नीतीश कुमार की ‘फिसली जुबान’ पर जदयू-राजद में रार!

सियासत में किसी भी बयान की अहमियत उसकी टाइमिंग को लेकर काफी महत्वपूर्ण हो जाती है. फिर तो किसी भी दिए बयान के अर्थ खोजे जाने लगते हैं.

Rar in JDU-RJD on Nitish Kumar's 'slippery tongue'!
Rar in JDU-RJD on Nitish Kumar's 'slippery tongue'!
इस खबर को शेयर करें

पटना: कुछ दिन पहले बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने एक कार्यक्रम के दौरान संबोधन में बिहार के उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव को मुख्यमंत्री संबोधित कर दिया था. जदयू की ओर से इस बात को तब नीतीश कुमार की ज़ुबान फिसलना बताया गया था. लेकिन, उसके कुछ दिन बाद ही राजद के प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह ने एक बयान दिया, जिसे नीतीश कुमार की जुबान फिसलने वाले बयान से जोड़ कर देखा जा रहा है. उनके इस बयान ने बिहार की सियासत में हलचल तेज कर दी है. दरअसल, जगदानंद सिंह के बयान पर JDU संसदीय बोर्ड के अध्यक्ष उपेन्द्र कुशवाहा ने भी कड़ी नसीहत वाला पलटवार कर दिया है.

दरअसल, राजद प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह ने कहा कि नीतीश कुमार घोषणा के अनुसार, हमें लगता है कि 2022 बीतने के बाद 2023 में वह देश की लड़ाई लड़ेंगे और बिहार के भविष्य की लड़ाई तेजस्वी यादव के हाथों सौंप देंगे. जगदानंद सिंह से ये भी सवाल किया गया कि क्या CM पद के साथ सौंपेंगे, तो उनका जवाब था तो और क्या? प्रशासनिक ओहदा तो वही है न ! हमारी कार्यपालिका की शक्ति मुख्यमंत्री में निहित है.

जाहिर है जगदानंद सिंह का ये बयान बिहार के सियासत में हलचल मचाने के लिए काफी था. उनके बयान और टाइमिंग को लेकर तरह-तरह के सवाल खड़े होने लगे. बयान के अर्थ भी निकाले जा रहे हैं कि आखिर इस बयान की वजह क्या है? क्या वाकई नीतीश कुमार मुख्यमंत्री की कुर्सी छोड़ केंद्र की राजनीति में जाएंगे और तेजस्वी बिहार के मुख्यमंत्री की कुर्सी संभालेंगे. लेकिन, इस सवाल पर जब JDU संसदीय बोर्ड के अध्यक्ष उपेन्द्र कुशवाहा से सवाल पूछा गया तो उनका जो जवाब था वो और भी राजनीतिक सरगर्मी बढ़ा गया.

तेजस्वी यादव की ताजपोशी पर राजद नेताओं के बयान पर मंत्री सुमित सिंह ने नसीहत दी है. उन्होंने कहा कि अभी हमारे नेता बिहार की सेवा करेंगे. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जब 2024 में प्रधानमंत्री बनेंगे, तब बिहार में तेजस्वी यादव की ताजपोशी होगी. उससे पहले नीतीश कुमार मुख्यमंत्री के पद पर हैं और आगे भी रहेंगे. उन्होंने कहा कि कौन क्या बोलता है हमको नहीं पता. वैसे नीतीश कुमार का एकाधिकार है कि जब तक वो चाहेंगे मुख्यमंत्री बने रहेंगे.

जगदानंद सिंह के बयान पर जेडीयू के प्रदेश अध्यक्ष उमेश कुशवाहा ने कहा कि हम इन बयानों पर नोटिस नहीं लेते हैं. हर चीज पर बयान दें यह जरूरी नहीं. वहीं जेडीयू कोटे से मंत्री अशोक चौधरी से जब तेजस्वी यादव को अगले साल ताजपोशी के दावे पर सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि किसी के व्यक्तिगत विचार और बेतुके बयान पर रिएक्ट करने की जरूरत नहीं है.