राजस्थान: अलवर में 8 लोगों ने नाबालिग से किया सामूहिक दुष्कर्म, वीडियो वायरल करने के नाम पर 50 हजार ऐंठे

राजस्थान के अलवर से इंसानियत को शर्मसार करने वाला मामला सामने आया है। यहां एक नाबालिग के साथ कथित तौर पर आठ लोगों ने सामूहिक दुष्कर्म किया। यहीं नहीं आरोपियों ने वीडियो भी बना लिया और ब्लैकमेल कर 50 हजार रुपए की उगाही भी की।

Rajasthan: 8 people gang-raped a minor in Alwar, 50 thousand in the name of making the video viral
Rajasthan: 8 people gang-raped a minor in Alwar, 50 thousand in the name of making the video viral
इस खबर को शेयर करें

अलवर। राजस्थान के अलवर से इंसानियत को शर्मसार करने वाला मामला सामने आया है। यहां एक नाबालिग के साथ कथित तौर पर आठ लोगों ने सामूहिक दुष्कर्म किया। यहीं नहीं आरोपियों ने वीडियो भी बना लिया और ब्लैकमेल कर 50 हजार रुपए की उगाही भी की। सभी आरोपी 20 वर्ष या इससे कम उम्र के हैं।

पुलिस के मुताबिक सबसे पहले मुख्य आरोपी ने जिले के किशनगढ़ बास थाना क्षेत्र की रहने वाली 16 वर्षीय लड़की को निजी फोटोज के नाम पर ब्लैकमेल किया। आरोपी ने कहा कि अगर उसने 50,000 रुपए नहीं दिए तो तस्वीरें सार्वजनिक कर देगा। वहीं, जब लड़की ने रुपए दे दिए तो मुख्य आरोपी समेत आठ लोगों ने उसके साथ सामूहिक दुष्कर्म किया। इस घटना के बाद बुधवार को नाबालिग लड़की के भाई ने मामला दर्ज कराया है।

जानिए आखिर क्यों? MP के गरबा पंडालों में पोस्टर पर लिखा है ‘गैर हिंदुओं का प्रवेश वर्जित है’ जानिए आखिर क्यों? MP के गरबा पंडालों में पोस्टर पर लिखा है ‘गैर हिंदुओं का प्रवेश वर्जित है’

पुलिस के मुताबिक 31 दिसंबर, 2021 को साहिल नामक मुख्य आरोपी ने कक्षा 8वीं में पढ़ने वाली एक छात्रा को फोन कर गांव के बाहर बुलाया। जब छात्रा आई तो मुख्य आरोपी सहित 7 अन्य लोगों ने उसे पकड़ लिया और यौन शोषण किया। इसके अलावा आरोपियों ने इस कृत्य का वीडियो भी बना लिया।

आरबीआई ने फिर बढ़ाईं ब्याज दरें, 50 बेसिस प्वाइंट बढ़ाया रेपो रेट
इसके बाद भी आरोपियों ने वीडियो वायरल करने के नाम पर उसके साथ कई बार दुष्कर्म किया और अप्रैल व जून के बीच में 50000 रुपए भी ऐठ लिए। वहीं, आरोपियों ने बाद में भी नाबालिग से पैसा मांगना जारी रखा। हालांकि, जब नाबालिग और पैसे नहीं दे सकी तो आरोपियों ने वीडियो को एक स्थानीय सोशल ग्रुप पर डाल दिया।

पुलिस उपाधीक्षक (डीएसपी) अतुल आगरा ने बताया कि फिलहाल भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा 376 डी और यौन अपराधों से बच्चों का संरक्षण (पोक्सो) अधिनियम के तहत प्राथमिकी दर्ज की गई है। प्रथम दृष्टया आरोप सही प्रतीत होते हैं। हालांकि, अभी आरोपियों की गिरफ्तारी नहीं हुई है। उन्हें जल्द से जल्द गिरफ्तार किया जा सके, इसके लिए पुलिस की एक टीम लगा दी गई। आरोपियों की गिरफ्तारी के बाद पूछताछ में और अधिक खुलासे होंगे। इसके बाद मामले में जांच के बाद कार्रवाई की जाएगी।