मोतिहारी में गैंगवॉर; घर के बाहर गैंगस्टर को गोलियों से भूना, ताबड़तोड़ 6 गोली मारीं, मौके पर मौत

Gang war in Motihari; Gangster shot outside the house, shot 6 times, died on the spot
Gang war in Motihari; Gangster shot outside the house, shot 6 times, died on the spot
इस खबर को शेयर करें

मोतिहारी: मोतिहारी जिले के पताही थाना क्षेत्र के गोनाही गांव में अविनाश सिंह उर्फ नन्हकू सिंह उर्फ नन्हक सिंह की हत्या गैंगवार में की गयी। घटनास्थल के मार्ग पर लगे सभी सीसीटीवी को पुलिस खंगाल रही है। घटनास्थल से 12 खोखा बरामद किया गया है। जिसमें तीन खोखा अलग है जो नाइन एमएम पिस्टल का है। पुलिस को ऐसी आशंका है कि मृतक भी अपने हथियार से फायरिंग की है। उसका हथियार भी पुलिस खोज रही है।

पोस्टमार्टम के समय डॉक्टरों ने नन्हकू के शरीर में छह गोलियों के निशान पाये हैं। एसपी कांतेश कुमार मिश्र का कहना है कि हत्या गैंगवार में की गयी है। पुलिस हत्यारे की तलाश कर रही है। पकड़ीदयाल डीएसपी सुबोध कुमार के नेतृत्व में कांड के भंडाफोड़ के लिये एसआईटी का गठन किया गया है। पताही में उसके खिलाफ तीन मामले दर्ज हैं। जिसमें लूट रंगदारी आदि का आरोप था। सीतामढ़ी, शिवहर व मुजफ्फरपुर से उसकी क्राइम हिस्ट्री खंगाली जा रही है।

पोस्टमार्टम के समय नन्हकु के छोटे भाई सत्येन्द्र सिंह ने बताया कि वे गांव के शंभू राय के दरवाजे पर अलाव ताप रहे थे। उनके अलावा पांच लोग और थे। इस बीच बाइक सवार दो बदमाश वहां पहुंचे और ताबड़तोड़ फायरिंग कर दी। फायरिंग के बाद वे जान बचाकर भागते हुये गांव के ही शंकर सहनी के दरवाजे पर गिर पड़े। जब उन्हें जानकारी मिली तो वे लोग उन्हें जख्मी हालत में इलाज के लिये मोतिहारी ले जाने लगे। मोतिहारी जाने के दौरान भंडार चौक पर उनकी मौत हो गयी।

गैंगवार में मारा गया नन्हकू सिंह पहले शिवहर नया गांव के श्रीनारायण सिंह के सहयोगी था। श्रीनारायण सिंह के वर्ष 2020 में मारे जाने के बाद इस बात की चर्चा है कि उसका बुलेट प्रुफ जैकेट नन्हकु सिंह को हाथ लग गया था। उस जैकेट का वह अपराध जगत में उपयोग भी करता था। बदमाशों को इस बात का पता था कि वह बुलेट प्रुफ जैकेट भी पहनता है। शूटरों ने इसलिए नन्हकू को सभी गोलियां कमर के पास ही मारी थी। जिसमें दो गोली अंडकोष के पास लगने के कारण उसकी मौत हो गयी। इस बात की भी चर्चा है कि नन्हकू ने अपने बचाव में भी फायरिंग की थी। घटनास्थल से मिले तीन अलग तरह के खोखा से पुलिस को भी आशंका है कि उसने फायरिंग की थी। पुलिस उस हथियार की खोज में भी जुट गयी है।

नन्हकू हत्याकांड में पुलिस को अभी तक परिजनों द्वारा आवेदन प्राप्त नहीं हुआ है। थानाध्यक्ष संजीव कुमार सिंह ने बताया कि नन्हकू सिंह के शव को पोस्टमार्टम कराकर परिजनों को सौंप दिया गया है । अभी तक परिजनों के द्वारा कोई आवेदन नहीं प्राप्त हुआ है पर अपराधियों की पहचान करने मे पुलिस लगातार जुटी हुई है। नन्हकु सिंह एक दुर्दन्त अपराधी था तथा कई अपराधियों से इनकी दुश्मनी थी। सभी एंगल से पुलिस जांच कर रही है। जल्द ही अपराधियों की पहचान कर गिरफ्तार किया जायेगा।

जांच करने मुजफ्फरपुर से पहुंची एफएसएल टीम पताही थाना क्षेत्र के गोनाही मे शनिवार की रात्रि हुए कुख्यात अपराधी अविनाश कुमार उ़र्फ नन्हकू सिंह की हत्या के बाद रविवार को मुजफ्फरपुर से एफएसएल टीम जांच करने घटना स्थल पर पहुंची। घटना स्थल पर पहुंची एफएसएल टीम की शिल्पी रानी व लैब टेक्निशियन द्वारा घटना स्थल पर मौजूद साक्ष्य ,घटना स्थल पर बिखरे खून के सेम्पल सहित अन्य कई चीजों की जांच किया। जांच का सेम्पल लेकर पुन टीम वापस मुजफ्फरपुर लौट गई।

जांच पदाधिकारी शिल्पी रानी ने बताया कि घटना स्थल से साक्ष्य संग्रह किया गया है जिसकी गहनता से जांच कर विभागीय पदाधिकारी को सौंप दिया जायेगा। वहीं मौके पर उपस्थित थानाध्यक्ष संजीव कुमार सिंह ने बताया की अपराधी नन्हकू सिंह पर अज्ञात अपराधियों द्वारा की गई ताबड़तोड़ फायरिंग के बाद नन्हकू सिंह प्राण रक्षा में घटना स्थल से पीछे भागे थे और भागते हुए शंकर सहनी की झोपडी मे गिर पड़ा था भागने के दौरान कई स्थानों पर खून के छींटे बिखरे पड़े थे। इस मामले में एसआईटी का गठन कर दिया गया है।
नन्हकू सिंह हत्याकांड में एसआईटी का हुआ गठन