अभी अभी: छत्तीसगढ़ में दर्दनाक हादसा, खदान धंसने से 7 की मौत, दर्जन भर फंसे

छत्तीसगढ़ में दर्दनाक हादसा, खदान धंसने से 7 मजदूरों की मौत, दर्जन भर फंसेछत्तीसगढ़ में के जगदलपुर से 11 किलोमीटर दूर ग्राम मालगांव में छुई खदान अचानक धंस गई। इस हादसे की चपेट में आने से पांच मजदूरों के मरने की खबर है।

Just now: Tragic accident in Chhattisgarh, 7 killed due to mine collapse, dozen trapped
Just now: Tragic accident in Chhattisgarh, 7 killed due to mine collapse, dozen trapped
इस खबर को शेयर करें

बस्तर: छत्तीसगढ़ के जगदलपुर से 11 किलोमीटर दूर ग्राम मालगांव में छुई खदान में खुदाई के दौरान हादसा हो गया। इस हादसे में सात मजदूरों की मौत हो गई। बताया जा रहा है कि हादसे की चपेट में आने से 10 से ज्यादा ग्रामीण उसमें फंस गए थे। शवों को जेसीबी की मदद से निकाला गया है। ख़बरों की मानें तो पुलिस और एसडीआरएफ ने उन्हें बचाने के लिए रेस्क्यू ऑपरेशन शुरू कर दिया गया है। बताया जा रहा है कि अब तक 7 लोगों को रेस्क्यू किया जा चुका है। जबकि सात लोगों की मौत हो गई है। इसके अलावा पांच लोगों के खदान में फंसे होने की आशंका है।

दरअसल ग्रामीण इस मिट्टी का उपयोग अपने कच्चे मकानों की लिपाई पुताई के लिए उपयोग किया करते थे। लंबे समय से मिट्टी निकालने की वजह से मौके पर एक लंबी सुरंग नुमा खोह तैयार हो गई थी। हमेशा की तरह शुक्रवार को भी दोपहर लगभग 12 बजे 8 की संख्या में ग्रामीण मिट्टी निकालने सुरंग में घुसे थे। कुछ ही देर बाद सुरंग के ऊपर की मिट्टी धसक गई जिससे सुरंग के अंदर घुसे सभी ग्रामीण अंदर ही दब गए।

आनन फानन में घटना की जानकारी मिलने पर मौके पर प्रशासन और पुलिस की टीम पहुंची और जेसीबी की मड्डसे ग्रामीणों के शव और घायलों को बाहर निकाला गया। घटना में मरने वालों में गांव के सरपंच का भाई भी शामिल है। एएसपी के अनुसार घायलों को हल्की चोट आई है, जिन्हें मेडिकल कॉलेज में भर्ती करवाया गया है वहीं मृतकों के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है। क्षेत्र में इस तरह की यह पहली घटना है जिससे पूरे गांव में शोक की लहर है

इस हादसे को पर प्रदेश के पूर्व सीएम रमन सिंह ने दुख जताया है। उन्होंने लिखा, ‘मालगांव, जगदलपुर में छुईखदान धंसने की हृदयविदारक दुर्घटना में 7 मजदूरों के निधन का दु:खद समाचार प्राप्त हुआ। मैं ईश्वर से प्रार्थना करता हूं कि दिवंगत आत्माओं को शांति प्रदान करें एवं शासन से आग्रह है कि मृतकों के परिजनों एवं घायलों को उचित मुआवजा प्रदान किया जाए।