दीपिका से लेकर करीना-सोनम तक, करवाचौथ नहीं मनाती ये एक्ट्रेस; पति के लिए नहीं रखतीं व्रत

From Deepika to Kareena-Sonam, these actresses do not celebrate Karva Chauth; Do not keep fast for husband
From Deepika to Kareena-Sonam, these actresses do not celebrate Karva Chauth; Do not keep fast for husband
इस खबर को शेयर करें

Karwachauth 2023: भारत में करवाचौथ का त्यौहार धूमधाम से मनाया जाता है. इस दिन सुहागिन महिलाएं अपने पति की दीर्घ आयु और बेहतर स्वास्थ्य के लिए निर्जला व्रत करती हैं और चांद की पूजा करती हैं. इस बार ये फेस्टिवल 1 नवंबर को मनाया जाएगा जिसके लिए तैयारियां हो चुकी हैं. बॉलीवुड में भी ये फेस्टिवल धूमधाम से मनाया जाता है लेकिन कुछ अभिनेत्रियां ऐसी हैं जो करवाचौथ नहीं मनाती हैं और न ही व्रत रखती हैं. आइए आपको बताते हैं ऐसी ही एक्ट्रेसेस के बारे में…

दीपिका पादुकोण

दीपिका ने रणवीर सिंह से 2018 में शादी की थी. शादी के बाद दीपिका करवाचौथ नहीं मनाती हैं. उनका मानना है कि जीवनसाथी के साथ अच्छी बॉन्डिंग के लिए व्रत रखना नहीं बल्कि प्यार निभाने के लिए एक-दूसरे का साथ जरूरी है.

करीना कपूर

करीना ने सैफ अली खान से 2012 में शादी की थी लेकिन वो भी करवाचौथ को दकियानूसी परंपरा मानती हैं. करीना ने एक इंटरव्यू में कहा था कि अपने पति के प्रति प्यार दर्शाने के लिए उन्हें कोई व्रत रखने की जरूरत नहीं और ही वो भूखी मर सकती हैं. उन्हें इस दिन खाना, पीना और काम करना पसंद है. बेबो को इस कमेन्ट के लिए आलोचना सहनी पड़ी थी.

ट्विंकल खन्ना

ट्विंकल अक्षय कुमार की पत्नी हैं. वो भी करवाचौथ में यकीन नहीं करती हैं. उन्हें एक इंटरव्यू में इस त्यौहार पर अपने विचार रखने के लिए ट्रोल भी होना पड़ा था. ट्विंकल ने कहा था कि कुछ कपल करवाचौथ मनाने के बावजूद जिंदगी भर साथ नहीं रह पाते तो करवाचौथ मनाने का क्या फायदा. उनका ये भी कहना था कि बिना करवाचौथ किए अन्य 100 देश होंगे जिनके मर्द भारत के मर्दों से ज्यादा जीते होंगे.

ताहिरा कश्यप

आयुष्मान खुराना की पत्नी ताहिरा भी उन सेलेब्स में से हैं जिन्हें करवाचौथ सेलिब्रेट में कोई यकीन नहीं है. उनका कहना था कि ये व्रत किसी की पर्सनल चॉइस हो सकता है लेकिन उन्हें इसपर यकीन नहीं है.

सोनम कपूर

सोनम कपूर ने बिजनेसमैन आनंद आहूजा से शादी की थी. वो भी शादी के बाद कभी करवाचौथ नहीं रखती हैं. उनका कहना है कि वो इस व्रत में यकीन नहीं करती हैं.