37 हजार फीट की ऊंचाई पर उड़ रहे जहाज के सो गए दोनों पायलट, बजा तेज अलॉर्म और फिर…

Ethiopian Airlines, Two Pilot Sleep, Miss Landing: चौंकाने वाली बात यह थी कि दोनों ही पायलट कुछ मिनटों के लिए ही नहीं बल्कि 25 मिनट तक सोते रहे. विमान लैंडिंग के लिए तय रनवे से काफी आगे बढ़ गया और करीब निर्धारित समय से 25 मिनट बाद उनकी नींद खुली. एविएशन हेराल्ड के मुताबिक बोइंग 737 ऑटो पॉयलट मोड में था.

Just now: In Muzaffarnagar, this RLD leader gave a warning of suicide, there was a stir
Just now: In Muzaffarnagar, this RLD leader gave a warning of suicide, there was a stir
इस खबर को शेयर करें

नई दिल्ली: अक्सर हम कार, ट्रक, बस और अन्य दूसरी गाड़ियों के ड्राइवरों के गाड़ी चलाते समय सो जानें या फिर उन्हें झपकी आने की खबरें सुनते हैं. लेकिन क्या आपने कभी प्लेन के पायलट के प्लेन उड़ाते समय सो जाने की खबर सुनी है. ऐसी ही एक हैरान करने देने वाली घटना इस समय चर्चा का विषय बनी हुई है. दक्षिण अफ्रीम में यह घटना उस समय हुई जब जहाज 37 हजार फीट की ऊंचाई पर उड़ रहा था.

किसी भी प्लेन में दो पायलट मौजूद होते हैं. जब एक को नींद या झपकी आती है तो दूसरा पायलट प्लेन संभालता है. लेकिन यहां सबसे अजीब बात यह थी कि दोनों ही पायलट प्लेन उड़ाते समय सो गए. जानकारी के अनुसार सूडान के खारतूम से इथोपिया की राजधानी अदीस अबाबा के लिए उड़ान भरने वाले पायलटों को नींद आ गई.

करीब आधे घंटे सोते रहे दोनों पायलट
चौंकाने वाली बात यह थी कि दोनों ही पायलट कुछ मिनटों के लिए ही नहीं बल्कि 25 मिनट तक सोते रहे. विमान लैंडिंग के लिए तय रनवे से काफी आगे बढ़ गया और करीब निर्धारित समय से 25 मिनट बाद उनकी नींद खुली.

तय रनवे से आगे निकल गया विमान
एविएशन हेराल्ड के मुताबिक बोइंग 737 ऑटो पॉयलट मोड में था और वह फ्लाइट मैनेजमेंट कम्प्यूटर द्वारा सेट किए गए रूट पर उड़ रहा था. प्लेन को अदीस अबाबा एयरपोर्ट के पहले तय रनवे पर उतरना था जो वहां नहीं उतरा. इसके बाद एयर ट्रैफिक कंट्रोलर ने पायलट को कॉल किया लेकिन उन्होंने कोई जवाब नहीं दिया. प्लेन जब ऑटो पायलट से डिस्कनेक्ट हुआ तो एक जोर से घंटी बजी जिसके बाद पायलटों की नींद खुली.

नींद खुलने के बाद पायलटों ने दोबारा विमान मोड़ा और तय रनवे पर सेफ लैंडिंग कराई. विमान विश्लेषक एलेक्स मैकेरास ने एक ट्वीट में इस इस घटना के बारे में जानकारी दी. उन्होंने इस घटना के लिए पायलट की थकान को जिम्मेदार ठहराया. हालांकि उन्होंने इसे एक गंभीर मामला बताते हुए इसे अंतरराष्ट्रीय स्तर पर हवाई सुरक्षा के लिए एक महत्वपूर्ण समस्या बताया है.