पेट में गैस का बनना कहीं कैंसर का संकेत तो नहीं? हो जाएं अलर्ट वरना पड़ेगा भारी

Health Tips: पेट में गैस और कब्ज जैसी परेशानियां होना आम है, लेकिन इन्हें हल्के में लेना भारी साबित हो सकता है. पाचन से जुड़ी परेशानियां कई गंभीर बीमारियों के संकेत हो सकती हैं.

Is the formation of gas in the stomach a sign of cancer? Be alert or else it will be heavy
Is the formation of gas in the stomach a sign of cancer? Be alert or else it will be heavy
इस खबर को शेयर करें

Digestive Problems: पेट में गैस की परेशानी आम है. पाचन (Digestion) में गड़बड़ी होने पर पेट में भारीपन महसूस होने लगता है. गैस होने पर पेट में दर्द की परेशानी होने लगती है. पेट में गैस और दर्द के पीछे कुछ गंभीर कारण हो सकते हैं. पेट में गैस बनने के पीछे कैंसर जैसी गंभीर बीमारियां हो सकती हैं. स्लीप एपनिया, हाइपोथायरायडिज्म, सूजन और कब्ज जैसी परेशानियों की वजह से भी पेट में दर्द की परेशानी रहती है.

पेट का कैंसर
जब गैस बनती है तो पेट में दर्द की परेशानी भी होती है. पेट का कैंसर होने पर भी ऐसे ही लक्षण दिखाई देते हैं. पेट का कैंसर होने पर गैस, पेट में भारीपन, ऐंठन और दर्द की परेशानी जैसे संकेत दिखाई देते हैं. कैंसर होने पर रेक्टल ब्लीडिंग की दिक्कत भी हो सकती है. पेट के कैंसर के ये लक्षण जानलेवा साबित हो सकते हैं.

हाइपोथायरायडिज्म
हाइपोथायरायडिज्म की वजह से भी पाचन से जुड़ी परेशानियां हो सकती हैं. इसकी वजह से पेट और आंत प्रभावित होते हैं, जिसके कारण कब्ज और गैस की परेशानी होने लगती है. इस तरह के लक्षण के साथ गले में दर्द की परेशानी हो तो थायरॉइड हो सकता है.

स्लीप एपनिया
स्लीप एपनिया होने वाले व्यक्ति नाक के बजाय मुंह से सांस लेते हैं. स्लीप एपनिया की वजह से खर्राटे लेते वक्त हमारे शरीर में हवा चली जाती है जिसकी वजह से पेट में गैस की परेशानी हो सकती है. अगर रोजाना गैस की परेशानी हो तो ये स्लीप एपनिया का लक्षण हो सकता है. ऐसे लक्षणों को नजरअंदाज करना घातक साबित हो सकता है.

इरिटेबल बॉवेल सिंड्रोम
इस बीमारी में पेट में ऐठन, कब्ज, गैस और सूजन जैसे लक्षण दिखाई देते हैं. इरिटेबल बॉवेल सिंड्रोम होने पर पाचन तंत्र बुरी तरह प्रभावित हो सकता है. इस तरह की परेशानियां दिखाई देने पर इलाज करवाना जरूरी है.

(Disclaimer: यहां दी गई जानकारी घरेलू नुस्खों और सामान्य जानकारियों पर आधारित है. इसे अपनाने से पहले चिकित्सीय सलाह जरूर लें. AAJ KI NEWS इसकी पुष्टि नहीं करता है.)