Jija Sali Story जीजा साली को हर रोज भेजता था गंदे मैसेज, साली ने किया ये काम

मेरे जीजाजी मेरे सोशल मीडिया अकाउंट्स पर मुझे गंदे मैसेजेस भेजते हैं और किसी भी फंक्शन में बहुत अच्छे से बिहेव करते हैं। ये बात जब मैंने अपने पति को बताई, तो उन्होंने कहा कि इस तरह के मैसेजेस को बढ़ावा देने में मेरी गलती है।

Jija Sali Story Jija used to send dirty messages to sister-in-law every day, sister-in-law did this work
Jija Sali Story Jija used to send dirty messages to sister-in-law every day, sister-in-law did this work
इस खबर को शेयर करें

मेरे जीजाजी मेरे सोशल मीडिया अकाउंट्स पर मुझे गंदे मैसेजेस भेजते हैं और किसी भी फंक्शन में बहुत अच्छे से बिहेव करते हैं। ये बात जब मैंने अपने पति को बताई, तो उन्होंने कहा कि इस तरह के मैसेजेस को बढ़ावा देने में मेरी गलती है। जीजा जी मेरे साथ फ़्लर्ट करने की कोशिश भी करते हैं लेकिन मैं उनके साथ अकेले रहने से बचती हूं। मैंने उन्हें घर की लड़कियों के साथ भी स्मार्ट तरह से एक्ट करते हुए देखा है। मैं उन्हें शर्मिंदा और बेनकाब करना चाहती हूं.. मुझे क्या करना चाहिए?

एक्सपर्ट का जवाब
डॉक्टर रचना सिंह कहती हैं कि हम सभी ऐसी स्थितियों में रहे हैं जहां हम कई बार असहज महसूस करते हैं और बहुत बार हम इसे लेकर कुछ नहीं कर पाते हैं। सालों से विमन्स इस तरह की परिस्थितियां झेल रही हैं। अगर कोई आपको असहज महसूस कराता है, तो आपको उस पर तुरंत लगाम लेनी की जरूरत है फिर चाहे वो रिश्तेदार हो, दोस्त हो या कोई अनजान शख्स हो। अगर कोई आदमी आपको अनकम्फर्ट महसूस कराता है, तो आपको इन तरीकों को अपनाने की जरूरत है।

​सीमाओं को निर्धारित करना बेहद जरूरी
सबसे पहले आपको खुद से सीमाएं बनानी होगी कि आपके लिए क्या ठीक है और क्या नहीं है। अगर आपको अपनी ही सीमा नहीं पता होगी, तो आपके लिए उस शख्स को कंट्रोल कर पाना बेहद मुश्किल हो जाएगा। आप आराम से इसके बारे में सोचें कि आपको किन चीजों ने असहज महसूस कराया, उसके बाद ही आप आत्मविश्वास के साथ कदम उठा पाएंगे।

ना’ कहना सीखें
किसी भी चीज के लिए ना कहना एक तरह की प्रैक्टिस है, जो खासतौर से विमन्स में बचपन से ही विकसित की जानी चाहिए। यह एक बहुत ही सरल शब्द है, जो आपको किसी ऐसी स्थिति में होने से बचा सकता है, जहां आपको नहीं होना चाहिए। इस बात पर ध्यान न दें कि आपको असहज कौन महसूस करा रहा है, बस न कहने की आदत अपने अंदर डाल लें। बेहिचक होकर साफतौर पर अपनी बात कहें, ताकि सामने वाले को क्लीयर रहे कि आप क्या सोच रहे हैं।

सिचुएशन को हैंडल करना सीखें
अगर आप कभी भी ऐसी परिस्थिति या बातचीत में फंस जाते हैं, जो आपके लिए असहज है, तो बिना डरें उसे संभालने की कोशिश करें। एक दबंग की तरह सामने वाले को अपना फेस दिखाएं, ताकि वह इतना तो समझ जाए कि आप उससे डरते बिल्कुल भी नहीं हैं। मान लीजिए कि कोई आपके रिलेशनशिप स्टेटस के बारे में बात करके आपको परेशान कर रहा है और आप ऐसे सवाल के साथ कम्फर्टेबल नहीं हैं, तो सामने वाले को ये बताने में हिचक महसूस न करें बल्कि बिना डरे उसे बताएं कि वह आपसे इस तरह से बात न करे।