छत्तीसगढ़ में झमाझम बारिश से गिरा तापमान, अब आंधी-बारिश की संभावना, IMD ने दी चेतावनी

Temperature dropped due to heavy rain in Chhattisgarh, now possibility of thunderstorm, IMD warns
Temperature dropped due to heavy rain in Chhattisgarh, now possibility of thunderstorm, IMD warns
इस खबर को शेयर करें

रायपुर: छत्तीसगढ़ की राजधानी में रविवार को अधिकतम तापमान सामान्य तापमान से 2 डिग्री कम रहा। न्यूनतम तापमान में भी गिरावट आई। हालांकि, बादल छाए रहने के कारण उमस अधिक रही, जिससे लोग बेचैन रहे। मौसम विभाग का अनुमान है कि मंगलवार को सुबह से ही आसमान में बादल छाये रहेंगे और शाम या रात में गरज के साथ हल्की बारिश हो सकती है। सोमवार को रायपुर में अधिकतम तापमान 40.2 डिग्री दर्ज किया गया जो सामान्य से 1.9 डिग्री कम रहा। न्यूनतम तापमान 25.7 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जो सामान्य से 2.2 डिग्री कम था। प्रदेश में सबसे अधिक तापमान दुर्ग और डोंगरगढ़ जिले में 42.2 डिग्री दर्ज किया गया। वहीं, सबसे कम तापमान नारायणपुर जिले में 20.3 डिग्री दर्ज किया गया।

बस्तर संभाग के सभी जिलों में बारिश

रविवार को बस्तर संभाग के सभी जिलों में मध्यम से भारी बारिश हुई। मौसम विभाग के अनुसार सुकमा में सबसे अधिक 12 सेंटीमीटर और छिंदगढ़ में 9 सेंटीमीटर बारिश दर्ज की गई। बड़ेराजपुर में 5 सेंटीमीटर, कटेकल्याण, बास्तानार, कोंटा, जगदलपुर और भोपालपटनम में 3 सेंटीमीटर बारिश हुई। कुंआकोंडा, बीजापुर, केशकाल, दंतेवाड़ा और लोहंडीगुड़ा में 2 सेंटीमीटर जबकि उसूर, कांकेर, दरभा, गीदम और भैरमगढ़ में 1 सेंटीमीटर बारिश दर्ज की गई।

मौसम विभाग के अनुसार कई द्रोणिकाएं बनी हुई हैं, जिससे बारिश की संभावना है। एक द्रोणिका उत्तर-पश्चिम उत्तर प्रदेश से पूर्वी उत्तर प्रदेश होते हुए उत्तरी बिहार तक समुद्र तल से 0.9 किमी ऊपर स्थित है। दूसरी द्रोणिका पूर्वी उत्तर प्रदेश से मध्य प्रदेश होते हुए मध्य महाराष्ट्र तक समुद्र तल से 1.5 किमी ऊपर तक फैली है। तीसरी द्रोणिका मध्य महाराष्ट्र और आसपास के क्षेत्र में समुद्र तल से 0.9 किमी ऊपर बनी हुई है। चौथी द्रोणिका मध्य महाराष्ट्र के ऊपर स्थित चक्रवाती परिसंचरण से आंतरिक कर्नाटक होते हुए दक्षिण तमिलनाडु तक समुद्र तल से 0.9 किमी ऊंचाई पर स्थित है।