be serious diseases
Be careful, those who drink salty-tea with passion, there may be serious diseases
इस खबर को शेयर करें

Namkeen Side Effects For Health: रोज सुबह-शाम चाय के साथ नमकीन खाने वाले लोगों को बता दें कि अनजाने में आप कई बड़ी बीमारियों को दावत देते हैं. दरअसल, जिस चाव से आप नमकीन खाते हैं उतना ही नुकसान होता है. नमकीन के टेस्ट के आगे कुछ लोग सब कुछ भूल जाते हैं और रोज सुबह इसे खाने की आदत बना लेते हैं, लेकिन बता दें कि नमकीन बनने के प्रोसेस को जानने के बाद आप कभी इसे नहीं खाएंगे. खास बात तो यह है कि न सिर्फ नमकीन बल्कि इसके साथ चाय पीना भी आपकी सेहत के लिए हानिकारक है. तो आइए न्यूट्रिशन एक्सपर्ट ‘निखिल वत्स’ से जानने का प्रयास करते हैं कि इससे क्या-क्या नुकसान हो सकते हैं.

एक्सपर्ट निखल बोले -नमकीन सेहत के लिए है खतरनाक
न्यूट्रिशन एक्सपर्ट ‘निखिल वत्स ने बताया कि नमकीन सेहत के लिए बिल्कुल भी ठीक नहीं है. उन्होंने बताया कि इसको बनाने का प्रोसेस सबसे ज्यादा हानिकारक होता है. दरअसल, नमकीन में इस्तेमाल होने वाला मैदा, जो efined carbohydrate होता है, जिसे पहचाने में बहुत ज्यादा समय लगता है और इससे बॉडी में चर्बी भी बढ़ती है, क्योंकि ये सीधा-सीधा इंसुलिन फैट गैन हॉर्मोन को टिगर करने का काम करता है.

हाई बीपी की भी हो सकती है शिकायत
आगे उन्होंने बताया कि इसके बाद जब आगे का प्रोसेस किया जाता है तो इसमें refined soya oil ya mustard oil में किया जाता है, जिसकी वजह से arteries में plaque बनने लग जाता है. ऐसे में इससे आपको बीपी की बीमारी हो सकती है. इसके साथ ही उन्होंने बताया नमकीन और चाय से बॉडी में sugar coating jisse toxins प्रवेश करते हैं, जिससे आपका लिवर भी प्रभावित हो सकता है. यानी आपको एक नहीं बल्कि कई बड़ी बीमारियां इसके सेवन से हो सकती हैं.

(Disclaimer: यहां दी गई जानकारी घरेलू नुस्खों और सामान्य जानकारियों पर आधारित है. इसे अपनाने से पहले चिकित्सीय सलाह जरूर लें. )