2025 में 2008 से भी बड़ी गिरावट, फटने को तैयार 14 साल से बन रहा बुलबुला

इस खबर को शेयर करें

नई दिल्ली। अमेरिका के एक चर्चित अर्थशास्त्री ने वैश्विक शेयर बाजार में एक बड़ी गिरावट की आशंका जताई है। रिपोर्ट के अनुसार संभवतः यह गिरावट 2008 के वित्तीय संकट से भी बदतर होगा। हैरी डेंट जो एक सबसे अधिक बिकने वाले लेखक और अर्थशास्त्री हैं, ने यह आशंका जारी की है। दुनिया भर की अर्थव्यवस्थाओं का अध्ययन करने के लिए हैरी डेंट एक अनूठी विधि का उपयोग करते हैं और अनुमान लगाते हैं कि भविष्य में बाजार की चाल कैसी रहेगी? वे बाजार से जुड़े पूर्वानुमानों के लिए अपने खास तरह के विश्लेषण का उपयोग करते हैं।

वैश्विक स्तर पर शेयर बाजारों में 2008-09 से भी बड़ी गिरावट का अनुमान
डेंट ने फॉक्स को दिए एक साक्षात्कार में कहा है कि वैश्विक बाजार में जारी मौजूदा बढ़त एक बुलबुले की तरह है जो पूरी तरह से कृत्रिम है और कम से कम 14 वर्षों से तैयार हो रहा है। यह अर्थव्यवस्था में अभूतपूर्व प्रोत्साहन से प्रेरित है। अर्थशास्त्री ने तर्क दिया कि अधिकांश बुलबुलों का लगभग पांच से छह साल तक पता नहीं चलता, इनके बारे में तब पता चलता है कि जब पूरी तरह नष्ट हो जाएं। उन्होंने वैश्विक बाजार में जारी तेजी की ओर इशारा करते हुए कि मौजूदा बुलबुले को कुछ अधिक समय तक खींचा जा रहा है। ऐसे में आपको 2008-09 से भी बड़ी गिरावट की उम्मीद करनी चाहिए।

डेंट के अनुसार, 2008 के वित्तीय संकट के बाद से अतिशयोक्तिपूर्ण धन पंपिंग और ढीली मौद्रिक नीति के कारण संपत्ति की कीमतें बढ़ गईं, जिससे “सभी बुलबुले का बड़ा बुलबुला” बन गया। कोविड महामारी से हुई आर्थिक तबाही से उबरने के लिए, अमेरिका सहित सरकारों ने ब्याज दरों को अब तक के सबसे निचले स्तर पर रखकर अर्थव्यवस्थाओं में बड़े पैमाने पर प्रोत्साहन दिया, जिससे बाजार के लिहाज से हालात और भी बदतर हो गए।

एसएंडपी में 80% तो नैस्डेक में 90% से अधिक की गिरावट की आशंका
डेंट ने भविष्यवाणी करते हुए कहा, “2025 में कभी भी एसएंडपी (अमेरिकी इंडेक्स) ऊपर से 80% से अधिक गिर सकता है और नैस्डैक (अमेरिकी इंडेक्स) में 90% से भी ऊपर की गिरावट आ सकती है।” अमेरिकी फेडरल रिजर्व, जिसने सबसे पिछले साल मौद्रिक सख्ती और प्रोत्साहन को कम करने की बात की थी, अब अपने प्रारंभिक रुख में नरमी लाता दिख रहा है।

वित्तीय बाज़ार 2024 में फेड की ओर से ब्याज दरों में कम से कम छह कटौती की उम्मीद कर रहे थे, जिनमें से पहली कटौती की उम्मीद मार्च में की जा रही थी। हालांकि वर्तमान हालात में अब यह असंभव लगता है क्योंकि केंद्रीय बैंक ने संकेत दिया है कि वह तब तक मौद्रिक नीति में ढील देना शुरू नहीं करेगा जब तक कि उसके पास इस बात के अधिक सबूत न हों कि मुद्रास्फीति अपने दीर्घकालिक दो प्रतिशत लक्ष्य की ओर लगातार गिर रही है।

हाल ही में, विश्व बैंक ने अमेरिका में लचीले उपभोक्ता खर्च के आधार पर वैश्विक विकास दर के अपने अनुमान में इजाफा किया है। विश्व बैंक को वैश्विक अर्थव्यवस्था में 2.6% की वृद्धि का अनुमान है, जो जनवरी में बैंक के अनुमानों से 2.6% या 0.2 प्रतिशत अंक अधिक है। अमेरिकी बाज़ारों ने इस साल अच्छा प्रदर्शन किया है। बेंचमार्क S&P 500 सालाना आधार पर लगभग 12.99% प्रतिशत मजबुत हुआ। वहीं, तकनीकी कंपनियों की बहुतायत वाले इंडेक्स नैस्डैक में लगभग 17% की बढ़ोतरी हुई है।

एनवीडिया जैसे मजबूत शेयर भी गिरावट से हो सकते हैं प्रभावित
डेंट के अनुसार आने समय में बाजार में संभावित गिरावट से एनवीडिया जैसे मजबूत शेयर भी अछूते नहीं रहेंगे। इस गिरावट के दौरान बाजार की दिग्गज कंपनियों को भी बड़ा नुकसान उठाना पड़ सकता है। एनवीडिया जैसी कंपनियों की गुणवत्ता को स्वीकार करने के बावजूद, डेंट ने चेतावनी दी कि वे 98 प्रतिशत तक की संभावित गिरावट के साथ तेज गिरावट का दौर देख सकते हैं।