भीषण गर्मी के बीच राजस्थान में नंगे पांव कलेक्ट्रेट पहुंचे विधायक

राजस्थान में बाड़मेर जिले की पचपदरा विधानसभा से एक विधायक काफी समय से चर्चा में है जिसकी वजह है उनका जूते नहीं पहनने की प्रण. बालोतरा (balotra) को जिला घोषित करने की मांग को लेकर विधायक मदन प्रजापत (mla madan prajapat) काफी समय से आंदोलनरत हैं.

MLAs reached collectorate barefoot in Rajasthan amid scorching heat
MLAs reached collectorate barefoot in Rajasthan amid scorching heat
इस खबर को शेयर करें

राजस्थान में बाड़मेर जिले की पचपदरा विधानसभा से एक विधायक काफी समय से चर्चा में है जिसकी वजह है उनका जूते नहीं पहनने की प्रण. बालोतरा (balotra) को जिला घोषित करने की मांग को लेकर विधायक मदन प्रजापत (mla madan prajapat) काफी समय से आंदोलनरत हैं. इसी कड़ी में बीते सोमवार विधायक पश्चिमी राजस्थान में भीषण गर्मी के बीच नंगे पांव ज्ञापन देने अपने समर्थकों के साथ बाड़मेर जिला कलेक्ट्रेट पहुंचे. विधायक ने बालोतरा को जिला (new district) बनाने की मांग को लेकर अपने समर्थकों के साथ करीब 500 पेज का कमेटी का प्रस्ताव बाड़मेर एडीएम उम्मेदसिह रतनू को सौंपा. बता दें कि विधायक इन दिनों नंगे पांव की हर जगह आते-जाते हैं. हाल में हुए विधानसभा के बजट सत्र के दौरान विधायक ने जिला नहीं बनने तक जूते नहीं पहनने की प्रतिज्ञा ली थी. बालोतरा को जिला बनाने के लिए एक बार फिर विधायक 36 कौम का समर्थन लेकर आए हैं.

इस दौरान विधायक मदन प्रजापत ने कहा कि जिला बनाने को लेकर पहले भी कई कमेटियां बनाई जा चुकी है लेकिन पहले कमेटियों के लोगों की काम करने की इच्छा शक्ति नहीं दिखाई दी. विधायक के मुताबिक इस बार की कमेटी ने राज्य के सभी जगहों से प्रस्ताव लिए हैं और हमें उम्मीद है कि सीएम हमारी मांग पर जल्द ही फैसला लेंगे.

बालोतरा हर मापदंड पर खरा
विधायक ने इस दौरान कहा कि बालोतरा जिला बनने के लिए निर्धारित मापदंड पर खरा उतर रहा है और हम पिछले 40 सालों से यह मांग कर रहे हैं. विधायक ने कहा कि बालोतरा को जिला बनाने के लिए करीब 500 अलग-अलग समाज, प्रधान, पंचायत समिति सहित 36 कौमों के लोगों के ज्ञापन दिया है.

दरअसल, बालोतरा को जिला बनाने की मांग बीते 40 सालों से चली आ रही है, हर बार सरकार की तरफ से इलाके के लोगों को आश्वासन ही दिया जाता है. विधायक मदन प्रजापत का कहना है कि मैं अपने जूते नहीं पहनने के प्रण पर कायम हूं और जिला नहीं बनने तक जूते नहीं पहनने का प्रण जारी रहेगा.