‘नेहा’ बनीं ‘निगहत’, पति को छोड़ हिमांशु संग लिए सात फेरे; पुलिस डटी रही

'Neha' became 'Nighat', left her husband and took seven trips with Himanshu; the police stood firm
'Neha' became 'Nighat', left her husband and took seven trips with Himanshu; the police stood firm
इस खबर को शेयर करें

औरैया। पहले से ही शादी के बंधन में बंधी निगहत का हिंदू युवक से प्रेम ऐसा परवान चढ़ा कि पति को छोड़ उसने दूसरी शादी कर ली। शुक्रवार देर रात हिंदू रीति रिवाज से कस्बे के दुर्गा मंदिर में निगहत और हिमांशु की शादी करवाई गई। दोनों ने एक दूसरे को वरमाला पहनाई तो वहीं पुलिस भी शादी तक डटी रही।

निगहत ने मंगलसूत्र पहनने के बाद सात फेरे भी लिए और अपना नाम रखा नेहा रख लिया। महिला की पूर्व में शादी हो चुकी थी और पहले पति से पांच वर्ष का बेटा है।
मुस्लिम महिला निगहत ने शुक्रवार देर रात हिंदू रीति रिवाज से कस्बे के दुर्गा मंदिर में युवक से शादी कर ली। दोनों ने एक-दूसरे का वरमाला पहनाई। मंगलसूत्र पहनने के बाद सात फेरे भी लिए और निगहत ने अपना नाम रखा नेहा। महिला की पूर्व में शादी हो चुकी थी और पहले पति से पांच वर्ष का बेटा भी है।

ये है पूरा मामला
दरअसल कन्नौज के छिबरामऊ थानाक्षेत्र के कालियान गांव निवासी 23 वर्षीय हिमांशु का मुहल्ला सैयदबाड़ा निवासी निगहत से दो वर्ष से प्रेम चल रहा था। शुक्रवार को निगहत अपने पांच वर्षीय बेटे और प्रेमी के साथ बिधूना तहसील पहुंच गई। दोनों ने खुद को बालिग होने की बात कहकर तहसील से शपथ पत्र बनवा लिया। इसके बाद देर रात दुर्गा मंदिर पहुंचे।

हिन्दू रीति रिवाज से हुई शादी
मंदिर पुजारी ने हिंदू रीति रिवाज से शादी कराई। दुल्हन बनी नेहा ने बताया कि उसकी शादी सात साल पहले छिबरामऊ के मुहल्ला सैयदबाड़ा निवासी जमाल मुस्तफा के साथ हुई थी। दो वर्ष पूर्व हिमांशु से मुलाकात हुई तो प्यार हो गया।