हरियाणा में 80 साल की इस बुजुर्ग महिला ने गोशाला को दान दी 12 एकड़ जमीन, जीवित रहते करवाया मृत्यु भोज

Haryana News: चावली देवी ने बिना ज्यादा सोचे 12 एकड़ जमीन गोशाला कमेटी के नाम कर दी. चावली देवी ने बताया कि इससे उन्हें बड़ी संतुष्टि मिली. वहीं अब चावली गांव के लिए प्रेरणा-स्त्रोत बन गई.

इस खबर को शेयर करें

फतेहाबाद: हरियाणा के फतेहाबाद जिले की एक बुजुर्ग महिला ने मिसाल पेश की है. गांज चिंदड़ की रहने वाली चावली देवी ने ढाई करोड़ कीमत की साढ़े 12 एकड़ जमीन गोशाला के नाम कर दी है. यहीं नहीं उन्होंने रविवार को जीते जी रविवार को अपना मृत्यु भोज करवाया. जिसमें गांव के लोग शामिल हुए.

बता दें कि 80 वर्षीय चावली देवी की कोई संतान नहीं है. उनके पति मनीराम ढाका के पास साढ़े 21 एकड़ जमीन थी. संतान नहीं होने के कारण उन्होंने 9 एकड़ जमीन अपने ज्येष्ठ के बेटे के नाम कर दी. वह अब हिसार में रहता है. चावली देवी बताती हैं कि बाकी 12 एकड़ जमीन बांटने की बात आई तो अन्य स्वजनों ने खुद लेने की बजाए उसे गोशाला में दान करने के लिए प्रेरित किया. चावली देवी ने बिना ज्यादा सोचे 12 एकड़ जमीन गोशाला कमेटी के नाम कर दी. चावली देवी ने बताया कि इससे उन्हें बड़ी संतुष्टि मिली. वहीं अब चावली गांव के लिए प्रेरणा-स्त्रोत बन गई.
.
बता दें कि गांव चिंदड़ की गोशाला में अब करीब 700 गोवंशी हैं. पहले संचालन में काफी परेशानी आती थी. जमीन दान देने के उपरांत अब 12 एकड़ जमीन में खूब चारा व अन्य फसल होती है. इससे गोशाला के संचालन में आसानी हुई. गोशाला कमेटी के सदस्य बताते हैं कि चावली देवी ने जमीन दान देने के पहले से ही गोशाला से जुड़ी हुई हैं. अक्सर गोशाला में जब कथा का आयोजन होता था तब लाखों रुपये दान देती थीं. वहीं गोशाला में शेड का भी निर्माण करवाया, जिसमें काफी लागत आई.