राजस्थान में युवक को अस्पताल वालों ने चढा दिया गलत खून, हुई मौत, मचा हाहाकार

इस खबर को शेयर करें

जयपुर। राजस्थान के जयपुर में सवाई मानसिंह अस्पताल (Sawai Man Singh Hospital) में बड़ी लापरवाही सामने आई है. यहां एक्सीडेंट के बाद इलाज के लिए भर्ती 23 साल के युवक सचिन शर्मा को दूसरे ग्रुप का ब्लड अस्पताल के कर्मचारियों ने चढ़ा दिया, जिससे युवक की दोनों किडनियां फेल हो गईं. शुक्रवार सुबह उसकी मौत हो गई.

इस घटना के बाद मृतक के परिजनों का गुस्सा फूट पड़ा. उन्होंने कहा कि 3 घंटे इंतजार कराया. डॉक्टर से नहीं, नर्सों से अस्पताल चल रहा है. गलत ब्लड चढ़ाने से हमारे घर के लड़के की मौत हो गई है. यह लापरवाही नहीं, हत्या है. हमें तो पर्ची थमाकर ब्लड लाने के कहा गया. हमने ब्लड लाकर दे दिया. तीन दिन तक वह बोलता-बताता रहा.

बीती रात को उसे बेहोशी का इंजेक्शन लगा दिया. इसके बाद उसकी बोलती बंद हो गई. आखिरकार आज सुबह उसकी मौत हो गई. वह परिवार का अकेला कमाने वाला था. उसकी एक बहन है. परिजनों का आरोप है कि पिछले 12 दिनों से उसके इलाज में लापरवाही बरती गई. इसकी वजह से उसकी मौत हुई है. यह लापरवाही नहीं, हत्या है. दोषियों के खिलाफ कार्रवाई हो और परिजनों को सरकार मुआवजा दे.

परिजनों ने लगाया जाम, पुलिस को करनी पड़ी मशक्कत

परिजनों ने कहा कि हमें सरकार से न्याय चाहिए. इस मांग के साथ ही उन्होंने अस्पताल के बाहर धरना देना शुरू कर दिया. उनकी मांग थी कि मुख्यमंत्री यहां आएं और हमसे बात करें. परिजनों के विरोध प्रदर्शन की वजह से सड़क जाम हो गई. इसमें एक एंबुलेंस भी फंस गई थी. पुलिस ने परिजनों को काफी समझाने की कोशिश की. इसके बाद बड़ी मुश्किल से पुलिस ने किसी तरह से जाम खुलवाया. घंटों तक राहगीर और गाड़ियां जाम में फंसी रहीं.

एबी पॉजिटिव की जगह चढ़ा दिया गया ‘O पॉजिटिव’ ब्लड

गलत ब्लड ग्रुप चढ़ाने से सचिन की दोनों किडनियां फेल हो गई थीं.
जानकारी के अनुसार, बांदीकुई शहर का रहने वाला 23 साल के सचिन शर्मा का कोटपुतली शहर में एक्सीडेंट हो गया था. वह गार्ड की नौकरी करता था. हादसे में गंभीर रूप से घायल होने के बाद सचिन के पैर में फ्रैक्चर हो गया था. इसके इलाज के लिए जयपुर के राजकीय सवाई मान सिंह अस्पताल के ट्रॉमा सेंटर में सचिन को भर्ती कराया गया था.

एक्सीडेंट में सचिन का ब्लड ज्यादा बह गया था. लिहाजा, डॉक्टरों ने सचिन को ब्लड चढ़ाने को कहा. सचिन को एबी पॉजिटिव ब्लड की जगह ‘O पॉजिटिव’ ब्लड चढ़ा दिया गया. इसकी वजह से उसकी हालत और ज्यादा खराब होने लगी. उसकी दोनों किडनियां फेल हो गईं और उसे डायलिसिस (dialysis) पर रखा गया. आखिरकार आज सुबह उसकी मौत हो गई.

सरकार ने दिए मामले की जांच के आदेश

मामले के सुर्खियों में आने के बाद सरकार ने संज्ञान लेते हुए जांच के आदेश दिए हैं. मामले में सवाईमान सिंह अस्पताल के अधीक्षक राजीव बगरट्टा ने कहा कि ये बहुत दुखद घटना है. मामले की जानकारी मिलने के बाद हमने इसकी जांच के लिए एक कमेटी का गठन कल ही कर दिया था. जो आरोप लगे हैं, उनकी जांच की जा रही है. कुछ ही घंटों में हम रिपोर्ट पेश कर देंगे.