शादीशुदा बेटी के साथ बुरे हाल में था दीपक, बाप ने देखा तो उड गये होश, फिर तलवार से किया सिर तन से जुदा

दीपक त्यागी हत्याकांड का पुलिस ने सनसनीखेज राजफाश किया है। बेटी के साथ आपत्तिजनक स्थिति में देखने पर पिता ने अपने दोस्त के साथ मिलकर तलवार से उसकी गर्दन काटी थी। हत्या के बाद सिर को शव से 500 मीटर दूर गन्ने के खेत में फेंक दिया ताकि पहचान न हो सके।

इस खबर को शेयर करें

मेरठ। दीपक त्यागी हत्याकांड का पुलिस ने सनसनीखेज राजफाश किया है। बेटी के साथ आपत्तिजनक स्थिति में देखने पर पिता ने अपने दोस्त के साथ मिलकर तलवार से उसकी गर्दन काटी थी। हत्या के बाद सिर को शव से 500 मीटर दूर गन्ने के खेत में फेंक दिया ताकि पहचान न हो सके। पुलिस ने हत्यारोपित और उसके दोस्त को गिरफ्तार कर उनकी निशानदेही पर घटना में प्रयुक्त तलवार और सिर बरामद कर लिया। पुलिस ने बरामद हुए सिर को पोस्टमार्टम के बाद फोरेंसिंक जांच के लिए भेज दिया।

बदला लेने को बनाया मर्डर का प्लान

एसएसपी रोहित सिंह सजवाण ने सोमवार को बताया कि परीक्षितगढ़ थाना क्षेत्र के गांव खजूरी निवासी धीरेंद्र त्यागी उर्फ भगतजी के बेटे अमन उर्फ दीपक त्यागी की हत्या अवैध संबंधों के चलते की गई थी। मुस्लिम युवक ने अपने साथी आसिफ के साथ मिलकर वारदात को अंजाम दिया। पूछताछ में आरोपित ने बताया कि दीपक का उसके घर आना-जाना था।

बेटी के साथ आपत्तिजनक स्थिति में देखने के बाद उठाया कदम

एसएसपी के अनुसार डेढ़ माह पहले दीपक को घर में अपनी शादीशुदा बेटी के साथ आपत्तिजनक स्थिति में देख लिया था। बदला लेने के लिए उसकी हत्या का प्लान बनाया ताकि ससुराल में बेटी की इज्जत खराब न हो। आरोपित ने बताया कि बहाने से दीपक को अपने घर बुलाया। उस समय आसिफ भी वहीं था। दोनों ने दीपक को शराब पिलाई और फिर उसे जंगल में ले गए। वहां दोनों ने मिलकर तलवार से उसकी गर्दन काट दी और सिर को गन्ने के खेत में फेंक दिया। इसके बाद घर आ गए।

यह था मामला

गत 25 सितंबर को दीपक घर से लापता हो गया था। 27 सितंबर को उसका सिर कटा शव गन्ने के खेत में मिला था। परिवार वालों ने अज्ञात में हत्या का मुकदमा दर्ज कराया। घटना से क्षुब्ध लोगों ने शव को मेरठ-परीक्षितगढ़ मार्ग पर रखकर जाम लगा दिया और अंतिम संस्कार करने से इन्कार कर दिया था। पुलिस ने समझाकर अंतिम संस्कार कराया था। शनिवार को भाजपा किसान मोर्चा के राष्ट्रीय कार्यकारणी सदस्य एवं जम्मू-कश्मीर के सह प्रभारी अधिवक्ता वीपी त्यागी और हिंदू संगठन के सचिन सिरोही परिवार वालों के साथ आमरण अनशन पर बैठ गए थे। रविवार को भी जाम लगाया। पुलिस ने रविवार रात ही हत्यारोपितों को पकड़कर वारदात का राजफाश कर दिया। सिर का पोस्टमार्टम होने के बाद सोमवार शाम को परिवार वालों ने फिर जाम लगाया। उनका आरोप है कि वारदात में हत्यारोपित के परिवार के कुछ अन्य लोग भी शामिल थे।