जान का खतरा या VVIP ट्रीटमेंट? पंजाब सरकार ने की केजरीवाल की सुरक्षा बढ़ाने की मांग

पंजाब के पुलिस महानिदेशक से भी इस मामले पर सवाल पूछा गया था, लेकिन उन्होंने इसका जवाब नहीं दिया है। पंजाब पुलिस के एक अधिकारी ने नाम न बताने की शर्त पर इस बात की पुष्टि की है।

इस खबर को शेयर करें

नई दिल्ली। पंजाब पुलिस ने दिल्ली पुलिस को खालिस्तानी आतंकियों से मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की जान को खतरा बताया है। इसका हवाला देते हुए आम आदमी पार्टी (AAP) के संयोजक को अतिरिक्त सुरक्षा कवर प्रदान करने के बारे में लिखा है। हालांकि, दिल्ली पुलिस ने फिलहाल इस मांग को खारिज कर दिया है। अधिकारियों ने शनिवार को यह जानकारी दी है। दिल्ली पुलिस ने कहा है कि केंद्रीय गृह मंत्रालय द्वारा स्वीकृत जेड प्लस श्रेणी के तहत केजरीवाल के पास पहले से ही उच्चतम स्तर की सुरक्षा है।

दिल्ली पुलिस ने एक बयान में कहा है,”इस संबंध में पंजाब पुलिस से एक पत्र प्राप्त हुआ था और इसे विधिवत गृह मंत्रालय को भेजा गया था। एमएचए ने इस विचार से सहमति व्यक्त की है कि दिल्ली पुलिस जेड+ सुरक्षा श्रेणी के अनुसार मुख्यमंत्री को सुरक्षा कवर प्रदान करना जारी रखेगी। इसके अलावा, अगर पंजाब पुलिस के पास कोई प्रासंगिक खुफिया इनपुट है तो इसे तुरंत दिल्ली पुलिस और केंद्रीय एजेंसियों के साथ मूल्यांकन और कार्रवाई के लिए साझा किया जा सकता है।”

गृह मंत्रालय ने इस मामले पर आधिकारिक बयान जारी नहीं किया है। एक अधिकारी ने नाम न छापने की शर्त पर कहा, “दिल्ली के मुख्यमंत्री के लिए दिल्ली पुलिस की सुरक्षा में पर्याप्त संख्या में कर्मी हैं। प्रत्येक वीआईपी के लिए खतरे का आकलन नियमित आधार पर किया जाता है। अगर जरूरत पड़ी तो हम सुरक्षा को और बढ़ाएंगे।” पंजाब के पुलिस महानिदेशक से भी इस मामले पर सवाल पूछा गया था, लेकिन उन्होंने इसका जवाब नहीं दिया है। पंजाब पुलिस के एक अधिकारी ने नाम न बताने की शर्त पर इस बात की पुष्टि की है कि केजरीवाल को धमकी के बारे में दिल्ली पुलिस को एक पत्र भेजा गया था। उन्होंने यह नहीं बताया कि यह कब लिखा गया था। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के युवा विंग के नेता तजिंदर बग्गा को राष्ट्रीय राजधानी में उनके घर से पंजाब पुलिस द्वारा हिरासत में लिए जाने के कुछ दिनों बाद यह मामला सामने आया है।पंजाब पुलिस ने केजरीवाल को धमकी देने की कथित टिप्पणी को लेकर दर्ज एक मामले में भाजपा युवा शाखा के राष्ट्रीय सचिव की गिरफ्तारी मांग की थी। बग्गा को बाद में पंजाब और हरियाणा उच्च न्यायालय द्वारा गिरफ्तारी से सुरक्षा प्रदान की गई थी।

पंजाब सरकार ने घटाई थी पूर्व सीएम की सुरक्षा
पंजाब के सीएम भगवंत मान ने हाली ही में तीसरी बार सिक्योरिटी रिव्यू करते हुए प्रदेश के 8 वीआईपी नेताओं की सुरक्षा में कटौती की थी। इस लिस्ट में पंजाब की पूर्व सीएम राजिंद्र कौर भट्ठल, सांसद हरसिमरत कौर बादल और पंजाब कांग्रेस के पूर्व प्रधान सुनील जाखड़ का नाम शामिल था। पंजाब सरकार ने सुरक्षा कटौती के बाद 127 पुलिसकर्मी और 9 गाड़ियां वापस ले ली हैं। पंजाब सरकार ने इन नेताओं की सुरक्षा में कटौती को लेकर कहा कि जवानों को जनता की सुरक्षा के लिए पुलिस थाने में वापस लगया जाएगा।