मध्‍य प्रदेश : महादेव मंदिर में गोवंश का कटा सिर फेंका, साकिर और सलमान गिरफ्तार, पुलिस ने ढहाए आरोपितों के घर

Madhya Pradesh: Cow's severed head thrown in Mahadev temple, Saqir and Salman arrested, police demolished the houses of the accused
Madhya Pradesh: Cow's severed head thrown in Mahadev temple, Saqir and Salman arrested, police demolished the houses of the accused
इस खबर को शेयर करें

रतलाम । मध्य प्रदेश का रतलाम जिला दुनिया भर में नमकीन के लिए प्रसिद्ध है, लेकिन पिछले कुछ समय से यहां सांप्रदायिकता से जुड़े एक के बाद एक मामले सामने आ रहे हैं । अब यहां महादेव मंदिर में गोवंश का कटा सिर फेंकने का काम किया गया, जिसके बाद हिन्‍दुओं का आक्रोश सड़कों पर बड़े स्‍तर पर देखने को मिला। अपराधियों को पकड़ने के लिए पुलिस थाने का घेराव समेत चक्‍का जाम तक हिन्‍दू संगठनों को करना पड़ गया, स्‍थ‍िति इतनी विकराल हो गई कि पुलिस को आक्रोश कंट्रोल करने के लिए भीड़ पर आंसू गैस के गोले तक छोड़ने पड़ गए।

दरअसल, जावरा नगर स्थित जागनाथ मंदिर में शुक्रवार तड़के जब पुजारी मंदिर पहुंचे तो परिसर में गोवंश का कटा हुआ सिर पड़ा हुआ था। यह देख उन्होंने अन्‍य हिन्‍दू समाज के लोगों समेत पुलिस को इस संबंध में सूचना दी, उसके बाद जब देखा कि पुलिस की उदासीनता इस मामले में नजर आ रही है और आरोपितों को गंभीरता से पकड़ने का प्रयास नहीं हो रहा तब घटना से नाराज हिंदू संगठनों ने जावरा को शांतिपूर्ण ढंग से बंद का आह्वान कर दिया और देखते ही देखते जावरा बंद कर दिया गया । इसके बाद फोरलेन पर चक्काजाम किया गया।

हिन्दू संगठनों की एक ही मांग थी कि जिसने भी इस तरह का कृत्‍य कर हिन्‍दुओं की धार्म‍िक भावनाओं को ठेस पहुंचाने का काम किया है उसे पुलिस जल्‍द पकड़े और आरोपितों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करे। बाद में पुलिस ने मामले में दो आरोपितों को चिन्हित कर उन्हें गिरफ्तार किया, लेकिन हिन्‍दू संगठनों की मांग थी कि आरोपितों का सार्वजनिक जुलूस निकाला जाए। लेकिन पुलिस इसके लिए तैयार नहीं दिखी। तब जनता का आक्रोश बढ़ता चला गया और फिर शहर में एक जगह भीड़ को तितर-बितर करने के लिए पुलिस ने आंसू गैस के गोले छोड़े। लाठीचार्ज भी करना पड़ा। इस बीच रतलाम में गोवंश से भरा ट्रक पलट गया। इसमें 26 गोवंश में से 14 की मौत हो गई। हिंदू संगठनों को जब इसकी जानकारी लगी तो उन्होंने मौके पर पहुंच कर ट्रक में आग लगा दी।

इसके बाद पुलिस-प्रशासन ने आरोपितों के घरों पर बुलडोजर चला उन्हें ढहा दिया। इस दौरान मौके पर भारी पुलिस बल तैनात रहा। साथ ही रतलाम डीआईजी मनोज सिंह, अपर कलेक्टर आरएस मंडलोई, प्रभारी एसपी राकेश खाका पुलिस बल के साथ वहां पूरे समय मौजूद रहे।

इस संबंध में रतलाम पुलिस अधीक्षक राकेश खाखा का कहना है कि 13 और 14 जून की दरमियानी रात में दो करीब 2.41 बजे दो शरारती तत्व बाइक से मंदिर परिसर में जाकर वहां गोवंश का टुकड़ा डाल कर वापस लौट गए। इससे जनभावना को ठेस पहुंची है। इस मामले में धार्मिक भावनाओं का भड़काने का केस दर्ज कर लिया है। मामले में दो संदिग्ध साकिर और सलमान को गिरफ्तार किया है। उनसे पूछताछ के बाद उनके घर ढहा दिए गए। पुलिस-प्रशासन की टीम बुलडोजर लेकर पहुंची। आरोपितों के घर पर बुलडोजर चला तो मौके पर भीड़ जमा हो गई। हालात को देखते हुए भारी पुलिस बल तैनात किया था। पुलिस मामले की जांच कर रही है। अन्य कोई आरोपित इसमें संलिप्त होंगे तो उनकी भी गिरफ्तारी की जाएगी।

दूसरी ओर शहर काजी हाफिज भुरू भाईजान ने शांति बनाए रखने और सोशल मीडिया पर आपत्तिजनक बातें न करने की अपील की है। इधर, मंदसौर-रतलाम क्षेत्र के सांसद सुधीर गुप्ता ने घटना की निंदा की है। उन्होंने फोन पर प्रशासन से बात कर जानकारी ली। गुप्ता ने प्रशासनिक व पुलिस अधिकारियों को दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने को कहा है।

फिलहाल हिन्‍दू समाज ने जावरा जागनाथ महादेव मंदिर में शुक्रवार शाम को शुद्धिकरण कर सफाई की है । घटना के बाद से शहर पूरी तरह से बंद है। लोग घरों के बाहर बैठे हैं। हर चौराहे पर पुलिस बल तैनात किया गया है। पुलिस और प्रशासन के अफसर लगातार हिन्‍दू संगठन के लोगों को समझाने का प्रयास कर रहे हैं ।