मुजफ्फरनगर: किसान नेताओं की घेराबंदी से बीकेयू नाराज

इस खबर को शेयर करें

मुजफ्फरनगर। देश में संयुक्त किसान मोर्चा के नेताओं के खिलाफ आपराधिक मुकदमों में फंसाने के आरोप लगाते हुए भारतीय किसान यूनियन ने आज शीर्ष नेतृत्व के निर्देश पर कार्यकर्ताओं ने जिला मुख्यालय पर प्रदर्शन करते हुए धरना दिया। इस दौरान राष्ट्रपति को भेजे ज्ञापन में किसान नेताओं के खिलाफ हो रहे मुकदमों और अपमानजनक कार्यवाही को रोकने की मांग की गयी है।

भारतीय किसान यूनियन के महावीर चैक स्थित जिला कार्यालय पर यूनियन नेता और कार्यकर्ता एकत्र हुए। यहां से जिलाध्यक्ष योगेश शर्मा के नेतृत्व में सभी कार्यकर्ता जुलूस के रूप में सरकार विरोधी नारेबाजी करते हुए पैदल ही कलेक्ट्रेट पहुंचे और डीएम कार्यालय के समक्ष धरने पर बैठ गये। इस दौरान जिलाध्यक्ष योगेश शर्मा ने आरोप लगाया कि केन्द्र और प्रदेश की भाजपा सरकारों के द्वारा किसान नेताओं को अपमानित करने के साथ ही उनको गलत ढंग से आपराधिक मुकदमों में फंसाने की साजिश रची जा रही है। उन्होंने कहा कि नवम्बर माह में किसान प्रतिनिधियों के साथ भाकियू के राष्ट्रीय महासचिव जब विदेश में किसान कांफ्रेंस में भाग लेने जा रहे थे तो उनको इंदिरा गांधी एयरपोर्ट नई दिल्ली पर हिरासत में ले लिया गया। उनकी गिरफ्तारी के प्रयास करते हुए उनको विदेश जाने से रोकने की साजिश रची गयी। इसी प्रकार दूसरे किसान नेताओं के साथ भी ऐसा ही किया जा रहा है।

उन्होंने सरकार के इस कदम की निंदा करते हुए कहा कि यह सीधे तौर पर किसानों का अपमान है। उन्होंने कहा कि अब जानकारी मिल रही है कि दिल्ली में तीन कृषि कानूनों के खिलाफ लंबा आंदोलन चलाने वाले संयुक्त किसान मोर्चा के नेताओं के खिलाफ लुक आउट नोटिस जारी किये गये हैं। यह आंदोलन समाप्ति पर हुए समझौते का सीधा उल्लंघन है। इसके अलावा भी राज्यों में किसान नेताओं और किसानों पर गलत तरीके से दबाव बनाने के लिए मुकदमे लिखने का आरोप लगाते हुए उन्होंने कहा कि इस अत्याचार के खिलाफ बड़ा आंदोलन किया जायेगा। धरना प्रदर्शन के दौरान कार्यकर्ताओं ने सरकार के खिलाफ नारेबाजी भी की। इस दौरान यूनियन की महिला कार्यकर्ता भी प्रदर्शन में शामिल हुईं। प्रदर्शन के दौरान नगर मजिस्ट्रेट विकास कश्यप किसानों के धरने पर पहुंचे। उन्होंने उनकी बात का सुना। यहां जिलाध्यक्ष योगेश शर्मा के साथ यूनियन के पदाधिकारियों ने राष्ट्रपति के नाम एक ज्ञापन सौंपा और एसकेएम के साथ हुए समझौते का पालन कराये जाने की मांग की। प्रदर्शन में मुख्य रूप से जिलाध्यक्ष योगेश शर्मा, श्यामपाल सिंह, विकास शर्मा, संजय राठी, मोनू प्रधान, प्रमोद कुमार सहित सैंकड़ों कार्यकर्ता मौजूद रहे।