राजस्थान में गरजे मोदीः ये सनातन को मिटाने वाले, इस बार खुद ही जड़ से…

इस खबर को शेयर करें

जयपुर. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जयपुर में भाजपा की परिवर्तन संकल्प रैली में कांग्रेस पर जमकर हमला बोला। उन्होंने कहा कि जिस तरह से कांग्रेस ने सरकार चलाई है, वह जीरो नंबर की हकदार है, इसलिए राजस्थान के लोगों ने ठान लिया है कि गहलोत सरकार को हटाकर भाजपा को वापस लाएंगे।

उन्होंने कहा कि लोग यह याद रखें कि मोदी का मतलब है- गारंटी पूरी होने की गारंटी। यदि भाजपा सरकार आई तो पेपर लीक करने वाले माफियाओं पर सख्त कार्रवाई की जाएगी। घमंडिया गठबंधन पर उन्होंने कहा कि वे सनातन को जड़ से मिटाना चाहते हैं, लेकिन आने वाले चुनावों में वे खुद जड़ से उखड़ जाएंगे।

इससे पहले उन्होंने धानक्या में दीनदयाल उपाध्याय की जयंती पर उनकी जन्मस्थली पहुंचकर श्रद्धांजलि अर्पित की। वहीं, सभा स्थल पर ओपन जीप में खड़े होकर लोगों के बीच गए। यहां महिला कार्यकर्ताओं ने उनका स्वागत किया। जयपुर में मोदी की साढ़े चार साल बाद सभा हुई है।

मोदी ने भाषण में हर मुद्दे पर कांग्रेस को घेरा…

1. अपने काम पर : आपको दी गई गारंटी पूरी कर दी
मैं जयपुर ऐसे समय आया हूं, जब भारत का गौरव सातवें आसमान पर है। जहां कोई नहीं पहुंच पाया, चांद की उस सतह पर भारत पहुंचा है। पूरी दुनिया भारत के पराक्रम से हैरान है। अनेक दशकों से हमारी माताएं-बहनें लोकसभा और विधानसभा में 33 प्रतिशत आरक्षण की आस लगाए बैठी थी, उनकी यह उम्मीद आपके वोट की ताकत ने पूरी करके दिखाई है। आपके वोट ने मुझे चुना और मैंने आपकी सेवा की गारंटी दी। आज आपकी ये गारंटी मैंने पूरी कर दी है। आप लोग यह याद रखें कि मोदी यानी गारंटी पूरा होने की गारंटी। जो कहता हूं, करके दिखाता हूं। इसलिए मेरी गारंटी में दम होता है। यह बात हवा में नहीं कह रहा हूं, 9 साल का मेरा ट्रैक रिकॉर्ड है।

2. वादों पर : भ्रष्टाचारियों पर चल रहा डंडा सब देख रहे हैं
मोदी ने वन रैंक-वन पेंशन का वादा किया था, वह गारंटी मोदी ने पूरी कर दी है। अब तक इस पेंशन से लोगों को 70 हजार करोड़ रुपए मिल चुके हैं। कांग्रेस सिर्फ 500 करोड़ से वन रैंक-वन पेंशन देना चाहती थी। जब नीयत साफ होती है, खुद पर भरोसा होता है तो गारंटी पूरी करना सरकार की पहचान बन जाती है। हमने भ्रष्टाचारियों पर कड़ी कार्रवाई की गारंटी दी थी, आज देश के भ्रष्टाचारियों पर कानून का जो डंडा चल रहा है, वह सब देख रहे हैं। तीन तलाक के खिलाफ कानून लाकर मुस्लिम महिलाओं के आंसू पोंछे।

3. महिला आरक्षण पर : कांग्रेस ने 30 साल में क्यों नहीं दिया?
जो कांग्रेस महिला आरक्षण की बात कर रहे हैं, वे यह काम 30 साल पहले कर सकते थे, लेकिन कांग्रेसी कभी यह चाहते ही नहीं थे। आज भी नारी शक्ति वंदन अधिनियम के समर्थन में मन से नहीं, बल्कि आप सभी बहनों के परिणामस्वरूप सीधी लाइन में आए हैं। कांग्रेस और उसके घमंडिया साथी महिला आरक्षण के घोर विरोधी हैं। इतने बड़े फैसले को भी वो भटकाने में लगे हैं, यूपीए सरकार के दौरान जिन्होंने यह बिल रोका है, कांग्रेस के साथी अभी भी दबाव बना रहे हैं, इसलिए राजस्थान की महिलाओं को सतर्क रहना है।

4. सनातन धर्म पर : कांग्रेस सनातन को जड़ से मिटाना चाहती है
राजस्थान की अनेक संतानों ने महान धरोहर छोड़ी है। कांग्रेस और घमंडिया गठबंधन ने घोषणा की है कि ये सनातन को जड़ से मिटा देंगे। कुछ वोटों के लिए तुष्टिकरण की इस नीति को राजस्थान का समाज अच्छे से समझ रहा है। कांग्रेस हमारी पहचान मिटाने की तैयारी कर रही है। आने वाले हर चुनाव में घमंडिया गठबंधन को इसका खामियाजा उठाना पड़ेगा, वे जड़ों से उखड़ जाएंगे।

5. पेपर लीक पर : माफियाओं पर सख्त कार्रवाई करेंगे
राजस्थान में जितनी बार पेपर लीक होते हैं, लोग परेशान होते हैं। यहां की सरकार पेपर लीक माफियाओं को संरक्षण देती है। राजस्थान में बीजेपी सरकार बनने के बाद पेपर लीक करने वाले माफियाओं पर सख्त से सख्त कार्रवाई की जाएगी। युवाओं के भविष्य से खिलावाड़ करने वाले किसी माफिया को बख्शा नहीं जाएगा।

6. कन्हैयालाल हत्याकांड पर : कांग्रेस आतंकियों पर मेहरबान
यहां लाल डायरी में काली करतूतें छिपी हैं। हर जगह कट और कमीशन फैला है, इसलिए यहां कौन पैसा लगाना चाहेगा? इसलिए यहां औद्योगिक विकास पिछड़ा हुआ है। कानून व्यवस्था भ्रष्ट है। जहां सरे आम गला काटने की घटना हो और सरकार मजबूर हो, ऐसे हालत में निवेश कैसे हो सकता है। यह साधारण अपराध नहीं है। ये कांग्रेस की वोट बैंक की तुष्टिकरण की नीति का परिणाम है। कांग्रेस सरकार आतंकियों पर कार्रवाई की बजाय उन पर मेहरबान हो, अपराधियों को खुली छूट दे रही हो तो कानून का खौफ कैसे रहेगा?

7. किसानों पर : कांग्रेस ने किसानों से किया वादा पूरा नहीं किया
कांग्रेस ने पांच साल पहले किसानों से जो वादा किया था, उसे पूरा नहीं किया। उन वादों का क्या हुआ, इसका कोई हिसाब नहीं है। औने-पौने भाव में बाजरा बेचना पड़ रहा है। इसकी एक मात्र जिम्मेदार कांग्रेस और गहलोत सरकार है। अब चिंता की बात नहीं है, आपकी चिंता करने वाली भाजपा सरकार जल्द आने वाली है।