किन्नर के प्यार में पागल हुआ हरियाणा का युवक, शादी से इनकार करने पर खुद को किया आग के हवाले!

बिहार के बक्सर से एक अजीबोगरीब मामला सामने आया है। यहां पर एक किन्नर के प्यार में पागल युवक हरियाणा से बक्सर पहुंच गया। बताया जाता है कि जब उसे प्यार नहीं मिला तो वह खुद को आग के हवाले कर लिया।

Haryana's young man fell madly in love with eunuchs, set himself on fire for refusing to marry!
Haryana's young man fell madly in love with eunuchs, set himself on fire for refusing to marry!
इस खबर को शेयर करें

बक्सर/आरा : बिहार के बक्सर से एक अजीबोगरीब मामला सामने आया है। यहां पर एक किन्नर के प्यार में पागल युवक हरियाणा से बक्सर पहुंच गया। बताया जाता है कि जब उसे प्यार नहीं मिला तो वह खुद को आग के हवाले कर लिया। युवक की पहचान हुसैनुद्दीन उर्फ सिन्नू के तौर पर हुई है। वह हरियाणा के हिसार का रहने वाला है और बीएससी ( एग्रीकल्चर ) का छात्र बताया जा रहा है। जानकारी के अनुसार, सोशल मीडिया के माध्यम से बक्सर के नावानगर की रहने वाली किन्नर से जान पहचान हुई। बाद में दोनों मोबाइल पर बात करने लगे।

किन्नर के अनुसार, वह शादी के लिए दबाव बना रहा था। जब उसने शादी से मान किया तो वह खुद को आग के हवाले कर दिया। किन्नर के अनुसार, हुसैनुद्दीन उर्फ सिन्नू पहले भी यहां आ चुका है। 17 जून को लगभग 5 महीने बाद वापस आया और कहने लगा कि उसे शादी करनी है। शादी से इनकार करने पर वह खुद को आग के हवाले कर लिया। जबकि हुसैनुद्दीन उर्फ सिन्नू का आरोप है कि किन्नरों ने उसे आग के हवाले कर दिया था। वहीं, इस संबंध में बक्सर एसपी नीरज कुमार ने बताया कि मामला दर्ज कर लिया गया है। पुलिस मामले की जांच कर रही है। जांच के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी।

के सदस्य सच्चिदानंद राय बिहार सरकार के पूर्व मंत्री महाचंद्र प्रसाद सिंह समेत कई लोगों ने पुष्पांजलि अर्पित की। बिहार विधान परिषद के सभापति अवधेश नारायण सिंह ने कहा कि गाजीपुर के देवा में महाशिवरात्रि के दिन 1889 में जन्मे और मुजफ्फरपुर में 26 जून 1950 को अपने नश्वर शरीर को त्यागने वाले महान सन्यासी स्वामी सहजानंद सरस्वती के महाप्रयाण के 7 दशक बीतने के बाद दुनिया कहां से कहां चली गयी और जिन किसानों की खुशहाली और शोषण से मुक्ति के लिए स्वामी जी ने अपने जीवन के आखिरी सांस तक संघर्ष किया, उनकी हालत बद से बदतर होती गयी। आज किसानों के हक की लड़ाई लड़ने वाला दूर-दूर तक दिखाई नहीं देता। उन्होंने स्वामी जी को किसानों का सच्चा नेता बताया और उनके पद चिह्नों पर चलने की बात कही।