यूपी के इन शहरों में अग्निवीर को लेकर युवाओं ने मचाया तांडव, तोड़फोड़, आगजनी

Protest On Agneepath: सेना भर्ती से जुड़ी 'अग्निपथ' योजना के खिलाफ देशभर में तीन दिन से हिंसक प्रदर्शन देखने को मिल रहे हैं. शुक्रवार को उत्तर प्रदेश के कई जिलों में युवकों ने ट्रेनों में तोड़फोड़ की, बसों को क्षतिग्रस्त किया और एक पुलिस चौकी को आग के हवाले कर दिया. गौ

In these cities of UP, youth created orgy, sabotage, arson over Agniveer
In these cities of UP, youth created orgy, sabotage, arson over Agniveer
इस खबर को शेयर करें

लखनऊ। Protest On Agneepath: सेना भर्ती से जुड़ी ‘अग्निपथ’ योजना के खिलाफ देशभर में तीन दिन से हिंसक प्रदर्शन देखने को मिल रहे हैं. शुक्रवार को उत्तर प्रदेश के कई जिलों में युवकों ने ट्रेनों में तोड़फोड़ की, बसों को क्षतिग्रस्त किया और एक पुलिस चौकी को आग के हवाले कर दिया. गौतमबुद्ध नगर, बलिया, अलीगढ़ और वाराणसी समेत राज्यभर में 17 स्थानों पर विरोध प्रदर्शन हुए. पूरे यूपी में शुक्रवार तक कुल 260 लोगों को गिरफ्तार किया गया और 6 प्राथमिकी दर्ज की गईं.

नोएडा: एक्सप्रेस-वे जाम, 15 गिरफ्तार, 225 पर हिंसा का केस

पश्चिमी उत्तर प्रदेश में शुक्रवार को यमुना एक्सप्रेसवे पर उतरकर कई युवाओं ने विरोध किया और कुछ समय के लिए ट्रैफिक जाम कर दिया, जिसके बाद गौतम बौद्ध नगर पुलिस ने 225 प्रदर्शनकारियों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की और 15 को गिरफ्तार किया. पुलिस ने बताया कि दिल्ली से सटे जेवर इलाके में विरोध प्रदर्शन के दौरान हिंसा में आठ पुलिसकर्मी और एक निजी बस का चालक घायल हो गया.

एक घंटे तक ट्रैफिक जाम रहा

इसके अलावा, ग्रेटर नोएडा और मथुरा-आगरा के बीच जेवर टोल प्लाजा से दोपहर 12 बजे से करीब एक घंटे तक ट्रैफिक बाधित रहा. कानून-व्यवस्था को बनाए रखने के लिए बड़ी संख्या में पुलिसबल को धरना स्थल पर भेजा गया. कई वाहनों को परी चौक से डायवर्ट किया गया.

वहीं, नोएडा के पुलिस आयुक्त आलोक सिंह ने एक बयान में कहा कि विरोध के कारण नोएडा या ग्रेटर नोएडा में कोई राजमार्ग बंद नहीं किया गया. गौतम बौद्ध नगर में वाहनों की आवाजाही सामान्य थी. बाद में शाम को पुलिस ने एक बयान में कहा कि दिन में वाहनों की आवाजाही रोकने और विरोध प्रदर्शन करने पर 10 लोगों को गिरफ्तार किया है. 225 लोगों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की है. बाद में गिरफ्तारियों की संख्या 15 बताई गई.

हिंसा में 8 पुलिसवाले जख्मी

यूपी के एडीजी लॉ एंड ऑर्डर प्रशांत कुमार ने बताया कि कुछ अराजकतत्वों ने सड़क पर जाम लगाकर पथराव किया. सड़क पर खड़ी एक निजी बस में तोड़फोड़ की गई. इस घटना में आठ पुलिसकर्मी और एक बस चालक घायल हो गया. इस मामले में स्थानीय जेवर पुलिस स्टेशन में प्राथमिकी दर्ज की गई. आरोपियों में से 75 नामजद हैं और 225 अज्ञात हैं.

मथुरा: प्रदर्शनकारियों पर लाठीचार्ज

मथुरा के हाईवे थाना क्षेत्र में बड़ी तादाद में युवा राष्ट्रीय राजमार्ग पर पहुंच गए. युवाओं ने केंद्र सरकार के खिलाफ नारेबाजी भी की. पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को समझा-बुझाकर प्रदर्शन खत्म कराने की कोशिश की, लेकिन हालात और बिगड़ गए. इस दौरान पथराव की भी घटना हुई है. पुलिस ने प्रदर्शनकारियों पर लाठीचार्ज कर दिया. इस दौरान हाईवे पर जाम लग गया और बुजुर्ग, महिलाएं, बच्चे वाहनों में फंस गए. मथुरा पुलिस ने वाहनों में फंसे लोगों को निकाला. इस दौरान फायरिंग का भी एक वीडियो सामने आया है. इस वीडियो में नजर आ रहा है कि हाईवे पर खड़े एक वाहन की ओट से एक पुलिसकर्मी, प्रदर्शनकारियों की ओर फायरिंग कर रहा है. ये वीडियो मथुरा जिले के हाईवे थाना क्षेत्र का बताया जा रहा है.

बलिया: डीएम ने 2 महीने के लिए धारा 144 लागू की

यूपी के बलिया में अग्निपथ योजना का विरोध हो रहा है. यहां जिलाधिकारी सौम्या अग्रवाल ने हालिया विरोध प्रदर्शनों के मद्देनजर अगले दो महीनों के लिए धारा 144 लगा दी है. ताकि अनावश्यक भीड़ इकट्ठी ना हो सके. जिला प्रशासन की ओर से शुक्रवार शाम एक आधिकारिक बयान में ये जानकारी दी गई. डीएम ने आदेश में कहा कि इस अवधि के दौरान सार्वजनिक स्थान पर पांच से अधिक लोग इकट्ठा नहीं हो सकते हैं. इसके अलावा, लोगों को किसी भी विरोध प्रदर्शन की अनुमति नहीं दी जाएगी, जो शांति और व्यवस्था में खलल डालती हो. हालांकि, आदेश में ये साफ किया गया है कि ये प्रतिबंध पारंपरिक सामाजिक या धार्मिक संस्कारों और रीति-रिवाजों और शुक्रवार की नमाज पर लागू नहीं होगा.

डीएम ने कहा कि कोई भी व्यक्ति किसी भी प्रकार का हथियार या अन्य धारदार हथियार, विस्फोटक पदार्थ लेकर नहीं निकलेगा. इसके अलावा, कोई भी व्यक्ति किसी भी सार्वजनिक स्थान, मंदिर, मस्जिद, गुरुद्वारे या घर के अंदर ईंट, पत्थर, कांच की बोतलें और कांच के टुकड़े आदि एकत्र नहीं करेगा. किसी को भी सांप्रदायिकता को भड़काने वाले पोस्टर, बैनर आदि लगाने की अनुमति नहीं है.

बलिया: ट्रेन कोच में आग लगाई, 100 लोग हिरासत में

प्रदर्शनकारियों ने बलिया में एक ट्रेन के कोच में आग लगा दी. पुलिस ने भीड़ को तितर-बितर करने के लिए आंसू गैस के गोले छोड़े और 100 लोगों को हिरासत में ले लिया. बलिया के पुलिस अधीक्षक राज करण नैय्यर ने बताया कि कुछ छात्रों ने रेलवे स्टेशन से लौटते समय एक खाली ट्रेन की खिड़की का शीशा तोड़ने की कोशिश की और एक डिब्बे में आग लगा दी. जिलाधिकारी सौम्या अग्रवाल ने बताया कि करीब 100 लोगों को हिरासत में लिया गया है. उन्होंने कहा कि सीसीटीवी फुटेज के जरिए आरोपियों की पहचान की गई और उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई शुरू की जाएगी. फिलहाल, स्थिति नियंत्रण में है.

बलिया में मंत्री के दफ्तर में तोड़फोड़

बलिया विधायक और राज्य परिवहन मंत्री दया शंकर सिंह के भाई धर्मेंद्र सिंह ने बताया कि अराजकतत्वों ने विधायक के कैंप कार्यालय पर पथराव किया और कार्यालय के गेट पर लगे होर्डिंग को भी क्षतिग्रस्त कर दिया. जिला विद्यालय निरीक्षक राकेश कुमार ने आदेश दिया है कि अगले आदेश के बाद ही अवकाश के बाद स्कूल खोले जाएंगे.

अलीगढ़: पुलिस वाहन और चौकी में आग लगाई

अलीगढ़ के जट्टारी में प्रदर्शनकारियों के एक ग्रुप ने पुलिस वाहन और चौकी में आग लगा दी. इस दौरान एक पुलिस अधिकारी घायल हो गया. जट्टारी अलीगढ़ शहर को यमुना एक्सप्रेसवे से जोड़ने वाले राजमार्ग पर है. अलीगढ़ पुलिस ने

30 लोगों को हिरासत में लिया है. बाद में पुलिस ने अलीगढ़ में फ्लैग मार्च भी किया. रेलवे ने नुकसान को रोकने के लिए कई ट्रेनों को रद्द या रोक दिया है.

अलीगढ़ में सर्किल अफसर जख्मी

अलीगढ़ में टप्पल के पास यमुना एक्सप्रेसवे पर एक बस में आग लगा दी गई और कम से कम दो अन्य वाहन क्षतिग्रस्त हो गए. एडीजी (कानून व्यवस्था) प्रशांत कुमार ने कहा कि अलीगढ़ में विरोध प्रदर्शन में सर्किल ऑफिसर खैर इंदु सिद्धार्थ घायल हो गए. कुमार ने बताया कि सर्किल अफसर फिलहाल ठीक हैं. मैंने व्यक्तिगत रूप से बात की. उन्हें मामूली चोटें आईं लेकिन वह एक बहादुर पुलिसकर्मी की तरह अपना कर्तव्य निभा रहे हैं.

एसएसपी कालंदीधि नैथानी ने बताया कि अलीगढ़ में हिंसक विरोध प्रदर्शन में शामिल 30 आरोपियों को पुलिस ने हिरासत में लिया है. आरोपियों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की जा रही है. जिले में शांति बहाल कर दी गई है.

फिरोजाबाद: चार बसों में तोड़फोड़

फिरोजाबाद में आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे पर पथराव में चार बसें क्षतिग्रस्त हो गईं. एसपी (ग्रामीण) अखिलेश नारायण ने कहा कि मतसेना में प्रदर्शनकारियों ने सुबह करीब सात बजे बैरियर लगा दिए और बसों को रोक दिया. फिलहाल, यात्रियों को वैकल्पिक बसें उपलब्ध कराई गईं. आरोपियों की पहचान की जा रही है.

एडीजी कुमार ने कहा कि बलिया और अलीगढ़ से आगजनी की सूचना मिली हैं. उन्होंने बताया कि बलिया में युवकों ने खाली ट्रेन की बोगी में आग लगा दी. एक वीडियो में कुछ युवकों को नारे लगाते हुए और बलिया-वाराणसी-मेमू और बलिया-शाहगंज ट्रेनों में तोड़फोड़ करते हुए दिखाया गया है. अराजक तत्वों ने रेलवे गोदाम के पास भी पथराव किया और रेलवे स्टेशन के प्लेटफॉर्म पर निजी दुकानों को निशाना बनाया.

वाराणसी: बसों को क्षतिग्रस्त कर दिया गया

वाराणसी में युवाओं ने छावनी रेलवे स्टेशन पर सरकार विरोधी नारे लगाए और बसों और गाड़ियों को क्षतिग्रस्त कर दिया. शहर के लहरतारा इलाके में डीआरएम कार्यालय के बाहर भी युवकों ने बसों को क्षतिग्रस्त कर दिया. पुलिस आयुक्त ए सतीश गणेश ने कहा कि प्रदर्शनकारियों से शांति बनाए रखने की अपील की गई है. प्रदर्शनकारियों ने आगरा-ग्वालियर राजमार्ग पर भी यातायात बाधित कर दिया. भीड़ ने आगरा के मालपुरा थाना एसएचओ के वाहन पर पथराव किया. इसके बाद भंडई रेलवे स्टेशन के पास एक ट्रेन पर पथराव किया गया. एसपी (पश्चिम) सत्यजीत गुप्ता ने कहा कि घटना में किसी को चोट नहीं आई है.

अमेठी और उन्नाव में भी विरोध

अमेठी में युवकों ने दुर्गापुर और प्रतापगढ़ जाने वाले रास्ते को जाम कर दिया. उन्नाव में महात्मा गांधी इंटर कॉलेज के पास सफीपुर में युवकों ने विरोध प्रदर्शन किया. उसके बाद रक्षा मंत्री को संबोधित एसडीएम को ज्ञापन सौंपा. युवकों ने बाइक रैली भी निकाली और नारेबाजी की. उन्नाव के एसएसपी शशि शेखर ने कहा कि प्रदर्शनकारियों को नई भर्ती योजना के बारे में समझाया गया और वापस भेज दिया गया.

बता दें कि प्रदेश में जैसे ही विरोध प्रदर्शन हुआ, रेलवे ने कुछ ट्रेनों को रद्द कर दिया, जबकि कुछ अन्य को रोक दिया. पूर्वोत्तर रेलवे के प्रवक्ता पंकज सिंह ने न्यूज एजेंसी पीटीआई को बताया कि 12 ट्रेनों को रद्द कर दिया गया है.