हरियाणा में पशुपालकों को मिलेगी दूध की ज्यादा कीमत, एक किलो फैट पर बढ़े 30 रुपये

हरियाणा में पशुपालकों को अब दूध की ज्यादा कीमत मिलेगी। हरियाणा डेयरी विकास सहकारी संघ ने दूध का खरीद मूल्य 770 रुपये से बढ़ाकर 800 रुपये प्रति किलोग्राम फैट कर दिया है। दूध में प्रति एक किलोग्राम फैट पर 30 रुपये की बढ़ोतरी की गई है।

In Haryana, cattle farmers will get higher price of milk, increased by Rs 30 on one kg of fat
In Haryana, cattle farmers will get higher price of milk, increased by Rs 30 on one kg of fat
इस खबर को शेयर करें

चंडीगढ़। हरियाणा में पशुपालकों को अब दूध की ज्यादा कीमत मिलेगी। हरियाणा डेयरी विकास सहकारी संघ ने दूध का खरीद मूल्य 770 रुपये से बढ़ाकर 800 रुपये प्रति किलोग्राम फैट कर दिया है। दूध में प्रति एक किलोग्राम फैट पर 30 रुपये की बढ़ोतरी की गई है। सहकारिता मंत्री डा. बनवारी लाल ने कहा कि इस निर्णय से दुग्ध उत्पादकों को फायदा होगा। जिन किसानों के दुग्ध में न्यूनतम 6.5 प्रतिशत फैट और एसएनएफ (सोलिड्स-नान-फैट) 8.8 प्रतिशत है, उन्हें इसका सीधा लाभ मिलेगा।

एसएनएफ में विटामिन, लैक्टोज और खनिज पदार्थ शामिल होते हैं। दूध की गुणवत्ता को बेहतर करने में यह सभी पदार्थ आवश्यक माने जाते हैं। इससे डेयरी किसानों को एक लाख रुपये की प्रोत्साहन राशि भी दी जाएगी। इससे डेयरी किसानों की आय बढ़ेगी और दूध खरीद में भी मदद मिलेगी। सहकारिता मंत्री ने बताया कि मिल्क यूनियन जींद और मिल्क यूनियन सिरसा को ऊर्जा दक्षता और नवीकरणीय ऊर्जा उपायों को बढ़ावा देने पर प्रशंसा प्रमाणपत्र से सम्मानित किया गया है। इससे दुग्ध संघों को उत्पादन लागत कम करने में मदद मिलेगी।

दिव्यांग विद्यार्थियों का सहारा बनी हरियाणा सरकार
हरियाणा के स्कूलों में पढ़ने वाले 15 हजार दिव्यांग बच्चों का मेडिकल चेकअप होगा- 10 अक्टूबर से 16 नवंबर तक ब्लाकवार लगाए जाएंगे स्वास्थ्य जांच शिविर राज्य ब्यूरो, चंडीगढ़ हरियाणा सरकार ने राज्य के सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले करीब 15 हजार दिव्यांग बच्चों के स्वास्थ्य की चिंता की है। कक्षा एक से कक्षा 12 तक पढ़ाई करने वाले सभी दिव्यांग बच्चों के स्वास्थ्य की जांच कराई जाएगी। स्वास्थ्य जांच का यह सिलसिला 10 अक्टूबर से होगा, जो 16 नवंबर तक चलेगा। हरियाणा स्कूल शिक्षा परियोजना परिषद के राज्य परियोजना निदेशक डा. अंशज सिंह ने स्कूलों में लगने वाले इन स्वास्थ्य जांच शिविरों के आयोजन की जिम्मेदारी अतिरिक्त जिला उपायुक्तों को सौंपी हैं, जो जिला शिक्षा अधिकारियों के माध्यम से आयोजित कराएंगे।