अभी अभीः राकेश टिकैत ने किया ऐलान, जुमे के दिन पूरे देश में होगा आंदोलन

सेना भर्ती से जुड़ी अग्निपथ स्कीम के खिलाफ किसानों का सबसे बड़ा संगठन ‘संयुक्त किसान मोर्चा’ (SKM) 24 जून को देशभर में जिला मुख्यालयों पर प्रदर्शन करेगा। नरेश-राकेश टिकैत वाली भारतीय किसान यूनियन ने भी अब 30 जून की बजाय 24 जून को SKM के साथ ही प्रदर्शन करने का फैसला लिया है।

Just now: Rakesh Tikait announced, there will be movement in the whole country on the day of Jume
Just now: Rakesh Tikait announced, there will be movement in the whole country on the day of Jume
इस खबर को शेयर करें

गाजियाबाद। सेना भर्ती से जुड़ी अग्निपथ स्कीम के खिलाफ किसानों का सबसे बड़ा संगठन ‘संयुक्त किसान मोर्चा’ (SKM) 24 जून को देशभर में जिला मुख्यालयों पर प्रदर्शन करेगा। नरेश-राकेश टिकैत वाली भारतीय किसान यूनियन ने भी अब 30 जून की बजाय 24 जून को SKM के साथ ही प्रदर्शन करने का फैसला लिया है। आपको बता दें कि यह वही SKM है, जिसके बैनर तले दिल्ली के बॉर्डरों पर 13 महीने तक फार्मर प्रोटेस्ट चला था। 24 जून को जुमा भी है, 10 जून को जुमे पर कई शहरों में हिंसा हुई थी।

हरियाणा के करनाल में सोमवार को SKM की 7 सदस्यीय कोर्डिनेशन मीटिंग हुई। इसमें अग्निपथ योजना को जवान विरोधी, किसान विरोधी और राष्ट्र विरोधी करार दिया गया। फैसला लिया गया कि संयुक्त किसान मोर्चा इस शुक्रवार यानि 24 जून को देशभर में विरोध दिवस मनाएगा। उस दिन “जय जवान-जय किसान” के नारे के साथ सभी जिला, तहसील या ब्लॉक मुख्यालय पर प्रदर्शन करके ज्ञापन दिए जाएंगे और केंद्र सरकार के पुतले फूंके जाएंगे।

किसान नेता युद्धवीर सिंह ने बताया, SKM ने सेना भर्ती से जुड़े युवाओं से भी अपील करते हुए कहा है कि वे शांतिपूर्ण दिवस दिवस की मर्यादा का सम्मान करते हुए इस प्रोटेस्ट से जुड़ें। मोर्चा ने देश के सभी जनसंगठनों, जन आंदोलनों और राजनीतिक दलों से भी अपील की है कि वे भी इस विरोध दिवस में शामिल हों।

भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने पूर्व में 30 जून को सभी जिला मुख्यालयों पर प्रदर्शन का आह्वान किया था। चूंकि भाकियू भी एसकेएम का घटक संगठन है, इसलिए टिकैत ने फैसला लिया है कि अब यह प्रदर्शन 30 जून की बजाय 24 जून को होगा। भाकियू के मेरठ मंडल अध्यक्ष गुड्डू प्रधान ने बताया कि प्रोटेस्ट की तैयारियां शुरू कर दी हैं। कहा जा रहा है कि ट्रैक्टरों से जिला और तहसील मुख्यालयों की तरफ कूच किया जाएगा। 24 जून को जुमा भी है। ऐसे में पुलिस को सुरक्षा के और ज्यादा इंतजाम करने होंगे। इस पर अफसरों ने मंथन शुरू कर दिया है।

10 जून को जुमे पर कई शहरों में हिंसा हुई थी। इसके बाद 17 जून को जुमे पर मस्जिदों के आसपास सुरक्षा व्यवस्था कड़ी की गई, हालांकि कहीं कुछ नहीं हुआ। अलबत्ता उसी दिन अग्निपथ स्कीम को लेकर अलीगढ़, मथुरा, प्रयागराज, वाराणसी, हाथरस, अंबेडकर नगर, उन्नाव, जौनपुर आदि जनपदों में उपद्रव जरूर हुए। 17 जून से अग्निपथ को लेकर यूपी में हिंसक प्रदर्शनों का दौर जारी है। अब 24 जून को किसानों का प्रोटेस्ट और जुमा एकसाथ हैं। ऐसे में पुलिस को सुरक्षा के अतिरिक्त उपाय करने होंगे।