अंतर‍िक्ष से टपक रही रहस्‍यमय गेंद! गुजरात के गांवों में हड़कंप, जांच में जुटे वैज्ञान‍िक

स्थानीय पुलिस के अनुसार, 12 मई को शाम करीब 4.45 बजे पहली बड़ी, काली धातु की गेंद जिसका वजन लगभग पांच किलोग्राम था, आणंद के भलेज गांव में आसमान से गिरी। उसके बाद दो अन्य गांवों - खंभोलज में दो समान टुकड़े गिरे और रामपुरा से भी सूचना आई।

इस खबर को शेयर करें

अहमदाबाद:गुजरात के कई गांवों में एक ऐसा मलबा मिल रहा जिसके बारे में बताया जा रहा क‍ि वह अंतर‍िक्ष से नीचे ग‍िरा है। अब तक तीन से पांच जिलों में ये मलबा मिल (Space Debris) चुका है। हाल ही में वडोदरा के तीन गांवों में ऐसा मलबा मिला है। गेंद के आकार के इस मलबे को देखकर हर कोई हैरान है।भौतिक अनुसंधान प्रयोगशाला (पीआरएल) इनकी जांच करेगा।

गेट स्‍लिम जूस से घटाएं पेट की चर्बी, जानें कैसे
सबसे पहले 12 मई को आनंद के भालेज, खंभोलज और रामपुरा गांवों से खबर आई क‍ि अंतरिक्ष से कुछ ग‍िरा है। इसके बाद 14 मई को खेड़ा जिले के चकलासी गांव में इसी तरह वस्‍तु पाई गई। इनमें से कुछ मलबे धातु की गेंदों के तरह हैं। वडोदरा जिले के सावली गांव में 14 मई की रात भी ऐसी ही गेंद मिली। तीनों जिलों के पुलिस अधिकारियों ने कहा कि अंतरिक्ष मलबे से किसी के हताहत होने या मौत की खबर नहीं है। स्थानीय फोरेंसिक साइंस लैबोरेट्रीज (एफएसएल) के विशेषज्ञों ने उन बायोहैजर्ड्स के क्षेत्रों की भी जांच की जो मनुष्यों, जानवरों या पौधों के जीवन को प्रभावित कर सकते हैं।

फोरेंसिक विज्ञान निदेशालय की टीम करेगी दौरा
ग्रामीण वडोदरा के एसपी रोहन आनंद ने कहा कि वे सावली में मिले वस्तुओं को आगे के निरीक्षण के लिए गांधीनगर में फोरेंसिक विज्ञान निदेशालय (डीएफएस) को भेजेंगे। आणंद के एसपी अजीत राजियन ने कहा कि जिले के तीन गांवों में मिली गेंदें उच्च घनत्व वाली धातु मिश्र धातुओं से बनी हुई लगती हैं जिनका उपयोग रॉकेट छोड़ने के समय किया जाता है।

उन्होंने कहा कि पृथ्वी के वायुमंडल में फिर से प्रवेश करने पर कम घनत्व वाले हिस्से जल जाते हैं, उच्च घनत्व वाले हिस्से उच्च तापमान का सामना कर सकते हैं और अगर वे कक्षा से बाहर हो जाते हैं तो जमीन पर दुर्घटनाग्रस्त हो सकते हैं। खेड़ा के एसपी राजेश गढ़िया ने अहमदाबाद मिरर को बताया कि विभाग अहमदाबाद में भौतिक अनुसंधान प्रयोगशाला (पीआरएल) में वैज्ञानिकों के संपर्क में है जो अंतरिक्ष विभाग के तहत एक स्वायत्त संस्थान है ताकि अज्ञात वस्तुओं का विश्लेषण और पहचान की जा सके।

हम मलबे के बारे में क्या जानते हैं?
स्थानीय पुलिस के अनुसार, 12 मई को शाम करीब 4.45 बजे पहली बड़ी, काली धातु की गेंद जिसका वजन लगभग पांच किलोग्राम था, आणंद के भलेज गांव में आसमान से गिरी। उसके बाद दो अन्य गांवों – खंभोलज में दो समान टुकड़े गिरे और रामपुरा से भी सूचना आई। तीन गांव 15 किलोमीटर के दायरे में स्थित हैं, जिनमें से एक टुकड़ा चिमनभाई के खेत में ग‍िरा। 14 मई को भी इसी तरह के गोले के आकार का मलबा भालेज से करीब 8 किलोमीटर दूर आणंद के चकलासी गांव में सामने आया था।

हालांकि भारतीय अधिकारियों ने यह पता लगाने के लिए कोई बयान जारी नहीं किया है कि यह क्या हो सकता है, हार्वर्ड स्मिथसोनियन सेंटर फॉर एस्ट्रोफिजिक्स के खगोलशास्त्री जोनाथन मैकडॉवेल ने ट्वीट किया कि यह संभवतः चांग झेंग 3 बी सीरियल Y86 – चीन के कक्षीय प्रक्षेपण वाहन के पुन: प्रवेश का मलबा हो सकता है। Aerospace.org ने भी इसकी भविष्यवाणी करते हुए कहा था कि प्रक्षेपण यान 12 मई को लगभग 10.37 बजे (IST) पृथ्वी के अंतरिक्ष में फिर से प्रवेश करेगा। ये मलबा उसी का हो सकता है।

अंतरिक्ष मलबा क्या है?
अंतरिक्ष मलबे में प्राकृतिक अंतरिक्ष मलबे जैसे उल्कापिंड, या मानव निर्मित शामिल हो सकते हैं जिनमें निष्क्रिय अंतरिक्ष यान और उपग्रह शामिल हो सकते हैं। नासा के अनुसार, अंतरिक्ष मलबे के रूप में 10 सेमी से बड़ी 25,000 से अधिक वस्तुओं का अस्तित्व ज्ञात है और 1 से 10 सेमी व्यास के बीच कणों की अनुमानित आबादी लगभग 500,000 है। नासा के अनुमानों के अनुसार जनवरी 2022 तक, पृथ्वी की परिक्रमा करने वाली सामग्री की मात्रा 9,000 मीट्रिक टन से अधिक थी।

चांग झेंग 3बी जिसे आमतौर पर सीजेड 3बी के नाम से जाना जाता है, चीन का कक्षीय प्रक्षेपण यान है, जो भारत के जीएसएलवी या पीएसएलवी के समान है। ‘लॉन्ग मार्च’ रॉकेट चीन के राष्ट्रीय अंतरिक्ष प्रशासन द्वारा संचालित वाहक रॉकेटों का एक परिवार है, जो उपग्रहों या पेलोड को ले जाता है। 3B रॉकेट के इस परिवार में लॉन्ग मार्च 3B मॉडल को दर्शाता है। मॉडल ने 84 उड़ानें संचालित की हैं, जिनमें से अंतिम अप्रैल 2022 में संचार उपग्रहों को ले जा रही है। Y86 78वें उड़ान मिशन के क्रमांक को दर्शाता है। यह मिशन 9 सितंबर, 2021 को 5,500 किलोग्राम के चाइनासैट 9बी संचार उपग्रह को भूस्थिर पारगमन कक्षा में ले जाकर लॉन्च किया गया था।

क्या पहले भी ऐसी ही घटनाएं हुई हैं?
भारत में इसी तरह की एक घटना इस साल अप्रैल में हुई थी जब छह धातु की गेंदें और एक धातु की अंगूठी, जो चीन के लॉन्ग मार्च 3 बी रॉकेट से भी संदिग्ध थी, महाराष्ट्र और मध्य प्रदेश के कुछ हिस्सों में आसमान से गिर गई थी। इसकी जांच करने के लिए इसरो की एक टीम का गठन किया गया था। एक घटना फरवरी 1996 की है। एक लंबे मार्च 3बी रॉकेट लॉन्च की विफलता के बाद उसका मलबा चीन में ग‍िरा। समाचार एजेंसी सिन्हुआ के अनुसार कथित तौर पर छह लोगों की मौत हो गई और 57 अन्य घायल हो गए थे। अंतरिक्ष मलबे से नुकसान की पहली रिपोर्ट की गई घटना 1978 में तत्कालीन यूएसएसआर के परमाणु-संचालित कॉसमॉस 954 उपग्रह के दुर्घटनाग्रस्त होने के बाद हुई थी जो टेक-ऑफ के लगभग चार महीने बाद कनाडा में गिर गया था, जिसमें रेडियोधर्मी सामग्री की व्यापक सफाई की आवश्यकता थी।