प्री-मानसून से फिर भीगा मध्यप्रदेश: इन जिलो मे हुई जोरदार बारिश, छाये बादल

मध्यप्रदेश में प्री-मानसून एक्टिविटी से फिर बारिश हो रही है। शुक्रवार को खरगोन में करीब 25 मिनट तक तेज बारिश हुई। वहीं, विदिशा के सिरोंज, राजगढ़ और खंडवा भी तरबतर हो गए। राजधानी भोपाल में भी बारिश हुई। छिंदवाड़ा में भी तेज हवाओं के साथ बारिश हुई है।

Pre-monsoon again drenched Madhya Pradesh: These districts received heavy rain, cloud cover
Pre-monsoon again drenched Madhya Pradesh: These districts received heavy rain, cloud cover
इस खबर को शेयर करें

भोपाल: मध्यप्रदेश में प्री-मानसून एक्टिविटी से फिर बारिश हो रही है। शुक्रवार को खरगोन में करीब 25 मिनट तक तेज बारिश हुई। वहीं, विदिशा के सिरोंज, राजगढ़ और खंडवा भी तरबतर हो गए। राजधानी भोपाल में भी बारिश हुई। छिंदवाड़ा में भी तेज हवाओं के साथ बारिश हुई है। दूसरी ओर इंदौर समेत कई जिलों में बादल छाए रहे। कुछ इलाकों में हल्की बौंछारे भी गिरीं। मौसम वैज्ञानिक डॉ. पीके साहा ने बताया कि 13 जून से प्रदेशभर में प्री-मानसून पूरी तरह एक्टिव हो जाएगा और मानसून आने तक बना रहेगा।

मौसम वैज्ञानिकों के अनुसार, खरगोन में 7 मिमी बारिश हुई। राजगढ़, छिंदवाड़ा और जबलपुर में भी बारिश रिकॉर्ड की गई है। बारिश के बाद गर्मी का असर कम हुआ है। दिन के तापमान में गिरावट दर्ज की गई है। भोपाल में 41.9, इंदौर में 40, जबलपुर में 41.6 और ग्वालियर में 44.4 डिग्री तापमान दर्ज किया गया।

इधर, दिन से एक ही जगह अटका मानसून भी अब ट्रैक पर लौट रहा है। इस बारे में मौसम विभाग ने गुरुवार को बताया कि पश्चिमी विक्षोभ सक्रिय होने से 11 जून से थोड़ी राहत मिलेगी। मानसून अगले दो दिन में महाराष्ट्र पहुंचने की संभावना है। महाराष्ट्र पहुंचने के अगले दो दिन में मुंबई तक पहुंचने की संभावना है। 15 जून के बाद मानसून मध्यप्रदेश पहुंच जाएगा।

IMD के वैज्ञानिक आरके जेनामणि के मुताबिक अगले दो दिन में गोवा और महाराष्ट्र, कर्नाटक, आंध्र प्रदेश और तमिलनाडु के कुछ और हिस्सों में मानसून के आगे बढ़ने के लिए परिस्थितियां अनुकूल हैं। 15 जून से देश के मध्य और उत्तर के मैदानी इलाकों में मानसून की रफ्तार में तेजी आने की संभावना है।

एक सप्ताह पहले तक प्रदेश में खूब गर्मी पड़ रही थी। कुछ जिलों में तो पारा 46 डिग्री के पार पहुंच गया था। लू का असर भी था, लेकिन प्री-मानसून एक्टिव होने के बाद लू का असर नहीं है। धूप का तीखापन भी कम हुआ है। हालांकि, अभी रात का पारा बढ़ा हुआ है।

बैतूल जिले के आमला क्षेत्र के चुटकी रतेड़ा में आज दोपहर करीब 3 बजे मौसम अचानक बदल गया। आंधी से घरों के छप्पर उड़ गए। कई घरों की दीवारें ढह गई। पेड़ भी उखड़ गए। एक घंटा जमकर हुई बारिश से चुटकी और शिवपुरी क्षेत्र तक जनजीवन अस्त व्यस्त हो गया। इसमें ट्रांसफार्मर और बिजली के खंभों को भी नुकसान पहुंचा है। ग्राम चुटकी के निवासी अशोक इवने ने बताया कि घरों की सीटें उड़ गई। करीब 50 पेड़ उखड़ गए। अचानक हुई बारिश के बीच लोगों ने सुरक्षित स्थानों पर पहुंच कर अपने आप को बचाया।