मुजफ्फरनगर में अग्निवीर सेना भर्ती में प्रतिबंधित इंजेक्शन लगा रहे थे दौड, 50 पकडे

सैन्य अफसरों की शिकायत पर चिकित्सा विभाग की टीम ने की जांच, अमरोहा से आये 50 अभ्यर्थियों को पकड़ा, दौड़ के लिए स्टेमिना बढ़ाने को प्रतिबंधित इंजेक्शन लगाकर आये थे युवक, जांच में खुलासा होने पर भर्ती रैली से किया बाहर।

In Muzaffarnagar, Agniveer was giving banned injections in army recruitment, 50 caught
In Muzaffarnagar, Agniveer was giving banned injections in army recruitment, 50 caught
इस खबर को शेयर करें

मुजफ्फरनगर। अग्निवीर सैन्य भर्ती रैली के दौरान फर्जीवाडा करने के तीन आरोपियों की गिरफ्तारी के बाद भी नये प्रकरण सामने आ रहे हैं। शुक्रवार को दौड़ के लिए चयनित किये गये अभ्यर्थियों में से करीब 50 ऐसे युवकों को पकड़ा गया है, जो दौड़ में सफल होने के लिए प्रतिबंधित दवाईयों को लेकर आये थे। इनमें से अधिकांश ने खुदको इंजेक्शन लगाया था। मेडिकल जांच में चिकित्सा विभाग की टीम ने इन अभ्यर्थियों को पकड़ा और इसके बाद सैन्य अफसरों ने इनको सैन्य भर्ती की दावेदारी से बाहर कर दिया। इसके साथ ही आज भी दस्तावेजों में फर्जीवाडा करने वाले कई अभ्यर्थी जांच पड़ताल के दौरान पकड़े गये और उनको भर्ती परीक्षा के लिए अयोग्य घोषित कर बाहर कर दिया गया। वहीं आज करीब 70 प्रतिशत युवाओं ने शारीरिक दक्षता परीक्षा में सम्मिलित होकर सैन्य अफसरों की कसौटी पर अपनी दावेदारी को मजबूती के साथ पेश करने का प्रयास किया।

सूत्रों के अनुसार जनपद में चौ. चरण सिंह स्पोर्ट्स स्टेडियम पर चल रही अग्निपथ योजना की अग्निवीर सैन्य कर्मी भर्ती रैली में फर्जी दस्तावेजों के जाल का खुलासा होने के बाद अब प्रतिबंधित दवाईयों के सेवन का मामला सामने आया है। सूत्रों ने बताया कि आज अमरोहा जनपद की अमरोहा सदर और हसनपुर तहसीलों के अभ्यर्थियों की भर्ती रैली परीक्षा का आयोजन किया गया। रात्रि करीब 11 बजे से इन दोनों तहसीलों के अभ्यर्थियों को मैदान पर एंट्री दी गयी। हाइट चैक और वजन के बाद इनका ड्रग्स चैक भी कराया गया। इस दौरान काफी संख्या में युवकों को प्रतिबंधित दवाईयों का सेवन करते हुए पाया गया। अमरोहा की हसनपुर तहसील से आये अभ्यर्थी मनोज, संदीप और अमरोहा शहर के निवासी वाजिद, विशाल, अमर ने बताया कि रात्रि से सवेरे तक मेडिकल टीम के साथ सैन्य कर्मियों ने सभी युवकों की बेहद सख्त चैकिंग की। कुछ अभ्यर्थियों के पास से इंजेक्शन भी मिले। उनको निकाल दिया गया है।

सूत्रों ने बताया कि रात्रि में हाइट और डाक्यूमेंट चैकिंग के दौरान ही कुछ युवक नशे जैसी हालत में मिले तो सैन्य अफसरों ने इसके लिए लोकल प्रशासन से बात करते हुए उनका मेडिकल कराने की मांग की। इसके बाद सीएमओ के निर्देश पर सैन्य भर्ती स्थल पर जिला अस्पताल से चिकित्सक अपनी टीम के साथ पहुंचे थे। उन्होंने संदिग्ध युवकों की जांच पड़ताल की तो वह प्रतिबंधित दवाईयों का सेवन किये पाये गये। इनमें से अधिकांश ने स्टेमिना बढ़ाने के लिए प्रतिबंधित इंजेक्शन लिये थे। बताया गया कि करीब 40-50 अभ्यर्थियों को प्रतिबंधित दवाईयों के सेवन करने पर सैन्य भर्ती से बाहर कर दिया गया है। इसके साथ ही जांच पड़ताल में कई ऐसे भी अभ्यर्थी पकड़े गये हैं, जिनके पास फर्जी आधार पाया गया है। इनमें कुछ अभ्यर्थी ऐसे थे, जो पहले सैन्य भर्ती रैली में भाग कर चुके हैं और उसमें दिये गये आधार में उनकी जन्मतिथि दूसरी है और इस भर्ती के लिए दिये गये आधार में उनकी जन्मतिथि दूसरी पाई गयी है। ऐसे युवकों का आवेदन भी निरस्त करते हुए उनको अयोग्य घोषित कर भर्ती रैली से बाहर कर दिया गया।

सूत्रों के अनुसार अमरोहा जनपद की दो तहसीलों अमरोहा सदर और हसनपुर से करीब 6 हजार युवाओं ने अग्निवीर के विभिन्न पदों के लिए आवेदन किया था। इनमें से करीब 70 फीसदी अभ्यर्थी ही जिला मुख्यालय पर पहुंचे थे। शनिवार को जनपद सहारनपुर की तीन तहसीलों सहारनपुर सदर, देवबन्द और रामपुर मनिहारन के युवाओं की भर्ती रैली होगी। एक तरह से लोकल भर्ती होने के कारण आज से ही सुरक्षा बंदोबस्त कड़े कर दिये गये हैं। इसमें बड़ी संख्या में अभ्यर्थियों के पहुंचने की संभावना बनी है।