PUBG की वजह से नहीं हुई थी साधना की हत्या, माँ के अफेयर से गुस्से में था बेटा

यूपी के लखनऊ में हुए PUBG हत्याकांड में चौंकाने वाला खुलासा हुआ है। मां साधना सिंह की हत्या के पीछे PUBG गेम वजह नहीं थी। बेटा अपनी माँ के अफेयर की वजह से गुस्से में था,

Sadhna was not killed because of PUBG, son was angry with mother's affair
Sadhna was not killed because of PUBG, son was angry with mother's affair
इस खबर को शेयर करें

लखनऊ। यूपी के लखनऊ में हुए PUBG हत्याकांड में चौंकाने वाला खुलासा हुआ है। मां साधना सिंह की हत्या के पीछे PUBG गेम वजह नहीं थी। बेटा अपनी माँ के अफेयर की वजह से गुस्से में था, उसने आसनसोल में तैनात अपने फौजी पिता को मां की बिल्डर से दोस्ती के बारे में बताया भी था। साधना के मर्डर के बाद बिल्डर पर आंच न आए, इसके लिए पुलिस ने PUBG की थ्योरी गढ़ डाली।

लखनऊ में पांच जून की रात हुए इस क़त्ल का ख़ुलासा 7 जून की रात को हुआ था। जब नाबालिग बेटे ने आसनसोल में तैनात अपने पिता को फोन पर मां की मौत की ख़बर दी थी। 7 जून की रात आरोपी बेटे ने पिता नवीन को फोन किया। नवीन के मुताबिक फोन पर उनकी 49 सेकंड बात हुई। इस 49 सेकंड में बेटे ने बताया कि मां को मार डाला है। नवीन ने कहा कि मां की लाश दिखाओ। इसके बाद कॉल कट हो गई। फिर बेटे ने वीडियो कॉल किया और उस कमरे का दरवाजा खोला जिसमें साधना का सड़ा हुआ शव पड़ा था।

इसी दौरान उसने कमरे से पिस्टल उठाई, जिससे मां को गोली मारी थी। इस पिस्टल को नवीन को दिखाते हुए कमरे से बाहर निकला। इसके बाद पिस्टल डाइनिंग टेबल पर रख दिया। इस बार दोनों की करीब आधे घंटे बातचीत हुई। इस हत्याकांड के बाद बेटे ने बाल कल्याण समिति को बताया कि ‘जब पापा नहीं होते थे, तब मम्मी से मिलने प्रॉपर्टी डीलर वाले अंकल आते थे। यह देखकर मुझे बहुत बुरा लगता था। मैंने इस बात की शिकायत एक दिन पापा से कर दी। जिसके बाद पापा और मम्मी के बीच जमकर लड़ाई हुई। इसके बाद मम्मी ने मुझे खूब मारा। तभी से मेरे मन में अंदर से गुस्सा भरा था।

इस हत्याकांड की जमीन एक साल पहले तैयार हुई थी। जब आरोपी बेटा अपने मामा के घर बनारस से लखनऊ वापस आया। उसने मां साधना के मोबाइल में कुछ कॉल रिकार्डिंग सुनी। इसमें उसकी मां किसी शख्स से बात कर रही थी। बेटे को अंदाजा हो गया कि पिता की बाहर पोस्टिंग होने की वजह से मां किसी दूसरे इंसान के करीब चली गई हैं।

निजी जिंदगी में बेटे का दखल और उसकी वजह से पति से दूरियां साधना को बर्दाश्त नहीं हुईं। वो बेटे को घर में नौकर की तरह रखने लगी। झाड़ू, पोछा से लेकर कपड़े साफ करने तक का बोझ बेटे पर डाल दिया। बेटा सब कुछ झेलता रहा, क्योंकि पिता नवीन की पोस्टिंग बहुत दूर आसनसोल में थी। मां की ये हरकतें बेटे के दिल मे नफरत भरती गईं। बेटा यह सब पिता को फोन पर बताता रहा।

उसने बताया कि उसकी मां ने उसे कई बार अलग-अलग बात पर मारा और खाना नहीं दिया। कई बार मां ने गुस्से में कहा कि तुझे जहर देकर मार दूंगी। तुम्हारा गला घोंट दूंगी। यह सब सुनकर कई बार गुस्सा आता था। उसने कुबूल किया इसी कारण से वह घर से पांच से छह बार भागा था। इस दौरान कई बार उसके मन में खुदकुशी करने का भी ख्याल आया। उसने सारी बात हर बार अपने पिता को बताई। वो इस बात से भी नाराज था कि ‘पापा को सब जानकारी थी कि घर में क्या चल रहा है और इसके लिए गुस्सा भी करते लेकिन कुछ नहीं करते थे। उसने इसलिए खुद ही मां को गोली मार दी।

बेटे ने पिता से कहा था कि अंकल मां से मिलने आते हैं। इस पर पिता ने बेटे को कहा था कि मैं वहां होता तो बिल्डर और तुम्हारी मां, दोनों को पिस्तॉल उठाकर गोली मार देता। अब जो तुम्हें समझ में आए वो करो। बेटा पिता की यही बात सुनकर भड़का और उसने मां की हत्या की प्लानिंग की।