Black Hole Sound: ब्लैक होल से निकलती हैं आवाजें, नासा ने जारी किया साउंड का वीडियो; आप भी सुनें

अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा (NASA) समय-समय पर धरती, ब्रह्मांड, अंतरिक्ष और चांद से जुड़ी कुछ न कुछ ऐसी चीजें शेयर करती रहती हैं जो काफी रोमांचित करती हैं. इसी कड़ी में नासा ने हाल ही में एक ऐसी ही जानकारी लोगों के सामने रखी है, जो अंचभित करने वाली है.

इस खबर को शेयर करें

NASA Realeased Black Hole Sound: अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा (NASA) समय-समय पर धरती, ब्रह्मांड, अंतरिक्ष और चांद से जुड़ी कुछ न कुछ ऐसी चीजें शेयर करती रहती हैं, जो काफी रोमांचित करती हैं. इसी कड़ी में नासा ने हाल ही में एक ऐसी ही जानकारी लोगों के सामने रखी है, जो अंचभित करने वाली है. यह जानकारी ब्लैक होल से जुड़ी है. दरअसल, नासा ने हाल ही में एक साउंड को रिलीज किया है और बताया है कि यह आवाज ब्लैकहोल की है और इसे एक सैटेलाइट के जरिए रिकॉर्ड किया गया है.

इस तरह मिला साउंड
मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, नासा के सैटेलाइट से रिकॉर्ड किए गए इस साउंड को इंसान सीधे नहीं सुन सकता. इसे इंसान को सुनने लायक बनाने के लिए ध्वनि तरंग में बदला जा सकता है. क्योंकि इंसान के लिए 57 ऑक्टेव को सुनना संभव नहीं है, ऐसे में एक नई मशीन की मदद से इन तरंगों में नए नोट्स जोड़े गए हैं. इसके बाद इसे एक अच्छा साउंड मिल सका है. नासा ने इस आवाज को चंद्रा एक्स-रे ऑब्जर्वेटरी से पकड़ा है.

अंतरिक्ष में कोई ध्वनि नहीं की धारणा गलत

नासा का कहना है कि अब तक यह गलत धारणा बनी हुई है कि अंतरिक्ष में कोई ध्वनि नहीं है. इसके पीछे ये वजह थी कि अंतरिक्ष पूरी तरह निर्वात है और यहां ध्वनि तरंगें तभी आगे बढ़ सकती हैं जब कोई माध्यम हो, जो यहां नहीं हैं. पर आकाश गंगा की कहानी इन सबसे अलग है. एक आकाश गंगा समूह में पर्याप्त मात्रा में गैस है जिसमें वह हजारों गैलेक्सी को अपने अंदर समा सकती है. यही चीज ध्वनि तरंगों को आगे बढ़ने में मदद करती है. बताया गया है कि ये आवाज जिस ब्लैक होल की है वह पृथ्वी से 20 करोड़ प्रकाश वर्ष दूरी पर स्थित है और 1.1 करोड़ प्रकाश वर्ष की चौड़ाई में फैले पर्सियस आकाशगंगा समूह के केंद्र का हिस्सा है.