मुजफ्फरनगर के सिसौली में कनेक्शन काटने गई थी बिजली विभाग की टीम को बंधक बनाकर पीटा

मुजफ्फरनगर के सिसौली में लाखों का बकाया होने पर उपभोक्ता की बिजली काटने टीम गई थी। JE की पूरी टीम के साथ बंधक बनाकर पिटाई की गई।

Had gone to cut the connection in Sisauli, Muzaffarnagar, took the team of electricity department hostage and beat them up.
Had gone to cut the connection in Sisauli, Muzaffarnagar, took the team of electricity department hostage and beat them up.
इस खबर को शेयर करें

मुजफ्फरनगर। मुजफ्फरनगर के सिसौली में लाखों का बकाया होने पर उपभोक्ता की बिजली काटने टीम गई थी। JE की पूरी टीम के साथ बंधक बनाकर पिटाई की गई। मामले में मुकदमा दर्ज हो गया है। पुलिस ने 4 भाइयों सहित 5 की तलाश शुरू कर दी है।

ऊर्जा निगम बुढ़ाना विद्युत वितरण खंड के अन्तर्गत आने वाले 33/11 केवी विद्युत सब स्टेशन सिसौली पर तैनात जेई पारस कुमार ने थाना भौराकलां में शिकायत दर्ज कराई है। जेई पारस ने पुलिस को बताया कि विभागीय स्तर पर बड़े बकायादारों से वसूली का अभियान चलाया जा रहा है। ऐसे में बकायादारों के द्वारा पेमेंट नहीं करने पर विभागीय अफसरों ने उनके विद्युत कनेक्शन काटने के आदेश दिये गये हैं।

इसी को लेकर उनके क्षेत्र के एसडीओ के निर्देश पर बकाया जमा नहीं करने वाले उपभोक्ताओं के विद्युत कनेक्शन काटने के लिए टीम का गठन किया गया था। वह अपनी टीम जिसमें लाइनमैन आजाद सिंह, संजीव कुमार, सोनू कुमार, अंकित कुमार जोकि विद्युत सब स्टेशन सिसौली पर तैनात हैं के साथ गांव सिसौली में पहुंचे थे। उन्होंने बताया कि गांव सिसौली निवासी महिला उपभोक्ता कुलसूम पुत्री अनवर पर विद्युत बिल के रूप में 01 लाख 79 हजार 137 रुपये बकाया है।

आरोप है कि बकाया जमा नहीं करने पर कुलसूम के विद्युत कनेक्शन को काटने के लिए जब टीम के साथ वह उसके घर पर पहुंचे तो वहां पर सलाम, कलाम, अजीम और मलान पुत्रगण अजीज निवासी सिसौली तथा एक अज्ञात व्यक्ति ने उनके साथ अभद्रता शुरू कर दी। उन्होंने सरकारी कार्य में बाधा डालने का प्रयास किया।

आरोप है कि इसी बीच जेई और उनके साथ आई विद्युत कर्मचारियों को बंधक बनाकर मारपीट की गयी और गाली गलौज करते हुए धमकी दी। इस हाथापाई के दौरान लाइनमैन सोनू कुमार का मोबाइल फोन भी मौके पर गिर गया। इस मामले में भौराकलां थाना प्रभारी ने बताया कि जेई की तहरीर पर आरोपियों के खिलाफ आईपीसी की धारा 323, 504 और 353 के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है।