बिहारी छात्रों के लिए यूपी से आई खुशखबरी! UP Board ने ऐसे बिहार बोर्ड स्टूडेंट्स को दी मान्यता

Good news from UP for Bihari students! UP Board gave recognition to such Bihar Board students
Good news from UP for Bihari students! UP Board gave recognition to such Bihar Board students
इस खबर को शेयर करें

पड़ोसी राज्य उत्तर प्रदेश से बिहार के लोगों के लिए गुड न्यूज आई है। अब बिहार के छात्रों के लिए यूपी जाकर पढ़ना आसान होने वाला है। क्योंकि यूपी बोर्ड और बिहार बोर्ड के बीच चली आ रही एक समस्या सुलझ गई है। दरअसल, उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा अधिनियम, 1921 में बदलाव किया गया है। इस बदलाव का फायदा बिहार विद्यालय परीक्षा समिति (BSEB) के बिहार बोर्ड ऑफ ओपन स्कूलिंग एंड एग्जामिनेशन यानी बीबीओएसई, पटना के विद्यार्थियों को मिलने वाला है।

नए बदलाव के बाद BBOSE की माध्यमिक और वरिष्ठ माध्यमिक स्कूल परीक्षाएं अब यूपी बोर्ड की हाईस्कूल और इंटरमीडिएट परीक्षाओं के बराबर मानी जाएंगी। मतलब ये कि Bihar Board Open School से 10वीं, 12वीं पास करने वाले छात्रों को भी अब उत्तर प्रदेश में यूपी बोर्ड की परीक्षाएं पास करने वाले छात्रों के समान अवसर मिलेंगे।

यूपी बोर्ड सचिव दिव्यकांत शुक्ल द्वारा 28 फरवरी, 2024 को जारी गजट के अनुसार, बिहार बोर्ड ओपन स्कूल की माध्यमिक परीक्षा को मान्यता प्राप्त परीक्षाओं की सूची में 38वें स्थान पर और वरिष्ठ माध्यमिक परीक्षा को 39वें स्थान पर रखा गया है।

UPMSP ने क्यों दी BBOSE को मान्यता
हाल में बीबीओएसई की मान्यता समान न होने को लेकर UP Board मुख्यालय को एक औपचारिक शिकायत मिली थी। जिसके बाद ये UPMSP ने ये कदम उठाया है। अधिकारियों ने बताया, ‘क्योंकि इसे मान्यता देने में कोई कानूनी अड़चन नहीं है, इसलिए राज्य सरकार से मंजूरी के बाद 1921 के अधिनियम में संशोधन किया गया है।’

बता दें कि जिस तरह से बिहार स्कूल परीक्षा समिति को बिहार राज्य मंत्रिमंडल द्वारा अनुमोदित किया गया है, उसी तरह बिहार ओपन स्कूलिंग बोर्ड को भी बिहार मंत्रिमंडल द्वारा अनुमोदित किया गया है।

ये 10th, 12th Boards भी यूपी में मान्य
देश के सभी राज्यों में कानून के अंतर्गत स्थापित माध्यमिक शिक्षा बोर्ड द्वारा आयोजित हाईस्कूल और इंटरमीडिएट स्तर की परीक्षाएं यूपी बोर्ड की 10वीं और 12वीं की परीक्षाओं के बराबर मानी जाती हैं। इसके अलावा, केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) और आईएससीई बोर्ड की 10वीं और 12वीं की परीक्षाएं भी मान्य हैं।

नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ ओपन स्कूलिंग (NIOS) की वरिष्ठ माध्यमिक परीक्षा भी यूपी बोर्ड के अनुसार मान्य है। लेकिन इस शर्त के साथ कि संबंधित छात्र इस परीक्षा में कम से कम पांच विषयों में पास हो।