मध्यप्रदेश में दोस्त के सामने मंदिर घूमने आई लड़की से गैंगरेप, छह युवकों ने बंधक बनाकर किया ऐसा

एमपी के रीवा जिले में एक दिल दहला देने वाली घटना घटी है। अष्टभुजी माता मंदिर के पास अपने दोस्त के साथ आई नाबालिग लड़की से छह लोगों ने गैंगरेप किया है। घटना के बाद सभी फरार हैं। वहीं, पीड़िता का अस्पताल में इलाज चल रहा है।

In Madhya Pradesh, the girl who came to visit the temple in front of a friend was gang-raped, six youths did this by taking hostage
In Madhya Pradesh, the girl who came to visit the temple in front of a friend was gang-raped, six youths did this by taking hostage
इस खबर को शेयर करें

रीवा: दोस्त के साथ मंदिर आई एक किशोरी के साथ आधा दर्जन युवकों ने दरिंदगी की है। कूड़ा में किशोरी को बंधक बनाकर उन्होंने गैंगरेप (rewa gangrape case news update) किया। बाद में उसके साथ मारपीट कर पायल और मोबाइल भी छीनकर भाग गए। इस खौफनाक घटना की सूचना मिलते ही तत्काल पुलिस मौके पर पहुंच गई। घटना को अंजाम देने वाले आरोपी फरार बताए जा रहे है, जिनकी पुलिस तलाश कर रही है। यह घटना नई गढ़ी थाने के अष्टभुजी माता मंदिर की है। यहां पर एक किशोरी अपने दोस्त के साथ दोपहर में आई थी। मंदिर में दर्शन करने के बाद वे समीप ही बैठकर बातचीत कर रहे थे। उसी समय आधा दर्जन युवक वहां पहुंच गए।

आरोपी उनको धमकाने लगे और युवक के सामने किशोरी को घसीटकर कूड़ा के नीचे तरफ ले गए। इस दौरान एक-एक करके आधा दर्जन युवकों ने पीड़िता के साथ दरिंदगी की। करीब एक घंटे से ज्यादा समय तक आरोपी उनको बंधक बनाए हुए थे। उनके चंगुल में फंसी किशोरी और उसका दोस्त आरोपियों से रहम की भीख मांग रहे थे लेकिन किसी ने एक न सुनी। आरोपियों की दरिंदगी सिर्फ यही तक नहीं रुकी। घटना के बाद उन्होंने किशोरी से मारपीट कर मोबाइल और पायल तक छीन ली। बाद में उनको धमकाते हुए मौके से फरार हो गए।

बदहवास पीड़िता और उसका दोस्त किसी तरह बाहर निकले और पुलिस को सूचना दी गई। तत्काल एसडीओपी नवीन दुबे सहित नईगढ़ी पुलिस मौके पर पहुंच गई। पुलिस ने उनके परिजनों को जानकारी दी और उनको लेकर आ गई। दरिंदगी की शिकार किशोरी की हालत खराब थी, जिस पर तत्काल उसको इलाज के लिए अस्पताल भिजवा दिया गया। आरोपियों के खिलाफ पुलिस ने धारा 376डी, 395, 506 व पाक्सो एक्ट के तहत प्रकरण पंजीबद्ध कर लिया है।

बदनामी के डर से नहीं करा रही थी एफआईआर
इस खौफनाक घटना का शिकार हुई पीड़िता आरोपियों के खिलाफ रिपोर्ट लिखाने तक को तैयार नहीं थी। बदनामी और आरोपियों ने घटना किसी को बताने पर जान से मारने की धमकी दी थी। बाद में पुलिस ने उसको समझाइश दी। खुद एसडीओपी ने उससे बात की और आरोपियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई का भरोसा दिलाया। उसके बाद पीडि़ता शिकायत दर्ज करवाने को राजी हुई। पुलिस ने तत्काल प्रकरण पंजीबद्ध कर लिया है।

दो आरोपियों की हो गई पहचान
इस खौफनाक घटना अंजाम देने वाले आरोपियों की संख्या 6 बताई जा रही है, जो स्थानीय है। पुलिस ने दो आरोपियों की पहचान शिवम यादव और विद्यासागर बहेलिया के रूप में की है जो फरार बताए जा रहे हैं। पुलिस आरोपियों की तलाश में गांवों में दबिश दे रही है। पुलिस ने पूरे इलाके में सर्चिंग शुरू कर दी है और देर रात तक आरोपियों को हिरासत में ले लेने की उम्मीद पुलिस जता रही है।

पहले भी बनाया है प्रेमी जोड़ों को निशाना
आरोपियों ने जिस अंदाज से इस खौफनाक घटना को अंजाम दिया है, उससे उम्मीद जताई जा रही है कि उन्होंने कई अन्य पीड़िताओं के साथ इसी तरह दरिंदगी की है। अष्टभुजी मंदिर और उसके पास स्थित कूड़ा में काफी संख्या में लड़के-लड़कियां घूमने के लिए आते हैं। आरोपियों ने कई अन्य लड़कियों को भी अपनी हवस का शिकार बनाया होगा लेकिन बदनामी के डर से लड़कियों ने रिपोर्ट नहीं की। आरोपियों की गिरफ्तारी के बाद पुलिस उनसे अन्य घटनाओं के संबंध में भी पूछताछ करेगी।

मऊगंज एसडीओपी ने कहा किएक किशोरी अपने दोस्त के साथ अष्टभुजी मंदिर आई थी। यहां पर आधा दर्जन युवकों ने उनको पकड़ लिया और किशोरी के साथ गैंगरेप की घटना को अंजाम दिया है। आरोपी उसके साथ मारपीट कर मोबाइल, पायल छीन ले गए हैं। शिकायत मिलने पर आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज कर उनकी तलाश की जा रही है। छह आरोपी घटना में शामिल थे, जिसमें दो की पहचान कर ली गई है। उनकी गिरफ्तारी के लिए पुलिस टीम हर संभावित ठिकानों में दबिश दे रही है।