हरियाणा में आसमान से बरस रही आग, सिरसा का तापमान 47 डिग्री के पार, जानें कब मिलेगी राहत?

Fire is raining from the sky in Haryana, temperature in Sirsa crosses 47 degrees, know when will there be relief?
Fire is raining from the sky in Haryana, temperature in Sirsa crosses 47 degrees, know when will there be relief?
इस खबर को शेयर करें

Heat Wave in Haryana: उत्तर भारत के अन्य राज्यों की तरह हरियाणा में भी गर्मी ने कहर बरपाना शुरू कर दिया है। आलम यह है कि सुबह से ही गर्म हवा के चलते लोगों को बेचैनी महसूस होने लगती है। यही नहीं, शाम ढलने के बाद भी लोग कूलर और एसी चलाने को विवश हैं। हालात का अंदाजा यहां से लगाया जा सकता है कि तमाम जिलों में अधिकतम तापमान 45 डिग्री के ऊपर चल रहा है। विशेषकर सिरसा में तो सबसे ज्यादा तापमान दर्ज किया गया है। यहां आज का अधिकतम तापमान 47.1 डिग्री दर्ज किया गया है, जबकि न्यूनतम तापमान भी 27.4 डिग्री दर्ज हुआ है। गर्मी के बढ़ते कहर के चलते स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने लोगों को विशेष सावधानी बरतने की सलाह दी है।

आईएमडी की रिपोर्ट की मानें तो सोनीपत, रोहतक, रेवाड़ी, पलवल, महेंद्रगढ़, मेवात, जींद, झज्जर और हिसार में अधिकतम तापमान 45 डिग्री के ऊपर दर्ज किया गया है। जींद, हिसार, पलवल, मेवात, महेंद्रगढ़, झज्जर में अधिकतम तापमान 46 डिग्री के ऊपर पहुंच चुका है। हरियाणा की राजधानी चंडीगढ़ में भी लोगों को भीषण गर्मी का सामना करना पड़ रहा है। चंडीगढ़ में अधिकतम तापमान 44.5 और न्यूनतम तापमान 26 डिग्री रिकॉर्ड हुआ है।

घर से बाहर न निकलें
आईएमडी ने अगले तीन दिन यानी 20 जून तक लू के लिए रेड अलर्ट जारी किया है। इसके बाद भी राज्य के लोगों को किसी प्रकार की राहत नहीं मिलेगी क्योंकि 21 और 22 जून के लिए भी Heat Wave को लेकर येलो अलर्ट जारी किया है। कल की तुलना में आज औसत न्यूनतम तापमान में भी 0.6 डिग्री सेल्सियस की बढ़ोतरी दर्ज की गई है। यह राज्य में सबसे न्यूनतम तापमान है, लेकिन सामान्य से 2.2 डिग्री सेल्सियस ऊपर है। मौसम विशेषज्ञों का कहना है कि कई हिस्सों में अधिकतम तापमान में 95 फीसद की बढ़ोतरी देखी जा रही है। उधर, दिल्ली में भी भीषण गर्मी पड़ रही है।

चिकित्सकों ने दी ये सलाह
चिकित्सकों ने लोगों को दी ये सलाह प्रदेश में लू चलने के चलते स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने अहम सलाह दी है। जींद के डॉक्टर हरीश दुग्गल का कहना है कि सुबह 11 बजे से शाम 4 बजे के बीच घर से बाहर निकलने से बचना चाहिए। लोगों को पूरे कपड़े पहनने चाहिए और ज्यादा से ज्यादा तरल पदार्थ का सेवन करना चाहिए। वहीं, बाल रोग विशेषज्ञ अनुराधा शर्मा का कहना है कि बच्चों को समय समय पर पानी पिलाते रहना चाहिए। बच्चे लापरवाही में कम पानी पीते हैं और खेलने निकल जाते हैं। इससे चक्कर आना लाजमी है। उन्होंने कहा कि बड़े भी डिहाईड्रेशन से बचने के लिए अधिक से अधिक तरल ठंडे पदार्थों का सेवन करना चाहिए।