बिहार: अर्थशास्त्र के शिक्षक ने DSP बनते ही मचा दिया तहलका, रिश्तेदारों की भर दी खाली झोलियां

बिहार में कभी अर्थशास्त्र का शिक्षक रहा रंजीत रजक अपने दिमाग के बल बूते बीपीएससी परीक्षा पास कर DSP बन बैठा। उसने अपने इसी दिमाग का शातिरना इस्तेमाल करते हुए तहलका मचा दिया। रिश्तेदारों के खजाने भर दिए। यही नहीं रसोइया तक को खाकी वर्दी पहना दी।

Bihar: Economics teacher created panic as soon as he became DSP, relatives filled empty bags
Bihar: Economics teacher created panic as soon as he became DSP, relatives filled empty bags
इस खबर को शेयर करें

BPSC Paper Leak Case,: 67वीं बिहार लोक सेवा आयोग (बीपीएससी) पेपर लीक प्रकरण में चल रही जांच प्रक्रिया में डीएसपी रंजीत रजक को आर्थिक अपराध इकाई ने गिरफ्तार कर लिया था। अब उनके ऊपर बिहार सरकार ने बड़ी कार्रवाई की है। आर्थिक अपराध इकाई ने उनके खिलाफ मिले अहम सबूतों के आधार पर रजक को 13 जुलाई को गिरफ्तार किया था। इस कार्रवाई के बाद अब सरकार ने उन्हें तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया है। इस बाबत गृह विभाग ने आरोपी डीएसपी के निलंबन की अधिसूचना जारी कर दी है।

इससे पहले गिरफ्तार DSP रंजीत रजक के संबंध में कई राजफाश हुए हैं। बिहार की जिस गांव की मिट्टी में डीएसपी रंजीत रजक पले बढ़े थे, वहां के लोग ऐसा कहते हैं कि डीएसपी होने के चलते उनकी पहचान बड़े-बड़े लोगों तक थी। लेकिन वो ऐसा काम भी कर सकते हैं, इसका अंदाजा किसी को नहीं था। बता दें कि रंजीत रजक कटिहार के मनिहारी थाना क्षेत्र के केवाला पंचायत के हसवर गांव के रहने वाले हैं। बता दें कि पेपर लीक मामले में मुख्य आरोपी शक्ति कुमार की गया से हुई गिरफ्तारी के बाद डीएसपी रंजीत रजक की संदिग्ध भूमिका सामने आई थी।