कमलनाथ पर इस्तीफे का दबाव, पायलट को जिम्मेदारी देने के संकेत…हार के बाद कांग्रेस बना रही आगे की रणनीति

Pressure on Kamal Nath to resign, indications of giving responsibility to Pilot...Congress is making further strategy after the defeat.
इस खबर को शेयर करें

नई दिल्ली: मध्य प्रदेश,राजस्थान और छत्तीसगढ़ में चुनावी हार के बाद कांग्रेस के अंदर मंथन का दौर शुरू हो गया है। इस बार पार्टी हार के बाद इसकी जिम्मेदारी तय करने और इन राज्यों में नए नेतृत्व को भी उभारने की रणनीति पर काम कर सकती है। पार्टी को सबसे ज्यादा झटका मध्य प्रदेश से लगा है। हार के बाद दिल्ली आए प्रदेश अध्यक्ष और चुनाव में पार्टी का चेहरा बने कमलानाथ ने मंगलवार देर शाम कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे से मुलाकात की।

सूत्रों के मुताबिक, खरगे ने उन्हें खुद से इस्तीफा देने को कह दिया है। हालांकि, कमलनाथ अभी भी चुने विधायकों के साथ पार्टी नेतृत्व पर दबाव बनाने की कोशिश कर रहे हैं, लेकिन इस बार पार्टी उनकी सुनने को तैयार नहीं है। पार्टी के एक सीनियर नेता ने कहा कि मध्य प्रदेश में पार्टी नया नेतृत्व खड़ा करेगी। उसी तरह राजस्थान में भी कांग्रेस विपक्ष का नेता और प्रदेश अध्यक्ष के साथ पूरा नया नेतृत्व तैयार करेगी। इस बार पार्टी स्पष्ट रूप से सचिन पायलट को बड़ी जिम्मेदारी देने के पक्ष में है और 2028 चुनाव के लिए अभी से संदेश देना चाहती है।

कांग्रेस अगले चुनावों में कोई कसर नहीं छोड़ना चाहती
9 दिसंबर को राजस्थान के मसले पर पार्टी की मीटिंग भी होनी है। इसमें पार्टी के सभी सीनियर नेता भाग लेंगे। उसमें हार के कारणों की समीक्षा भी होगी। उधर, छत्तीसगढ़ में पार्टी अभी तुरंत बड़ा बदलाव करने के मूड में है। हार की समीक्षा के लिए जल्द मीटिंग होगी। सूत्रों के मुताबिक, कांग्रेस आम चुनाव के हिसाब से भी अभी से तैयारी करना चाहती है और तीनों राज्यों में बड़े नामों को इस बार उतारेगी। पार्टी तेलंगाना में जीत के बाद उसका लाभ पड़ोसी राज्यों में उठाना चाहती है। पार्टी को लगता है कि इस जीत का लाभ आंध्र प्रदेश और ओडिशा में मिल सकता है। अब दोनों राज्यों में पार्टी अगले कुछ दिनों में आक्रामक रूप से उतर सकती है।

रेवंत रेड्डी ने पार्टी नेतृत्व से की मुलाकात
बुधवार को तेलंगाना में नव निर्वाचित मुख्यमंत्री रेवंत रेड्डी संसद में आकर्षण का केंद्र रहे। वह अभी कांग्रेस सांसद भी है। उन्होंने बुधवार को ही पार्टी नेतृत्व से मुलाकात की। पार्टी अध्यक्ष खरगे के अलावा उन्होंने सोनिया गांधी, राहुल गांधी और प्रियंका गांधी से भी मुलाकात की। वे गुरुवार को सुबह तेलंगाना में नए सीएम के रूप में शपथ लेंगे।