केले से भरा था कंटेनर, खुफिया विभाग को हुआ शक, खोलकर देखा तो अंदर मिला 47 अरब रुपये का खजाना, लेकिन…

The container was full of bananas, the intelligence department got suspicious, when they opened it, they found treasure worth Rs 47 billion inside, but...
The container was full of bananas, the intelligence department got suspicious, when they opened it, they found treasure worth Rs 47 billion inside, but...
इस खबर को शेयर करें

दुनिया में कई बार ऐसी कीमती चीज कानून को हाथ लगती है जिसकी कीमत तो अरबों की होती है, पर फिर भी काम की नहीं होती है. कोकीन जैसा नशीले पदार्थ ऐसी ही ड्रग्स है. थोड़ी सी कोकीन की तस्करी के लिए लोग तरह तरह के तरीके अपनाते हैं. लेकिन जब मामला टनों का हो, फिर तो बात बहुत बड़ी हो जाती है. हाल ही में ब्रिटेन की पुलिस ने करीब 6 टन कोकीन पकड़ी है, जो केले के क्रेट्स में ले जाया जा रहा था 47 अरब रुपयों से अधिक की कीमत का सामान होने के बावजूद ये किसी काम नहीं थी फिर भी इसे पकड़ना जरूरी था.

यह ब्रिटेन में अब तक की सबसे ज्यादा मात्रा में पकड़ी गई ए क्लास की ड्रग्स है. नेशनल क्राइम एजेंसी एंड बॉर्डर फोर्स के एजेंट्स ने साउथैम्पटन पोर्ट के एक कंटेनर में कुल 5.7 टन की कोकीन जप्त की है जिसकी कीमत 45 करोड़ पाउंड यानी करीब 47 अरब 26 लाख रुपये से भी अधिक बताई जा रही है.

एनसीए का कहना है कि इस गैरकानूनी ड्रग्ग के ब्लॉक्स को जर्मनी के पोर्ट ऑफ हैमबर्ग तक ले जाया जा रहा था जहां से इसे आगे डिलिवरी के लिए जाना था लेकिन उससे पहले ही यह बीते 8 फरवरी को पकड़ लिए गए. एजेंसी के एक प्रवक्ता नकहा कि एजेंसी अपने यरोपीय पार्टर्नस से साथ इस तस्करी के पीछे के आपराधिक नेटवर्क की पहचान करने में काम कर रही थी.

इससे पहले ब्रिटेन में सबसे बड़ी ड्रग्स संबंधी धरपकड़ करीब 3.7 टन की कोकीन की थी जो 2022 में ही साउथैम्पटन में ही पकड़ा गया था और उससे पहले स्कॉटलैंड में 2015 में एक एमवी हमाल बोट में 3.2 टन की कोकीन पकड़ी गई थी. दिलचस्प बात यह है कि 2015 में पकड़ी गई कोकीन की कीमत 5.12 करोड़ पाउंड यानी 53 अरब 78 करोड़ रुपये है क्योंक उस समय स्कॉटलैंड के गलियों में कोकीन की कीमत बहुत ही ज्यादा थी.

एनसीए के आंकड़ों के मुताबिक हर साल केवल ब्रिटेन में ही क्रिमिनल गैंग्स 4.2 खरब की कमाई करते हैं. इस तरह की बहुत सारी नशीली ड्रग की तस्करी का गंभीर हिंसा से संबंध है जिसमें हाल के सालों में काफी इजाफा हुआ है. एनसीए का कहना है कि इतने बड़े पैमान पर ड्रग्स का पकड़े जाने से क्रिमिनल कार्टेल को बहुत ही ज्यादा नुकसान होगा.