मुजफ्फरनगर में पकडी गई नशीली दवाईयों के तार उत्तराखंड़ से जुड़े

जिला नशीली दवाओं की बिक्री के लिए काफी समय से बदनाम रहा हैं। जनपद में रहने नशीली दवाओं के तस्करों के तार पंजाब, हरियाणा, राजस्थान में बैठे माफियाओं के साथ जुडे़ हैं, लेकिन पहली बार उत्तराखंड के रहने वाले तस्करों का नाम पुलिस की जांच पड़ताल में सामने आया हैं।

इस खबर को शेयर करें

मुजफ्फरनगर। जिला नशीली दवाओं की बिक्री के लिए काफी समय से बदनाम रहा हैं। जनपद में रहने नशीली दवाओं के तस्करों के तार पंजाब, हरियाणा, राजस्थान में बैठे माफियाओं के साथ जुडे़ हैं, लेकिन पहली बार उत्तराखंड के रहने वाले तस्करों का नाम पुलिस की जांच पड़ताल में सामने आया हैं। जिस कारण अब पुलिस के निशाने पर उत्तराखंड में रहने वाला एक बड़ा तस्कर आया है।

जिले में एक बार नहीं ऐसा कई बार हो चुका हैं जब जनपद निवासी युवक पंजाब, हरियाणा में नशीली दवाओं के साथ गिरफ्तार किए गए या फिर दूसरे राज्य में पुलिस ने दवा व्यापारी को पकड़ा और वहां की पुलिस ने उसे साथ लेकर जिले में व्यापारियों की दुकान पर पहुंच कर जानकारी जुटाई। कई बार तो ऐसा भी हुआ जब गैर जनपद पुलिस यहां से आरोपी युवक को पकड़ कर अपने साथ ले गई। लगभग तीन माह पहले राजस्थान पुलिस ने ऐसे ही एक युवक को पकड़ा था। अभी तक राजस्थान, पंजाब व हरियाणा के ही ऐसे मामले सामने आए थे, लेकिन इस बार उत्तराखंड के तस्कर का नाम जुड़ा है।

सूत्र बताते है कि उत्तराखंड निवासी नशीली दवाओं का एक बड़ा तस्कर जनपद में यह धंधा कर रहा है। फुगाना पुलिस के हत्थे चढ़ा सप्लायर इसी तस्कर के संपर्क में था। इसकी जांच शुरू की गई है। हाल ही में जिला पुलिस ने लाखों की नशीली दवाओं के साथ कई आरोपी पकड़कर सलाखों के पीछे भिजवाएं है। सूत्र तो यह भी बताते है कि पिछले तीन सालों में पचास लाख से ज्यादा कीमत की नशीली दवा बरामद कर आरोपियों को जेल भेजा जा चुका हैं।