लड़का कर रहा था अपनी बैटिंग का इंतजार, लड़की कर रही थी सहेलियों से बात… तभी आया अटैक और चली गई जान

The boy was waiting for his batting, the girl was talking to her friends... then the attack came and she lost her life.
The boy was waiting for his batting, the girl was talking to her friends... then the attack came and she lost her life.
इस खबर को शेयर करें

गुना/राजगढ़: कोविड के बाद देश में हार्ट अटैक के मामलों में तेजी आई है। कम उम्र के लोग भी इसकी चपेट में आ रहे हैं। मध्य प्रदेश में गुना और राजगढ़ जिले में ऐसे चौंकाने वाले मामले सामने आए हैं। गुना में अपनी बैटिंग के इंतजार में बैठे एक क्रिकेटर की हार्ट अटैक से मौत हो गई है। वहीं, राजगढ़ में अपनी सहेलियों के साथ बैठी एक 17 साल की छात्रा को अटैक आया है। अस्पताल पहुंचाने पर दोनों को ही डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया है।

दरअसल, राजगढ़ जिले के खुजनेर में 17 साल की उम्र में एक स्कूली छात्रा की हार्ट अटैक से जान चली गई। घटना की जानकारी लगते ही स्कूल शोक की लहर है। जानकारी के अनुसार घटना नवोदय विद्यालय में रविवार दोपहर को हुई, जब 17 साल की 12 वीं की छात्रा रिंकू पुत्री गंगाराम यादव खुजनेर देहरीबामन अपनी सहेलियों के साथ बात कर रही थी। इस दौरान वह अचानक नीचे गिर पड़ी। इसके बाद सहेलियां उसे नीचे लेकर आईं और स्कूल प्रबंधन को जानकारी दी। बाद में स्कूल के लोग खुजनेर अस्पताल लेकर पहुंचे, जहां डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया।

गौरतलब है कि रविवार को छुट्टी की वजह से छात्राएं अपने परिजनों से मिल रही थी। इस दौरान मृतक बालिका रिंकू ने किसी के फोन से अपनी बड़ी बहन से बात की। कुछ देर बाद ही अटैक आ गया। कुछ देर बाद ही उसने दम तोड़ दिया। बालिका के साथ बैठी सेली श्रेया पालीवाल ने बताया कि हम तत्काल रिंकू को नीचे लाए और स्टॉफ को सूचना दी। तत्काल अस्पताल भी लेकर आ गए। मृतक बालिका राजगढ़ विधायक अमर सिंह यादव की पड़ोसी भी है।

हार्ट अटैक से क्रिकेटर की मौत
गुना जिले के फतेहगढ़ इलाके में भी एक युवक की हार्ट अटैक से मौत हो गई। जानकारी के अनुसार फतेहगढ़ ग्राउंड पर क्रिकेट मैच चल रहा था। युवक की टीम बैटिंग कर रही थी। वह अपनी बैटिंग का इंतजार कर रहा था। इसी दौरान उन्हें दिल का दौरा पड़ने से बमोरी निवासी 28 वर्षीय दीपक खांडेकर पुत्र रवि खांडेकर के सीने में अचानक दर्द हुआ और वो अचेत हो गया। इसके बाद परिजन उसे अस्पताल लेकर गए, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। फतेहगढ़ के ग्राउंड पर कॉलोनी और परवाह गांव के बीच मैच चल रहा था। दीपक की टीम बैटिंग कर रही थी। दीपक अपनी बारी का इंतजार कर रहे थे। इसी दौरान दीपक को अचानक सीने में दर्द हुआ और वह अचेत हो गया था।