मुजफ्फरनगर में दोस्त ही निकला दोस्त का हत्याराः पूछताछ में उगला राज

In Muzaffarnagar, a friend turned out to be the killer of a friend: Secret revealed during interrogation
In Muzaffarnagar, a friend turned out to be the killer of a friend: Secret revealed during interrogation
इस खबर को शेयर करें

मुजफ्फरनगर। मुजफ्फरनगर में पुलिस ने आशुतोष की हत्या का खुलासा कर दिया है। आशुतोष की हत्या उसके दोस्त सागर ने की थी। पुलिस ने सागर को गिरफ्तार कर लिया है। उसने पूछताछ में हत्या की बड़ी वजह बताई है।

मुजफ्फरनगर में मंसूरपुर पुलिस ने गांव घासीपुरा में किराए के मकान में हुई रेस्टोरेंट कर्मचारी आशुतोष की हत्या का खुलासा करते हुए नामजद आरोपी सागर को गिरफ्तार किया है। आरोपी ने पुलिस को बताया कि मृतक उसका साथी था। वह और अन्य साथी रेस्टोरेंट पर काम को लेकर उस पर टिप्पणी करते रहते थे। इससे वह परेशान था। मौका पाकर उसने अपने साथी आशुतोष के सिर में डंडा मार कर उसकी हत्या कर दी थी।

मुजफ्फरनगर मेडिकल कॉलेज परिसर में पंजाबी चाय कैंटीन में कार्य करने वाले आशुतोष उर्फ अमित निवासी पौड़ी गढ़वाल उत्तराखंड का शव 12 मई को गांव घासीपुरा में किराए के कमरे में मिला था। कमरे पर बाहर से ताला लगा हुआ था और उसका साथी सागर उसका मोबाइल लेकर फरार हो गया था। रेस्टोरेंट संचालक अमित राणा की ओर से सागर के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज कराया गया था।
थाना प्रभारी आशुतोष कुमार ने बताया कि मृतक आशुतोष और हत्यारोपी सागर मुजफ्फरनगर मेडिकल कॉलेज परिसर में एक कैंटीन पर कार्य करते थे। मेरठ के किला परीक्षितगढ़ के गांव एचीकलां निवासी हत्यारोपी सागर कैंटीन पर कुछ दिन पहले ही कार्य करने के लिए आया था।

पूछताछ में सागर ने बताया कि वह कैंटीन का ज्यादा कार्य नहीं जानता था। इसलिए सागर और अन्य साथी उस पर टिप्पणियां करते रहते थे। इससे वह नाराज रहता था। मौका देखकर उसने आशुतोष की सिर में डंडा मार कर हत्या कर दी थी और बाहर से ताला लगाकर और उसका मोबाइल लेकर फरार हो गया था।

थाना प्रभारी ने बताया कि आरोपी सागर के पिता की काफी समय पहले मौत हो चुकी है और मां ने दूसरी शादी कर ली थी। इसी के चलते सागर यहां-वहां काम करता रहता था।

वहीं, मंगलवार को नामजद आरोपी को पुलिस ने नेशनल हाईवे पर घासीपुरा कट के पास से गिरफ्तार कर लिया। उसके पास से हत्या में प्रयुक्त डंडा और मृतक का मोबाइल भी बरामद किया है। आरोपी का चालान कर दिया गया।