अभी-अभी: जेल से आसाराम को लेकर आई बड़ी खबर, देर रात पुलिस वालों ने…

Just now: Big news came about Asaram from jail, late night the police...
Just now: Big news came about Asaram from jail, late night the police...
इस खबर को शेयर करें

Asaram Health Update: महिला शिष्या से रेप के दोषी आसाराम की तबीयत फिर बिगड़ गई है. बुधवार देर रात उसे जोधपुर एम्स में भर्ती कराया गया है, जहां डॉक्टर्स की निगरानी में उसका इलाज चल रहा है. कुछ दिन पहले भी दिल का दौरा पड़ने के कारण उसे जोधपुर एम्स में भर्ती करा गया था. लेकिन इलाज के बाद पुलिस उसे वापस जोधपुर सेंट्रल जेल ले आई थी, और यहीं पर उसका उपचार जारी था. हालांकि देर रात फिर तबीयत बिगड़ने पर उसे अस्पताल में भर्ती कराया पड़ा.

बेटे ने जताई थी मिलने की इच्छा
गुजरात की जेल में बंद आसाराम के बेटे नारायण साईं ने हाई कोर्ट में अपने बीमार पिता से मिलने के लिए 20 दिन की अस्थायी जमानत याचिका डाली थी. नारायण साईं ने याचिका में कहा था कि उसके पिता जीवन के आखिरी पड़ाव पर हैं, और जीवित नहीं रह पाएगा. यदि कोर्ट उसे अपने पिता से जोधपुर जेल में मिलने की इजाजत दी जाती है तो सूरत से वहां तक आने-जाने के लिए पुलिस सुरक्षा का पूरा खर्च वहन करेगा. आपको बता दें कि आसाराम जोधपुर जेल में आजीवन कारावास की सजा भुगत रहा है, जबकि नारायण साईं को सूरत की एक जेल में रखा गया है.

कोर्ट से वापस ले ली थी याचिका
हालांकि सुनवाई के दौरान ही कोर्ट को सूचना मिली की आसाराम को वापस अस्पताल से जेल में शिफ्ट कर दिया गया था. इसके बाद जस्टिस ए. एस. सुपेहिया और जस्टिस विमल व्यास की बेंच ने कहा कि अगर आसाराम अस्पताल में था ही नहीं, तो इस कवायद का कोई मतलब ही नहीं था. पीठ ने राजस्थान उच्च न्यायालय द्वारा ही पारित एक हालिया आदेश का हवाला दिया, जिसमें कहा गया था कि आसाराम दिल्ली एम्स में इलाज कराने का इच्छुक नहीं था और केवल आयुर्वेदिक उपचार कराना चाहता था. इसके बाद अधिवक्ता ने याचिका वापस लेना उचित समझा. हालांकि बेटे के याचिका वापस लेने के दो दिन बाद ही आसाराम की तबीयत फिर बिगड़ गई.

भक्तों के लिए जारी किया था मैसेज
आखिरी बार जब आसाराम अस्पताल से वापस जेल आया था तब उसने अपने भक्तों के लिए जेल से ही एक ऑडियो मैसेज जारी किया था. आसाराम ने अपने भक्तों से संदेश में कहा कि, ‘मेरे पास जो मुसीबत है, वो आपके पास अभी नहीं है. और जो खुशी मेरे पास है, वो तुम्हारे पास नहीं है. खुले हवा मान के लिए जेल आया था. कुछ भक्तों को यह लगता है कि मैं गया तो नहीं हूं. ऐसी संतुष्टि है सबको, और जाने वाला भी नही हूं, तुम्हारा संकल्प भी काम कर रहा है.’

‘जांच कराने गया था एम्स’
आसाराम ने अपने भक्तों से कहा कि तुम लोगों के संकल्प की वजह से अभी मैं कही नहीं जाने वाला हूं. संकल्प की वजह से मेरी तबीयत भी ठीक है. यहां जेल में कुछ चिकित्सकों ने कहा कि आपके अंदर की मशीनों में गड़बड़ी है, उसकी जांच यहां नहीं होकर एम्स जोधपुर में हो सकती है. चिकित्सक भले सज्जन हैं तो मैंने भी उनकी बात मान ली. चला गया एम्स. वहा जांचें हो गईं और उपचार हो गया तो वापस जेल आ गया हूं.’ आसाराम इतनी मुसीबत होने के बाद भी आध्यात्मिक पर ही चलने का संदेश दे रहा है. वीडियो के आखिर में आसाराम ने ये भी कहा कि आध्यात्म कभी मत छोड़ना. एक आध्यात्म की ताकत ही जो ईश्वर को मिलाती है और आपके संकल्प को पूरा करती है.