झूठे हैं राष्ट्रपति मुइज्जू… मालदीव में हजारों भारतीय सैनिकों की मौजूदगी के दावे पर पूर्व विदेश मंत्री का बड़ा खुलासा, धो डाला

President Muizzu is a liar... Former Foreign Minister's big revelation on the claim of presence of thousands of Indian soldiers in Maldives, washed away
President Muizzu is a liar... Former Foreign Minister's big revelation on the claim of presence of thousands of Indian soldiers in Maldives, washed away
इस खबर को शेयर करें

माले: मालदीव के पूर्व विदेश मंत्री अब्दुल्ला शाहिद ने कहा है कि भारतीय सैनिकों की मौजूदगी के बारे में राष्ट्रपति मोहम्मद मुइज्जू ने देश से झूठ बोला है। उन्होंने कहा कि मुइज्जू ने कई झूठ जनता के सामने परोसे हैं, जिनमें एक ये भी है कि मालदीव में हजारों भारतीय सैन्यकर्मी तैनात हैं। सच ये है कि किसी अन्य देश के हथियारबंद सैनिक माले में तैनात नहीं है। शाहिद का ये बयान ऐसे समय आया है जब राष्ट्रपति मुइज्जू ने भारत से आग्रह किया है कि वह मालदीव से अपने 80 रक्षाकर्मियों को वापस बुलाने का बार-बार अनुरोध किया है।

सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म एक्स पर एक पोस्ट में विपक्षी मालदीवियन डेमोक्रेटिक पार्टी (एमडीपी) के प्रमुख और देश के सीनियर नेताओं में शुमार अब्दुल्ला शाहिद ने लिखा, “मोहम्मद मुइज्जू के बतौर राष्ट्रपति 100 दिन पूरे करने के बाद यह साफ है कि उन्होंने कई झूठ बोले हैं। हजारों भारतीय सैन्यकर्मियों के होने का दावा भी उनके झूठों की सीरीज का एक हिस्सा थे। इस समय प्रशासन की विदेशी सैन्यकर्मियों की संख्या ना बताया जाना, उनके झूठ के बारे में बहुत कुछ कहती है। इस समय देश में कोई भी सशस्त्र विदेशी सैनिक तैनात नहीं हैं। मुइज्जू को ये समझना चाहिए कि पारदर्शिता बहुत मायने रखती है और सच्चाई कायम रहनी चाहिए।”

मुइज्जू ने बनाया है भारतीय सैन्यकर्मियों की मौजूदगी को मुद्दा
मालदीव में वर्तमान में समुद्री गश्ती विमान और दो एचएएल ध्रुव हेलीकॉप्टरों के साथ करीब 70 भारतीय सैनिक तैनात हैं। मालदीव से भारतीय सैनिकों को हटाना मोहम्मद मुइज्जू और उनकी पार्टी का मुख्य एजेंडा रहा है। बीते साल चुनाव प्रचार के दौरान मुइज्जू बार-बार अपने भाषणों में भारतीय सैनिकों को वापस भेजने की बात कही थी। उनके चुनाव प्रचार का एक अहम हिस्सा भारत विरोध रहा था। उन्होंने इंडिया आउट की बात अपने चुनाव के समय कई बार दोहराई थी।

चुनाव जीतने और राष्ट्रपति का पद संभालने के बाद मोहम्मग मुइज्जू ने आधिकारिक तौर पर भारत सरकार से मालदीव से अपने सैन्यकर्मियों को वापस बुलाने के लिए कह दिया था। पिछले दिसंबर में मुइज्जू ने दावा किया था कि भारत सरकार के साथ बातचीत के बाद भारतीय सैन्यकर्मियों को वापसी पर सहमति बन गई है। उन्होंने कहा था कि वार्ता में इस बात पर सहमति बनी है कि तीन विमानन प्लेटफार्मों में से एक पर सैन्यकर्मियों को 10 मार्च, 2024 से पहले वापस बुलाए जाएगा। बाकी दो प्लेटफार्मों से सैन्यकर्मियों को 10 मई, 2024 से पहले वापस भारत भेज दिया जाएगा।