दीप सिद्धू की मौत से फिर सवालों के घेरे में ’स्कॉर्पियो’ लोगों की जान से खिलवाड

इस खबर को शेयर करें

मशहूर पंजाबी सेलिब्रिटी दीप सिद्धू की मंगलवार रात एक सड़क दुर्घटना में मौत हो गई। सिद्धू की तेज रफ्तार स्कॉर्पियो एसयूवी कोयले से भरे ट्रक से टकरा गई। दुर्घटना में एसयूवी ड्राइव कर रहे सिद्धू की मौत के बाद एक बार फिर स्कॉर्पियो सवालों के घेरे में आ गई है।

शुरुआती जांच में सामने आया है कि दुर्घटना के बाद स्कॉर्पियो के एयरबैग तो खुले, इंपेक्ट के साथ ही ड्राइवर साइड का एयरबैग फट गया। सिद्धू की मौत के लिए इसे भी एक कारण माना जा रहा है। जबकि दूसरी ओर बैठी उनकी मित्र रीना राय एयरबैग की वजह से सुरक्षित बच गईं।

पैसेंजर सेफ्टी में शून्य रेटिंग
वैसे स्कॉर्पियो में पैसेंजर की सेफ्टी से खिलवाड़ का यह पहला मामला नहीं है। पहले भी कई दुर्घटनाओं में स्कॉर्पियो के एयरबैग न खुलने की बात सामने आती रही हैं। पैसेंजर सेफ्टी की बात करें तो दुनिया भर में कार कंपनियों के लिए मानक बन चुके ग्लोबल NCAP क्रैश टेस्ट में स्कॉर्पियो को शून्य रेटिंग मिल चुकी है। ऐसे में कंपनी द्वारा स्कॉर्पियो को बाजार में बेचना ग्राहकों की सुरक्षा से बड़ा खिलवाड़ माना जा रहा है।

सवारियों की सुरक्षा से खिलवाड़ क्यों
केंद्र सरकार ने फ्रंट में 2 एयरबैग को स्टैंडर्ड मानक के रूप में अनिवार्य बना दिया है। लेकिन ये एयरबैग कितने प्रभावी हैं, ​इस बारे में सरकार का रवैया काफी ढुलमुल रहा है। पैसेंजर सेफ्टी जहां अमेरिका और यूरोप सहित दुनिया के कई देशों में बेहद कड़े हैं। वहीं भारत में एक या दो रेटिंग वाली कारें ही नहीं, बल्कि शून्य रेटिंग वाली कारें भी धड़ल्ले से बिक रही हैं।

महिंद्रा की दूसरी कारों की क्या है स्थिति
महिंद्रा की स्कॉर्पियो को छोड़ दें तो दूसरी कारों की सेफ्टी पर ध्यान दिया गया है। महिद्रा की एक्सयूवी 700 को हाल ही में पैसेंजर सेफ्टी के मामले में 5 स्टार रेटिंग मिली है। वहीं एक्यूवी 300 को भी 5 स्टार रेटिंग मिली है। थार को भी 4 स्टार मिले हैं। हालांकि महिंद्रा की सबसे ज्यादा बिकने वाली एसयूवी बोलेरो का टेस्ट के आंकड़े नहीं है।