श्रीकांत त्यागी वाली सोसायटी में फिर चला बुलडोजर, तोड डाल़ा सबका अवैध अतिक्रमण

Omaxe Grand Society News: अवैध अतिक्रमण पर बुलडोजर चला तो फ्लैट की एक महिला हाथ जोड़कर सामने आ गई। उसने अपील करते हुए कहा कि आप लोगों से रिक्वेस्ट है प्लीज इसको मत तोड़िए। मंदिर है ये इसे मत तोड़िए। हमारे गुरुजी का मंदिर है ये प्लीज मत तोड़िए।

Bulldozer started again in Shrikant Tyagi's society, broke illegal encroachment of all
Bulldozer started again in Shrikant Tyagi's society, broke illegal encroachment of all
इस खबर को शेयर करें

नोएडा: नोएडा की ग्रैंड ओमैक्स सेक्टर 93 बी सोसायटी में आज एक बार फिर से बुलडोजर चला। प्रशासन ने अतिक्रमण पर शुक्रवार को भारी विरोध के बावजूद बुलडोजर चला दिया है। सोसायटी के लोग गेट के बाहर धरने पर सुबह से बैठ गए थे। श्रीकांत त्यागी (Shrikant Tyagi) वाली सोसायटी में भारी सुरक्षा व्यवस्था के बीच बुल्डोजर आखिरकार अंदर गया। जिन लोगों ने फ्लैट में बॉलकनी या घर के हिस्से को बढ़ाकर बनाया था, वहां बुल्डोजर चल गया। इस बीच फ्लैटवासी रोते-बिलखते और हाथ जोड़ते नजर आए।

प्रशासन और पुलिस की मौजूदगी में अवैध अतिक्रमण पर बुलडोजर चला तो फ्लैट की एक महिला हाथ जोड़कर सामने आ गई। उसने अपील करते हुए कहा कि आप लोगों से रिक्वेस्ट है प्लीज इसको मत तोड़िए। मंदिर है ये इसे मत तोड़िए। हमारे गुरुजी का मंदिर है ये प्लीज मत तोड़िए। वहीं एक पुरुष ने कहा कि एक इंच भी यह बाहर नहीं आया है। वहीं एक अन्य जगह अतिक्रमण के खिलाफ ऐक्शन के दौरान एक परिवार की महिलाएं बिलखती हुई नजर आईं।

इसके बीच सोसायटी की तरफ से वकीलों की टीम भी पहुंच गई। विरोध को देखते हुए भारी संख्या में पुलिस फोर्स सोसाइटी में तैनात कर दी गई है। वहीं, श्रीकांत त्यागी की पत्नी अनु त्यागी भी सामने आईं और बुलडोजर कार्रवाई को गलत बताया। उन्होंने कहा कि किसी का घर नहीं तोड़ा जाना चाहिए। नोएडा प्राधिकरण-प्रशासन ने अवैध निर्माण और अतिक्रमण करने वालों को गुरुवार तक समय दिया था। शुक्रवार तक किसी ने भी अतिक्रमम और अवैध निर्माण नहीं हटाया।

वहीं, श्रीकांत त्यागी के पत्नी ने बुलडोजर कार्रवाई को गलत बताया है। आज सांसद डॉ. दिनेश शर्मा क्यों नहीं आए? मुझे बुरा लग रहा है, जिस तरह मेरा घर तोड़ा गया है, उस तरह किसी का घर न तोड़ा जाए। इंसानियत के नाते मेरे साथ जो गलत हुआ, वो किसी के साथ न हो। मेरा फ्लैट लीगल है, उन लोगों का लीगल है। आज जो सोसाइटी के 100 से 150 लोग आए हुए हैं, वो मेरे कहने से नहीं हुए हैं। उनको लगा गलत हो रहा है, तब आए हैं।

उन्होंने कहा कि एक महिला की वजह से हमारे साथ गलत किया गया, लेकिन आज जब सब लोगों के साथ गलत हो रहा है तो वो सामने नहीं आ रही है। फ्लैट तोड़े जाने पर मिठाई बांटने के सवाल पर अनु त्यागी ने कहा कि इन लोगों की इंसानियत मर गई है। इनसे बेहतर तो एक जानवार होता है। पेड़ों का जो मुद्दा उठाया गया था, वो मुद्दा ही नहीं था, पेड़ लगे ही नहीं थे।