श्रद्धा के किलर की और कितनी Girlfriends? पॉलीग्राफ टेस्ट में निकला होश उड़ाने वाला सच

श्रद्धा वालकर(जिसे वॉकर कहा जा रहा है) हत्याकांड(horrific Shraddha Walker murder case) में कई बड़े राज़ सामने आ रहे हैं। पॉलीग्राफ टेस्ट में अपनी लिव इन पार्टनर की जघन्य तरीके से हत्या के आरोप आफताब अमीन पूनावाला ने जुर्म कबूल कर लिया।

Shraddha's killer has how many more girlfriends? Shocking truth revealed in polygraph test
Shraddha's killer has how many more girlfriends? Shocking truth revealed in polygraph test
इस खबर को शेयर करें

नई दिल्ली. श्रद्धा वालकर(जिसे वॉकर कहा जा रहा है) हत्याकांड(horrific Shraddha Walker murder case) में कई बड़े राज़ सामने आ रहे हैं। पॉलीग्राफ टेस्ट में अपनी लिव इन पार्टनर की जघन्य तरीके से हत्या के आरोप आफताब अमीन पूनावाला ने जुर्म कबूल कर लिया। हालांकि उसे अपने किए पर कोई पछतावा भी नहीं है। पॉलिग्राफ टेस्ट करने वाले अधिकारियों के हवाले से मीडिया ने खबर दी कि आफताब के मुंह से चल निकल आया है। उसने श्रद्धा के मर्ड की बात कबूल कर ली। लेकिन उसने किसी भी तरह के पछतावे से साफ मना किया। टेस्ट में आफताब ने यह भी माना कि उसके कई लड़कियों से रिलेशन रहे हैं।

सामने आ चुकी है एक गर्लफ्रेंड
पिछले दिनों पुलिस की पूछताछ में श्रद्धा के अलावा आफताब की दूसरी गर्लफ्रेंड सामने आई थी। पुलिस ने उससे पूछताछ की थी। रिपोर्ट्स के मुताबिक, आफताब की दूसरी गर्लफ्रेंड पेशे से साइकोलॉजिस्ट है। आफताब की उससे मुलाकात भी डेटिंग ऐप के जरिए ही हुई थी। लड़की के मुताबिक, आफताब ने उसे उसी फ्लैट में बुलाया था, जहां उसने श्रद्धा का कत्ल किया है। पूछताछ के दौरान जब पुलिस ने उसकी गर्लफ्रेंड से आफताब की दरिंदगी के बारे में बताया तो वो उसकी क्रूरता सुन शॉक्ड रह गई। सूत्रों के मुताबिक, पुलिस पूछताछ में लड़की ने बताया है कि आफताब उससे एकदम अलग तरीके से पेश आता था। उसे बिल्कुल भी यकीन नहीं हो रहा है कि जिसे वो प्यार करती थी वो एक हत्यारा है।

एक दिसंबर को होगा नार्को टेस्ट
दिल्ली की एक अदालत ने मंगलवार(29 नवंबर) को दिल्ली पुलिस को आफताब अमीन पूनावाला का नार्को टेस्ट कराने की अनुमति दी थी। पूनावाला के वकील अविनाश कुमार के अनुसार, पुलिस ने 1 दिसंबर और 5 दिसंबर को पूनावाला को फॉरेंसिक साइंस लैब, रोहिणी ले जाने के लिए एक आवेदन दायर किया था, जिसे अदालत ने स्वीकार कर लिया। पुलिस ने पहले कहा था कि एफएसएल के विशेषज्ञों की एक टीम द्वारा रोहिणी के बाबा साहेब अंबेडकर अस्पताल में नार्को टेस्ट किया जाएगा।

दिल्ली पुलिस प्रमुख ने श्रद्धा वाकर हत्याकांड के आरोपी आफताब अमीन पूनावाला को सोमवार(28 नवंबर) को जेल ले जा रही वैन पर हुए हमले के दौरान सूझबूझ(resence of mind) का परिचय देने वाली पुलिस एस्कॉर्ट टीम की सराहना की है। दिल्ली पुलिस कमिश्नर संजय अरोड़ा ने मंगलवार को दिल्ली सशस्त्र पुलिस की तीसरी बटालियन के विकास पुरी पुलिस लाइन कार्यालय का दौरा किया और टीम से मुलाकात की। उन्होंने स्थिति से निपटने के लिए उनकी सराहना की। उन्होंने प्रत्येक सदस्य को नगद पुरस्कार भी प्रदान किया। दो सब इंस्पेक्टरों को 10-10 हजार रुपये, दो हेड कॉन्स्टेबलों को 5-5 हजार रुपये और प्रत्येक सिपाही को 5-5 हजार रुपये के पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

पुलिस कमिश्नर (तीसरी बटालियन) ढाल सिंह ने कहा कि सोमवार को विचाराधीन कैदी (undertrial prisoner-UTP) पूनावाला को सेंट्रल जेल (तिहाड़) से फोरेंसिक साइसं लैबोरेटरी रोहिणी ले जाया गया था। शाम (सोमवार) को लगभग 6.45 बजे, जब UTP FSL लैब से तिहाड़ जेल तक एस्कॉर्ट करने के लिए तैयार था। जब जेल वैन एफएसएल रोहिणी कार्यालय से चली और गेट पार कर गई, तो अचानक लोगों के एक समूह ने अपने हाथों में तलवारें लेकर जेल वैन पर हमला कर दिया, लेकिन तीसरी बटालियन डीएपी की कमान ने सूझबूझ का परिचय दिया और तेजी से जेल वैन को वहां से हटा दिया। इस तरह एस्कॉर्टिंग टीम ने एक बड़ा हादसा होने से बचा लिया और विचाराधीन कैदी को सुरक्षित सेंट्रल जेल (तिहाड़) ले आई।”

यह है पूरा मामला
श्रद्धा के लिव इन पार्टनर आफताब अमीन ने 18 मई की रात 10 बजे श्रद्धा का कत्ल कर दिया। इसी दिन दोनों का जमकर झगड़ा हुआ था। दरअसल, श्रद्धा लगातार आफताब पर शादी के लिए दबाव बना रही थी, लेकिन वो इसे टाल रहा था। पूनावाला ने कथित तौर पर 27 वर्षीय श्रद्धा वालकर का गला घोंट दिया था। उसके शरीर के 35 से 36 टुकड़े कर दिए थे, जिसे उसने कई दिनों तक शहर भर में फेंकने से पहले दक्षिण दिल्ली में अपने महरौली स्थित आवास पर लगभग तीन सप्ताह तक 300 लीटर के फ्रिज में रखा था।

पूनावाला को 12 नवंबर को गिरफ्तार किया गया था। उसे तब पांच दिन की पुलिस हिरासत में भेज दिया गया था, जिसे 17 नवंबर को पांच दिनों के लिए और बढ़ा दिया गया था। 22 नवंबर को उसे चार दिन की पुलिस हिरासत में भेज दिया गया। अदालत ने 26 नवंबर को उसे 13 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया था।